एमपी उपचुनाव परिणाम: जिन पर 11-11 आपराधिक केस, जनता ने उनपर ही जताया भरोसा

सांकेतिक फोटो.
सांकेतिक फोटो.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 28 सीटों पर हुए उपचुनाव (By-elction) के नतीजे भले ही प्रत्याशियों के लिए चौंकाने वाले रहे हैं. सियासी मैदान में सबसे ज्यादा आपराधिक मामलों (Criminal Case) वाले प्रत्याशियों ने बाजी मार ली है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 28 सीटों पर हुए उपचुनाव (By-elction) के नतीजे भले ही प्रत्याशियों के लिए चौंकाने वाले रहे हैं. सियासी मैदान में सबसे ज्यादा आपराधिक मामलों (Criminal Case) वाले प्रत्याशियों ने बाजी मार ली है तो सबसे रईस प्रत्याशी को मैदान में पटखनी मिली है तो सियासी मैदान में रिश्तेदार भी भारी साबित हुए है. आगर सीट से विपिन वानखेड़े और सुमावली सीट से अजब सिंह कुशवाहा दोनों ने ही सियासी मैदान में बाजी मारी है. विपिन वानखेड़े और अजब सिंह पर 11-11 यानी सबसे ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज रहे हैं. दागी छवि वाले अजब सिंह कुशवाहा और विपिन वानखेड़े ने सियासी मैदान में बाजी मार ली है.

बीजेपी प्रवक्ता राकेश शर्मा का कहना है कि कांग्रेस के जो प्रत्याशी जीते हैं, उनकी छवि दागी है. फिर भी जनता ने उन्हें जिताया. अजब सिंह कुशवाहा पर तो गंभीर मामले भी दर्ज है. जबकि बीजेपी ने तो साफ सुथरी छवि वालों को टिकट दिया था. बता दें कि मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर 3 नवंबर को उपचुनाव हुए, जिसके परिणाम 10 नवंबर को जारी हुए. इसमें 19 पर बीजेपी और 9 सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को हार मिली.

कांग्रेस ने लगाए आरोप
कांटे की टक्कर वाले उपचुनाव में सबसे अमीर प्रत्याशी को मैदान में पटखनी मिली है. सांवेर सीट से सबसे ज्यादा 86.98 करोड़ की संपत्ति वाले प्रेमचंद गुड्डू को भाजपा के तुलसीराम सिलावट से सियासी मैदान में शिकस्त मिली है. उपचुनाव में रिश्तेदारी भी भारी साबित हुई है. भाजपा की इमरती देवी को अपने समधी सुरेश राजेश से हार मिली है. कांग्रेस प्रवक्ता मानक अग्रवाल का कहना है कि उनके प्रत्याशी की संपत्ति उनकी अपनी मेहनत से कमाई गई संपत्ति है और रही बात प्रत्याशियों पर केस के तो ज्यादातर पर धरना प्रदर्शन के तहत दर्ज किए गए मामले हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज