मध्य प्रदेश: 24 दिन से लॉकडाउन, फिर भी कम नहीं हो रही रफ्तार, 11708 नए केस मिले, 84 की मौत

केंद्र सरकार ने अस्पताल में भर्ती करने की राष्ट्रीय नीति में बदलाव किया है. (सांकेतिक फोटो)

केंद्र सरकार ने अस्पताल में भर्ती करने की राष्ट्रीय नीति में बदलाव किया है. (सांकेतिक फोटो)

मध्य प्रदेश में 24 घंटे के अंदर कोरोना के 11708 नए केस मिले हैं. पिछले 24 घंटों में 4815 लोग ठीक होकर अपने घर लौट गए. जबकि 84 लोगों की संक्रमण से मौत हुई है.

  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश में 24 दिन से लॉकडाउन, फिर कोरोना के नए केस मिलने का सिलसिला कम नहीं हो रहा है. 24 घंटे के अंदर कोरोना (Corona) के 11708 नए केस मिले हैं. वहीं 4815 लोग ठीक होकर अपने घर लौट गए. 24 घंटे के अंदर प्रदेश में 84 लोगों के संक्रमण से मौत की पुष्टि हुई है. इन नए केस के साथ ही अब मध्य प्रदेश में 6 लाख 49 हजार 114 लोग संक्रमित हो चुके हैं, वहीं 6,244 की कोरोना संक्रमण से मौत की पुष्टि हुई है. अब मध्य प्रदेश में सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 95,423 हो गई है. अब तक 5,47,447 लोग रिकवर हो गए हैं.

कोरोना कर्फ्यू 15 मई तक बढ़ाया गया 

मध्य प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू शनिवार 15 मई तक बढ़ा दिया गया है. प्रदेश में वीकएंड कर्फ्यू पहले से ही लागू होने के कारण इसकी अवधि 17 मई की सुबह 6 बजे तक रहेगी. शिवराज सिंह चौहान ने आज इसका ऐलान किया. उन्होंने अपने वर्च्युअल संबोधन में प्रदेश में कोरोना मरीज़ों का पॉजिटिविटी रेट घटने पर तसल्ली ज़ाहिर की. साथ ही कहा अभी भी संकट टला नहीं है. सबके सहयोग से ही कोरोना से निपटा जा सकता है.

Youtube Video

तीसरी लहर को लेकर शिवराज ने शुरू की तैयारी 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की कोर ग्रुप की बैठक में कोरोना की तीसरी लहर की चुनौतियों से निपटने और प्रदेश में तैयारियों के लिए दिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर की तैयारी के लिए एक विशेषज्ञों की समिति बनाई जाए, जो यह अध्ययन करेगी कि प्रदेश में इसकी क्या संभावना है तथा इसके लिए क्या-क्या तैयारियां एवं व्यवस्थाएं की जानी चाहिएं.

CM शिवराज सिंह ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य अधोसंरचना को अधिक से अधिक मजबूत बनाया जाए. मध्यप्रदेश में रेमडीसिविर उत्पादन के भी प्रयास किए जाएं. हर अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट लग जाएं, ऐसे प्रयास किये जाने चाहिए. निज़ी उद्यमियों को ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए प्रेरित करें, इसके लिए सरकार अनुदान दे रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज