लाइव टीवी

भाजपाVsकांग्रेस: शिवराज के इस कदम के बाद 'एक्‍शन' में आई कमलनाथ सरकार, सोशल मीडिया का लिया सहारा

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 15, 2019, 7:33 PM IST
भाजपाVsकांग्रेस: शिवराज के इस कदम के बाद 'एक्‍शन' में आई कमलनाथ सरकार, सोशल मीडिया का लिया सहारा
किसानों को लेकर प्रदेश में सियासत.

मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Former Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) की चेतावनी के बाद मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) ने सोशल मीडिया पर अपनी बात रखी है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में बारिश और बाढ़ के हालात पर सियासत भी खूब हो रही है. एक तरफ जहां पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Former Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) किसानों के बीच पहुंचकर आंदोलन की चेतावनी दे रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) ने सोशल मीडिया में ट्वीट कर कहा है कि सरकार पीड़ितों के साथ खड़ी है. दरअसल, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान सूबे में बाढ़ से खराब हुई फसलों का जायजा लेने किसानों के बीच पहुंच रहे हैं.

भोपाल के बैरसिया पहुंचे शिवराज ने कमलनाथ सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अभी तो सरकार के निवेदन किया जा रहा है. सरकार 21 सितंबर तक फसलों का सर्वे कर मुआवजा राशि नहीं बांटती तो 22 तारीख को 1 घंटे के लिए वो किसानों के साथ सड़कों पर उतरेंगे. इन सबके बीच शिवराज ने किसानों के लिए व्हाट्सएप नम्बर 84230-84230 जारी कर मदद की पेशकश की है. इस नंबर पर किसान अपनी खराब फसल की जानकारी शिवराज तक भेज सकेंगे. शिवराज का दावा है कि वो इस जानकारी को जिम्मेदारों तक पहुंचाएंगे.

सोशल मीडिया का लिया सहारा
पूर्व सीएम ने किसानों के साथ खड़े होकर सियासत को हवा देने वाले बायनों के बीच सीएम कमलनाथ ने भी सोशल मीडिया में ट्वीट किया. सीएम ने लिखा,' प्रदेश के कई हिस्सों में अभी भी भारी बारिश अनवरत जारी है. मंदसौर, नीमच, रतलाम, आगर, शाजापुर, उज्जैन, खरगोन, ग्वालियर, धार-झाबुआ, खंडवा, भोपाल, इंदौर समेत प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश और हालात की निरंतर मॉनिटरिंग कर रहा हूं.'



इसके बाद अगले ट्वीट में सीएम ने लिखा,' अधिकारियों से सतत संपर्क में हूं, सभी आवश्यक निर्देश भी दे रहा हूं. इन क्षेत्रों में निरंतर राहत व बचाव कार्य किये जा रहे हैं. रेस्क्यू कर कई लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है. संकट की इस घड़ी में पूरी सरकार प्रभावित परिवारों के साथ मुस्तैदी से खड़ी है.'


Loading...

जबकि तीसरे ट्वीट में कमलनाथ ने लिखा,' पूर्व में ही नुक़सान व किसानों की फसल बर्बादी को लेकर सर्वे के निर्देश दिये जा चुके हैं. लगातार बारिश से सर्वे का कार्य प्रभावित हुआ है. सरकार की तरफ़ से प्रभावित परिवारों की हर संभव मदद की जाएगी.'



कितना हुआ नुकसान, कितनी तैयार है सरकार
प्रदेश में इन दिनों भारी बारिश का दौर जारी है. सरकार ने आपदा से निपटने के लिए एक हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है. जबकि करीब 45 हजार लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाकों से निकाला गया है. सोयाबीन और दाल की फसलों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. अनुमान के मुताबिक करीब 15 लाख हेक्टेयर में फसलों को नुकसान पहुंचा है.

ये भी पढ़ें-

 कांग्रेस सरकार का भगवा एजेंडा, संतों के निर्देश पर CM कमलनाथ करेंगे प्रदेश का विकास

भोपाल नाव हादसा : नाविकों की गिरफ्तारी के विरोध में सड़कों पर उतरे मांझी समाज के लोग, सरकार के सामने रखी ये मांग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 15, 2019, 7:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...