लाइव टीवी

शिवराज सिंह चौहान सरकार का 5 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों को वापस लाने का दावा
Bhopal News in Hindi

News18 Madhya Pradesh
Updated: May 24, 2020, 7:21 AM IST
शिवराज सिंह चौहान सरकार का 5 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों को वापस लाने का दावा
1.46 लाख कामगारों को 119 विशेष रेलगाड़ियों के जरिए मध्य प्रदेश में वापस लाया गया है. (प्रतीकात्मक चित्र)

अतिरिक्त मुख्य सचिव आईसीपी केशरी (ICP Keshari) ने बताया कि शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) सरकार शुक्रवार तक 5 लाख से अधिक प्रवासी कामगारों (Migrant Workers) को वापस ला चुकी है. इनमें से 3.52 लाख को बसों और 1.46 लाख प्रवासियों को ट्रेनों से वापस लाया गया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) सरकार ने राज्य के 5 लाख से अधिक प्रवासी कामगारों (Migrant Workers) को वापस लाने का दावा किया है. ये प्रवासी श्रमिक लॉकडाउन (Lockdown) के कारण देश के अन्य राज्यों में फंस गए थे. इनमें से अधिकांश प्रवासी श्रमिकों को सड़क परिवहन के माध्यम से लाया गया.

बसों के माध्यम से लाए गए 3.52 लाख प्रवासी
प्रदेश के नियंत्रण कक्ष के प्रभारी अतिरिक्त मुख्य सचिव आईसीपी केशरी ने शनिवार को बताया कि प्रदेश सरकार शुक्रवार तक अन्य राज्यों में फंसे 5 लाख से अधिक प्रवासी कामगारों को वापस ला चुकी है. उन्होंने कहा कि 3.52 लाख प्रवासियों को बसों और 1.46 लाख लोगों को 119 विशेष रेलगाड़ियों के जरिए मध्य प्रदेश में वापस लाया गया है.

इन राज्यों से लाए गए प्रवासी कामगार



उन्होंने बताया कि सबसे अधिक 2.02 लाख प्रवासी गुजरात से लाए गए जबकि महाराष्ट्र से 1.12 लाख और राजस्थान से 1.10 लाख प्रवासी आए. इसके अलावा प्रवासियों को गोवा, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, केरल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना से भी वापस लाया गया. केशरी ने कहा कि मध्य प्रदेश की सीमाओं पर पहुंचने वाले अन्य राज्यों के श्रमिकों को भी राज्य सरकार उनके प्रदेश की सीमाओं तक पहुंचा रही है.



श्रम सिद्धी अभियान के तहत ग्रामीण क्षेत्र के हर व्यक्ति को दिया जाएगा काम
श्रम सिद्धी अभियान के तहत ऐसे मजदूर जिनके जॉब कार्ड नहीं है, उनके जॉब कार्ड बनवाकर मजदूर को काम दिलाया जाएगा. श्रम सिद्धी अभियान के तहत ग्रामीण क्षेत्र में हर व्यक्ति को काम दिया जाएगा. इसके लिए घर-घर सर्वे किया जाएगा और जिनके पास जॉब कार्ड नहीं है उनके जॉब कार्ड बनाकर दिए जाएंगे. यही नहीं, जो मजदूर अकुशल होंगे उन्हें मनरेगा में कार्य दिलाया जाएगा. जबकि कुशल मजदूरों को उनकी योग्‍यता के अनुसार काम दिलाया जाएगा.

आपको बता दें कि फिलहाल प्रदेश की 22 हजार 809 ग्राम पंचायतों में से 22 हजार 695 में मनरेगा के कार्य चल रहे हैं. इन कार्यों में अभी तक 21 लाख एक हजार 600 मजदूरों को रोजगार दिया गया है, जो कि पिछले वर्ष की तुलना में लगभग दो गुना है.

ये भी पढ़ें - 

योगी ने फार्मा पार्क के लिए नीतिगत प्रस्ताव शीघ्र प्रस्तुत करने के दिए निर्देश

COVID-19: टीवी चैनल कर्मियों के संक्रमित होने की अफवाह फैलाई, केस दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 24, 2020, 7:06 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading