निजी कॉलेजों में वेटनरी कोर्स को मान्यता देने की तैयारी में सरकार

सरकार निजी कॉलेजों को पशु चिकित्सा की पढ़ाई कराने की मान्यता देने की तैयारी कर रही है वहीं सरकारी कॉलेजों से प्रशिक्षण लेने वाले वेटनरी डॉक्टर बेरोजगार भटकने को मजबूर हैं

Sonia Rana | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 24, 2019, 8:01 PM IST
Sonia Rana
Sonia Rana | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 24, 2019, 8:01 PM IST
सरकार निजी कॉलेजों को पशु चिकित्सा की पढ़ाई कराने की मान्यता देने की तैयारी कर रही है वहीं सरकारी कॉलेजों से प्रशिक्षण लेने वाले वेटनरी डॉक्टर दो साल के प्रशिक्षण और डिप्लोमा पर 2 लाख के खर्च के बाद भी खाली हाथ हैं. हर साल 30 प्रतिशत जॉब निकालने का प्रावधान जरुर है लेकिन वैकेंसी निकलती नहीं जिसके चलते ये वेटनरी डॉक्टर भटकने को मजबूर हैं. इतना ही नहीं डिप्लोमा के बेस पर इनका कोई पंजीयन नहीं होता यानी इस डिप्लोमा के बाद भी ये डॉक्टर न अपना क्लीनिक खोल सकते हैं और न इसके आधार पर सरकारी जॉब्स के अलावा कहीं एप्लाय कर सकते हैं. कुल मिलाकर अगर सरकारी नौकरी न मिले तो डिप्लोमा में खर्च पैसा और समय सब बर्बाद. इसी परेशानी के चलते ये डॉक्टर्स अब मंत्रियों के दफ्तर के चक्कर लगा रहे हैं और पंजीयन की डिमांड कर रहे हैं. और यही वजह है कि अब वेटनरी डॉक्टर 27 जून को प्रदेशव्यापी प्रदर्शन करने जा रहे हैं.

शासकीय वेटनरी कॉलेज के डॉक्टर बेरोजगार भटकने को मजबूर

प्रदेश में पशुओं के इलाज की व्यवस्था चरमराई हुई है. राज्य में 1 डॉक्टर के हिस्से में 18 हजार से ज्यादा पशु आ रहे हैं. भारतीय राज्य कृषि आयोग के मापदंड़ो के अनुसार 5 हजार पशुओं पर 1 डॉक्टर होना चाहिए. वर्तमान में जबलपुर, महू, भोपाल, मुरैना और रीवा में चल शासकीय वेटनरी कॉलेज चल रहे है जहां से हर साल 600 डॉक्टर्स प्रशिक्षित होकर निकलते हैं. इन 600 डॉक्टर्स में लगभग 30 प्रतिशत को ही नौकरी मिलती है, बाकि बेरोजगार भटकने को मजबूर होते हैं. ऐसे में वेटनरी डॉक्टर्स का ये सवाल लाज़मी है कि जब शासकीय वेटनरी कॉलेज के डॉक्टर बेरोजगार भटकने को मजबूर हैं तब निजी कॉलेजों में पशु चिकित्सा की पढ़ाई कराना कितना सही होगा.
ये भी पढ़ें: सरकारी स्कूलों में अब नहीं दी जाएगी ग़रीब बच्चों को यूनिफॉर्म, सरकार ने बदला नियम


MP में शुरू हुआ स्कूल चलें हम : CM ने कहा बच्चों को मोबाइल गेम की लत से बचाएं माता-पिता
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...