NEWS18-IPSOS एग्जिट पोल: भोपाल में दिग्विजय सिंह को हराती दिख रही हैं प्रज्ञा ठाकुर

इस सीट पर कराए गए NEWS18-IPSOS एग्जिट पोल के मुताबिक कांग्रेसी दिग्गज की हार होती दिख रही है. सर्वे के मुताबिक पहली बार चुनाव लड़ रही प्रज्ञा ठाकुर की जीत होती दिख रही है.

News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 2:46 AM IST
NEWS18-IPSOS एग्जिट पोल: भोपाल में दिग्विजय सिंह को हराती दिख रही हैं प्रज्ञा ठाकुर
भोपाल सीट से जीतते नजर आ रही हैं प्रज्ञा ठाकुर
News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 2:46 AM IST
मध्य प्रदेश की राजधानी इस बार हिंदी भाषी राज्यों की उन सीटों में से एक है जिसकी चर्चा हर तरफ हो रही है. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के सामने यहां से बीजेपी ने मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को खड़ा किया है. प्रज्ञा के विवादित बयानों ने लोगों की जिज्ञासा इस सीट पर लगातार बढ़ाई है. इस सीट पर चुनाव छठवें चरण में 12 मई को सम्पन्न हुए. इस सीट पर कराए गए NEWS18-IPSOS एग्जिट पोल के मुताबिक कांग्रेसी दिग्गज की हार होती दिख रही है. सर्वे के मुताबिक पहली बार चुनाव लड़ रही प्रज्ञा ठाकुर की जीत होती दिख रही है.

35 सालों से नहीं जीती कांग्रेस



1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए लोकसभा चुनाव वह आखिरी चुनाव था, जब कांग्रेस ने भोपाल सीट पर विजय पताका फहराया था. कांग्रेसी नेता और सामाजिक कार्यकर्ता रहे केएन प्रधान यहां जीतकर संसद पहुंचे थे. उसके बाद 1989 के चुनावों से आजतक भारतीय जनता पार्टी ने इस सीट पर अबाध कब्जा बनाए रखा है.

इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने बहुत बड़ा दांव खेला है. पार्टी ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को इस सीट पर सूखा समाप्त करने के लिए भेजा है. दिग्विजय सिंह राज्य के दो बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. माना जाता है कि आज भी मध्य प्रदेश की राजनीति में दिग्विजय सिंह की दखल काफी ज्यादा है. मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान जब ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ के बीच ताकत की जोर-आज़माइश चल रही थी तो वह दिग्विजय सिंह ही थे जिन्होंने दोनों के बीच सामन्जस्य बनाने का काम किया.

साधवी प्रज्ञा की एंट्री

पिछले लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के नेता आलोक संजर ने जीत हासिल की थी, लेकिन पार्टी ने इस बार उनका टिकट काट दिया है. इस सीट से बीजेपी ने मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को चुनावी मैदान में उतारा है. कहा जा रहा है कि प्रज्ञा ठाकुर बीजेपी को सिर्फ भोपाल सीट पर नहीं, बल्कि आस-पास की कई सीटों पर अपना प्रभाव दिखाएंगी. प्रज्ञा ठाकुर ने आते ही दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाने शुरू कर दिए. वह पहले भी उन्हें निशाने पर लेती रही थीं. उम्मीदवारी घोषित होने के बाद से प्रज्ञा ठाकुर ने कई साक्षात्कार दिए हैं जिसमें उन्होंने हिंदू आतंकवाद के तमगे को नकारा है. हालांकि दिग्विजय सिंह की तरफ से प्रज्ञा को लेकर कोई बयान नहीं दिया गया. दिग्विजय सिंह इस बात को लेकर सतर्क दिखे क्योंकि उनकी तरफ से प्रज्ञा ठाकुर पर की गई किसी भी बयानबाजी का असर राज्य से बाहर भी नकारात्मक तौर पर पड़ सकता था.

क्या हैं चुनावी समीकरण
Loading...

भोपाल संसदीय सीट पर अब तक हुए 16 चुनाव में कांग्रेस को छह बार जीत हासिल हुई है. यहां साढ़े 19 लाख मतदाता हैं. इनमें 4 लाख मुस्लिम, 3.5 लाख ब्राह्मण, 4.5 पिछड़ा वर्ग, 2 लाख कायस्थ, 1.5 क्षत्रिय हैं. इस सीट में आठ विधानसभा सीटें आती हैं. हाल में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने 5 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस के हिस्से सिर्फ तीन सीटें आई थीं.

चुनावी इतिहास पर नजर डालें तो 1989 से 99 के बीच हुए चार चुनावों में बीजेपी के सुशील चंद्र वर्मा ने जीत हासिल की थी. 1999 में यहां से बीजेपी की दिग्गज नेता उमा भारती जीती थीं. 2004 और 2009 में बीजेपी के कैलाश जोशी ने जीत हासिल की थी. 2014 में आलोक संजर जीते थे. ऐसे में इस सीट पर कांग्रेसी दिग्गज दिग्विजय के लिए सिर्फ प्रज्ञा सिंह ठाकुर के खिलाफ चुनाव लड़ना ही चुनौती नहीं है, उन्हें आंकड़ों से भी लड़ाई लड़नी होगी जो उनकी तरफ अभी नहीं दिखाई दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें-- 

News18-IPSOS Exit Poll 2019: गाजियाबाद सीट पर BJP लगा रही है हैट्रिक?

Exit Poll 2019: इस हिंदी भाषी राज्य में NDA पर भारी पड़ा UPA, मिलीं इतनी सीटें!

Analysis: अगर नतीजे Exit Poll 2019 जैसे ही आते हैं तो क्या हर सीट पर मोदी ही लड़ रहे थे?

...जब बद्रीनाथ धाम में पुजारी ने पूछ लिया PM मोदी के पिता का नाम, दिया था दिलचस्प जवाब

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...