अपना शहर चुनें

States

बॉलीवुड के सहारे चमकेगी कमलनाथ सरकार की छवि, इस अभिनेता को स्‍टेट आइकॉन बनाने की है तैयारी

गोविंदा को अपने साथ जोड़ रही है कमलनाथ सरकार.
गोविंदा को अपने साथ जोड़ रही है कमलनाथ सरकार.

कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) की छवि चमकाने के लिए बॉलीवुड अभिनेता गोविंदा (Govinda) को स्‍टेट आइकॉन बनाने की तैयारी में है.

  • Share this:
भोपाल. गुजरात की तर्ज पर मध्य प्रदेश सरकार भी फिल्म अभिनेता को स्टेट आइकॉन बनाने की तैयारी में है. अभिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) की तरह गोविंदा (Govinda) प्रदेश की ब्रांडिंग करेंगे. मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) की हरी झंडी मिलने के बाद तैयारियां तेज हो गई हैं. यकीनन इस पहल से ना सिर्फ कमलनाथ सरकार की छवि चमकेगी बल्कि मध्‍य प्रदेश के प्रति बॉलीवुड का क्रेज़ भी बढ़ सकता है. आखिर प्रदेश में कई ऐसी जगह हैं जहां बॉलीवुड की फिल्‍मों की शूटिंग हो सकती है. जबकि गोविंदा पर्यटकों को आकर्षित करने में सफल भी रहेंगे.

पर्यटकों को लुभाएंगे गोविंदा
मध्य प्रदेश की खूबसूरत वादियों और प्राकृतिक छटा की तरफ पर्यटकों को आकर्षित करने प्लान तैयारी कर रही है. मप्र के पर्यटक स्थलों पर पर्यटकों को लुभाने कांग्रेस सरकार अब फिल्म अभिनेता गोविंदा का सहारा लेने जा रही है. फिल्म अभिनेता अभिताभ बच्चन जैसे गुजरात के टूरिज्म को प्रमोट कर रहे हैं,वैसे ही गोविंदा भी मप्र के पर्यटन की ब्राडिंग करेंगे, ताकि ज्यादा से ज्यादा संख्या में पर्यटकों का प्रदेश की तरफ रूख हो सके. गोविंदा को कांग्रेस सरकार स्टेट आइकॉन बनाने की तैयारी में है और इंदौर में होने जा रहे मैग्नीफिसेंट कार्यक्रम से पहले इसकी घोषणा हो सकती है.

जाना-माना चेहरा होने से मिलेगा फायदा
फिल्म अभिनेता गोविंदा के स्टेट आइकॉन बनाने की तैयारी पर सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि एक तो गोविंदा जाना-माना चेहरा है. जबकि हर वर्ग तक उनकी फिल्मों के जरिए पहुंच है, जिससे पर्यटकों को मप्र की तरफ आकर्षित करने फायदा होगा.



किसान को बनाना था स्टेट आइकॉन
भाजपा के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि किसी फिल्म अभिनेता को स्टेट आइकॉ़न बनाने की जगह किसान को बनाते तो बेहतर होता. किसान या जमीन से जुड़े लोगों को बनाते तो ज्यादा बेहतर होता.

मप्र में पर्यटकों को लुभाने की मुश्किलें
मप्र में विदेशी पर्यटकों की संख्या बहुत कम है. सिर्फ भोपाल के आसपास पर्यटक स्थलों के साथ ही खजुराहो और ओरछा, मांडू तक ही विदेशी पर्यटकों की पहुंचते हैं. इन जगहों पर एयर कनेक्टिविटी होने से विदेशी पर्यटकों की पहुंच है, लेकिन मप्र के ज्यादातर पर्यटक स्थलों पर एयर कनेक्टिविटी की समस्या है और इसके चलते विदेशी पर्यटक मप्र का रूख करने से बचते भी हैं. एयर कनेक्टिविटी बढ़ाने की भी कई बार बात होने के बाद भी अब तक इस पर अमल नहीं हुआ है.

बहरहाल, गोविंदा को स्टेट आइकॉन बनाए जाने के बाद उम्मीद तो यही है कि मप्र में टूरिज्म
को बढ़ावा मिलेगा, लेकिन क्या वाकई में वह प्रदेश के लिए उतने चमत्कारी साबित होंगे,जितने गुजरात के लिए अमिताभ बच्चन साबित हुए.

ये भी पढ़ें-भिंड-मुरैना में हालात बिगड़े, बाढ़ से निपटने के लिए सेना को बुलाया 

डकैत बबली कोल और लवकेश की लाश बरामद, पुलिस मुठभेड़ में मार गिराने का दावा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज