MP: उपचुनाव से पहले कांग्रेस में खुला नियुक्तियों का पिटारा, बना सभी को खुश करने का प्लान
Bhopal News in Hindi

MP: उपचुनाव से पहले कांग्रेस में खुला नियुक्तियों का पिटारा, बना सभी को खुश करने का प्लान
कांग्रेस ने उपचुनाव की तैयारी शुरू कर दी है. सांकेतिक फोटो.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में होने वाले उपचुनाव (By-Election) से पहले कांग्रेस (Congress) पार्टी में हर किसी को खुश करने के प्लान पर काम तेज कर दिया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में होने वाले उपचुनाव (By-Election) से पहले कांग्रेस (Congress) पार्टी में हर किसी को खुश करने के प्लान पर काम तेज कर दिया है. कांग्रेस पार्टी में प्रदेश पदाधिकारियों से लेकर जिला स्तर और ब्लॉक के स्तर तक नियुक्तियों का पिटारा खुल गया है. प्रदेश कांग्रेस दफ्तर से हर दिन 50 से 100 नियुक्तियों के आदेश जारी हो रहे हैं. सबसे ज्यादा नियुक्तियां उपचुनाव वाले जिलों में हो रही हैं. ग्वालियर चंबल इलाके में ज्योतिरादित्य सिंधिया के पाला बदलकर बीजेपी में जाने के बाद संगठन खड़ा करने की कवायद में जुटी कांग्रेस पार्टी ताबड़तोड़ नियुक्तियां कर कांग्रेस का कुनबा बढ़ाने में जुटी हुई है.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी में पहली बार सबसे ज्यादा पदाधिकारियों की नियुक्ति के आदेश जारी हो रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस कमेटी में ही अब तक 35 से ज्यादा सचिव, सहसचिव और महामंत्री पद के नियुक्ति के आदेश जारी हो चुके हैं. भिंड ग्वालियर चंबल इलाके में ही जिला संगठन को मजबूत बनाने के लिए 500 से ज्यादा नियुक्तियां हो चुकी है. भिंड अकेले में 200 से ज्यादा पदाधिकारी नियुक्त हुए हैं. ग्वालियर में चार जिला कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति की गई है.

ये भी पढ़ें: चीन सीमा पर सेना की मदद करेगी पुलिस, तैयार हुआ ये खास प्लान



इनका कार्यकाल बढ़ाने की तैयारी
एमपी कांग्रेस में भी कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति बढ़ाने की तैयारी है. अभी तक पीसीसी में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर कमलनाथ के साथ चार कार्यकारी अध्यक्ष काम कर रहे हैं, जिसमें रामनिवास रावत, बाला बच्चन, जीतू पटवारी और सुरेंद्र चौधरी शामिल हैं, लेकिन उपचुनाव के मद्देनजर इस संख्या को बढ़ाने की कवायद तेज हो गई है. उपचुनाव में बीजेपी को संगठन के मुकाबले टक्कर देने के लिए कांग्रेस पार्टी में नियुक्तियों के जरिए कार्यकर्ताओं को खुश करने में जुटी हुई है. सिर्फ इतना ही नहीं कमलनाथ के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद हाशिए पर गए अरुण यादव के समर्थकों को भी अब पीसीसी में पदाधिकारी नियुक्त किया जा रहा है.

पुरानी परंपराएं ही हैं
प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी चंद्रप्रभा शेखर के मुताबिक चुनाव के दौरान कार्यकर्ताओं को खुश करने के लिए नियुक्तियां करने की पुरानी परंपराएं हैं, जहां जिलों से पदाधिकारी नियुक्त करने की मांग आती है, उसके नियुक्ति के आदेश जारी किए जाते हैं. प्रदेश में अभी 16 जिलों में ब्लॉक के स्तर पर कांग्रेस पार्टी संयोजक, सह संयोजक और प्रचारक नियुक्त करने जा रही है. ताकि बेहतर तालमेल के साथ उपचुनाव लड़ा जा सके. बहरहाल ऐन चुनाव के मौके पर कांग्रेस में हो रही नियुक्तियों पर बीजेपी ने तंज कसा है. बीजेपी नेता हितेष वाजपेई ने कहा है की आग लगने पर कुआं खोदने की परंपरा कांग्रेसमें पुरानी है. सत्ता में थे तब कार्यकर्ताओं की पूछ परख नहीं की. अब उपचुनाव है तो ऐसे में कार्यकर्ताओं की याद आ रही है. कांग्रेस में कार्यकर्ता बच्चे नहीं है, जो थे वह बीजेपी में शामिल हो गए हैं. ऐसे में संगठन में नियुक्तियों का असर उपचुनाव पर नहीं होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading