भोपाल: कंटेनमेंट मुक्त हुआ राजभवन, 385 लोगों की जांच रिपोर्ट आई निगेटिव
Bhopal News in Hindi

भोपाल: कंटेनमेंट मुक्त हुआ राजभवन, 385 लोगों की जांच रिपोर्ट आई निगेटिव
भोपाल में कंटेनमेंट मुक्त राजभवन हुआ (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश के राजभवन (Raj Bhavan) में एंट्री गेट और लाल कोठी में प्रवेश लेने के समय अलग-अलग थर्मो स्कैनिंग की व्यवस्था की गई है. हर एक व्यक्ति के थर्मो स्कैनिंग का डेटा मेंशन किया जा रहा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) का सेफेस्ट प्लेस राजभवन एक बार फिर सेफ घोषित कर दिया गया है. 10 पॉजिटिव प्रकरणों के मिलने के बाद राजभवन में तमाम सावधानी और सतर्कता बरती जा रही है जिसके बाद राजभवन कंटेनमेंट मुक्त हो गया है. राजभवन में पहला कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद एकाएक परिसर में कोरोना को लेकर दहशत भरा माहौल हो गया था. इस जगह को दोबारा सुरक्षित बनाने के लिए बिना विलंब किए राजभवन परिसर में सैपलिंग और स्क्रीनिंग की गई. राजभवन कैंपस से कुल 395 व्यक्तियों की कोविड-19 (Covid-19) की जांच की गई जिसमें 10 संक्रमित मामले मिले बाकी सभी 385 जांच की रिपोर्ट निगेटिव आई.

राजभवन में कुल 395 व्यक्तियों की जांच
राजभवन कंटेनमेंट मुक्त क्षेत्र हो गया है. कंटेनमेंट क्षेत्र के सभी कोविड-19 से संक्रमित 10 व्यक्ति हॉस्पिटल में ट्रीटमेंट ले रहे हैं. जहां से संक्रमण के मामले मिले कैपस के उस एरिया को कंटेनमेंट क्षेत्र बना दिया गया था. इस एरिया से मिले सभी 10 परिवारों के समस्त सदस्यों को क्‍वारंटाइन में शिफ्ट कर दिया गया है. राज्यपाल के सचिव मनोहर दुबे ने बताया कि राजभवन कैपस में कुल 395 व्यक्तियों के सैपलस कलेक्ट किए गए थे. पहले से मिले 10 पॉजिटिव प्रकरणों के अलावा शेष सभी 385 सैपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है. उन्होंने बताया कि अब भी सतर्कता के तौर पर राज्यपाल लालजी टंडन के निवास क्षेत्र में बिना अनुमति के किसी भी व्यक्ति का आवागमन नहीं होगा. राज्यपाल की डयूटी में कार्यरत कर्मचारियों को उसी क्षेत्र में ठहराने की व्यवस्था की गई है.

व्यवस्थाएं की गई जरूरी



राजभवन में एंट्री गेट और लाल कोठी में प्रवेश लेने के समय अलग-अलग थर्मो स्कैनिंग की व्यवस्था की गई है. हर एक व्यक्ति के थर्मो स्कैनिंग का डेटा मेंशन किया जा रहा है. सभी संपर्क स्थानों पर सेनेटाइजेशन की अनिवार्यता की गई है. प्रत्येक विजिटर से सर्दी-जुकाम, बुखार आदि के लक्षण नहीं होने होने का घोषणा पत्र भी लिया जा रहा है. विजिटर को सभी प्रकार की सावधानियां और प्रोटोकॉल जैसे दो गज दूरी रखने, मास्क और शू कवर पहनने, सेनेटाइजेशन और थर्मल स्क्रीनिंग आदि सुनिश्चित करने के बाद ही मुलाकात की अनुमति दी जाएगी. सभी कर्मचारियों को कोरोना टेस्ट करवाने के बाद ही स्वस्थ कर्मचारियों को ही इस क्षेत्र में ठहराया जा रहा है. राज्यपाल के निवास क्षेत्र में ठहरने वाले कर्मचारियों का मास्क, ग्लब्स एवं सेनेटाइजेशन की व्यवस्था जरूरी कर दी गई है.



ये भी पढ़ें: Unlock 1.0 पर सियासत: कमलनाथ बोले- बिजली उपभोक्ताओं के पूरे बिल किये जाएं माफ
First published: June 1, 2020, 8:01 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading