MP: इन 7 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 5% से ज्यादा, 1 जून के बाद भी ढील मिलने के आसार नहीं

इंदौर में सबसे ज्यादा 8.6 फीसदी पॉजिटिविटी रेट है और भोपाल में 8.4 फीसदी है.

इंदौर में सबसे ज्यादा 8.6 फीसदी पॉजिटिविटी रेट है और भोपाल में 8.4 फीसदी है.

शिवराज सरकार के लिए प्रदेश के 7 जिले बने चुनौती हुए हैं जहां पर पॉजिटिविटी रेट 5 फ़ीसदी से ज्यादा है ऐसे में इन शहरों में एक जून से कोरोना कर्फ्यू में ढील मिलना मुश्किल है.

  • Share this:

भोपाल. प्रदेश में तेजी के साथ कम हो रहे कोरोना संक्रमण के बीच प्रदेश के सात शहरों को कोरोना कर्फ्यू में ढील के लिए अभी इंतजार करना हो सकता है. प्रदेश के सात बड़े शहरों में कोरोना का संक्रमण अब भी बरकरार है. प्रदेश के सात जिले ऐसे हैं जहां पर पॉजिटिविटी रेट पांच फीसदी से ज्यादा है. जिन शहरों में पांच फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है, वहां पर एक जून से कोरोना कर्फ्यू में ढील नही मिलेगी. ऐसे सभी जिलों में कोरोना कर्फ्यू को आगे बढ़ाया जा सकता है. जहां 5 फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है. इन सात जिले इंदौर भोपाल सागर रतलाम रीवा सीधी अनूपपुर शामिल है.

इंदौर में सबसे ज्यादा 8.6 फीसदी, भोपाल में 8.4 फीसदी, सागर में 7.3, रतलाम में 7, रीवा में 6.5, सीधी में 5.2, अनूपपुर में 7.3 पॉजिटिविटी रेट है. तीन जिलों इंदौर भोपाल सागर में 100 से ज्यादा नए प्रकरण सामने आए हैं. इंदौर में 623 भोपाल में 433 सागर में 108 नए प्रकरण सामने आए हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री ने कहा है कि यदि अगले 5 दिनों में इन सात जिलों में पॉजिटिविटी रेट घटती है तो कोरोना कर्फ्यू में ढील दी जाएगी वर्ना कोरोना कर्फ़्यू को बढ़ाया जाएगा.

सीएम शिवराज ने आज क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के साथ की बैठक में एक जून से होने वाले अनलॉक को लेकर चर्चा की. दरअसल प्रदेश में साप्ताहिक औसत पॉजिटिविटी रेट 4.5 फीसदी है आज की पॉजिटिविटी रेट 3.1 फ़ीसदी रही है. प्रदेश के 45 जिलों में कोरोना का संक्रमण पांच फीसदी से कम हो गया है . संक्रमण कम होने को लेकर अब प्रदेश, देश में 19वें स्थान पर पहुंच गया है. सरकार की कोशिशें है कि 31 मई तक प्रदेश में कोरोना संक्रमण शून्य तक लाया जाए और इसके लिए तमाम तरह की कोशिशें की जा रही है लेकिन सरकार के लिए चुनौती प्रदेश के 7 जिले बने हुए हैं जहां पर पॉजिटिविटी रेट 5 फ़ीसदी से ज्यादा है ऐसे में इन शहरों में एक जून से कोरोना कर्फ्यू में ढील मिलना मुश्किल है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज