मध्य प्रदेश चुनाव: एक क्लिक में पढ़िए वोटिंग की पूरी प्रक्रिया

Madhya Pradesh Elections: सभी सियासी पार्टियों ने चुनाव प्रचार अभियान में मतदाताओं को रिझाने की भरपूर कोशिश की. अब बारी मतदाताओं की है. उन्हें अपना निर्णय मतदान के जरिए सुनाना है

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 28, 2018, 8:13 PM IST
Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 28, 2018, 8:13 PM IST
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए मतदान बुधवार को है. सभी सियासी पार्टियों ने चुनाव प्रचार अभियान में मतदाताओं को रिझाने की भरपूर कोशिश की. अब बारी मतदाताओं की है. उन्हें अपना निर्णय मतदान के जरिए सुनाना है इसी क्रम में न्यूज18 आपको वोटिंग से लेकर काउंटिंग तक की पूरी प्रक्रिया बताने जा रहा है.

लोकतंत्र के पर्व में कैसी होगी वोटिंग से लेकर काउंटिंग की पूरी प्रक्रिया? पोलिंग बूथ तक कैसे पहुंचेगी वीपी पैट मशीन. कब, कैसे और कहां क्या-क्या व्यवस्था होंगी? क्योंकि मतदान करने से पहले यह जानना भी जरूरी है कि आखिरकार कैसे लोकतंत्र के इस पर्व को संपन्न किया जाता है. (इसे पढ़ें- MP ELECTION: नोटा को लेकर हाईकोर्ट ने दिया चुनाव आयोग को नोटिस)

दरसअल, वीपी पैट मशीन को पोलिंग बूथ तक ले जाने और मतदान कराने के बाद उसे वापस स्टांग रूम तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए तमाम व्यवस्थाएं की जाती है. चुनाव आयोग ने इन तमाम व्यवस्थाओं का सरलीकरण किया है, ताकी 2018 का चुनाव आसानी से संपन्न हो सके.

ये है व्यवस्था

-मतदान सामग्री वितरण केंद्र में वीपी पैट मशीन के लिए अलग-अलग काउंटर की व्यवस्था की गई
-काउंटर से विधानसभा के हिसाब से मतदान दल को वीपी पैट मशीन समेत दूसरी चुनावी सामग्री दी जाती है
-मतदान दल मास्टर ट्रेनर की मदद से आने वाली समस्याओं और दिक्कतों को समझता है
Loading...

-मास्टर ट्रेनर के बाद सेक्टर मजिस्ट्रेट मतदान दल को हरी झंडी देकर पोलिंग बूथ के लिए रवाना करता है
-पोलिंग बूथ पर मतदान संपन्न होने के बाद मतदान दल वीपी पैट मशीन लेकर जिला मुख्यालय पहुंचता है
-जिला मुख्यालय पर वीपी पैट मशीन को एक प्रक्रिया के तहत उसके काउंटर तक पहुंचाया जाता है
-काउंटर पर एकत्रित हुई मशीनों को सुरक्षित स्टांग रूम तक पहुंचाकर तय समय पर काउंटिंग की जाती है

पूरे प्रदेश में 65341 पोलिंग बूथ बनाये गए हैं जिनमें 17000 संवेदनशील हैं. एक लाख अस्सी हजार पुलिसकर्मी चुनावी ड्यूटी में तैनात किये गये हैं जिनमें एक लाख दूसरे राज्यों से हैं.

यह पढ़ें- OPINION : कांग्रेस की कर्जमाफी घोषणा ने बदल दी चुनाव की फिज़ा? बीजेपी में घबराहट!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->
काउंटडाउन
काउंटडाउन 2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे
2018 विधानसभा चुनाव के नतीजे