होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /कोरोना के एक्टिव केस में मध्यप्रदेश 16 वें स्थान पर पहुंचा, बड़े शहरों को लेकर चिंता

कोरोना के एक्टिव केस में मध्यप्रदेश 16 वें स्थान पर पहुंचा, बड़े शहरों को लेकर चिंता

कोरोना के चलते खर्च नहीं हो पा रहा खेलो इंडिया का रुपया

कोरोना के चलते खर्च नहीं हो पा रहा खेलो इंडिया का रुपया

कोरोना (Corona) के हालात के बीच अब मध्य प्रदेश में 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान चलाया जा रहा है.

भोपाल.कोरोना (corona) के एक्टिव मरीजों को लेकर मध्य प्रदेश देश में 16वें स्थान पर पहुंच गया है. पॉजिटिव मरीजों की संख्या के लिहाज से मध्य प्रदेश (madhya pradesh) का स्थान 15वां हो गया है. प्रदेश में बीते दिन तक कोरोना के 10312 एक्टिव मरीज और 45455 पॉजीटिव मरीज थे. सोमवार 17 अगस्त को प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या 10232 रिकॉर्ड हुई है. प्रदेश में मरीजों का रिकवरी रेट 75.5 प्रतिशत है. मध्यप्रदेश में अभी तक कोरोना के 35025 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं. प्रदेश की मृत्यु दर 2.43 प्रतिशत है और पॉजीटिविटी रेट 4.40 प्रतिशत है.

सोमवार को हुई कोरोना की समीक्षा बैठक में इंदौर जिले में कोरोना के सबसे ज्यादा 245 नए केस आए हैं. इसके बाद जबलपुर में 93, भोपाल में 92, खरगौन में 36, ग्वालियर में 20 और गुना में 20 केस हैं.

सहयोग से सुरक्षा पर ध्यान दें
समीक्षा बैठक में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा प्रदेश में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान पर प्रभावी तरीके से अमल किया जाएगा. सभी को मास्क लगाने, 2 गज की दूरी रखने और अन्य सभी सावधानियां बरतने के लिए प्रेरित किया जाए. सभी कलेक्टर्स अपने जिलों में इस काम में सभी का सहयोग लें. इन सावधानियों का पालन करते हुए कोरोना संक्रमण को रोका जा सकता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 53 हजार गांवों में से 1500 गांवों में कोरोना का कम से कम 1 मरीज है. गांवों में कोरोना संक्रमण रोकने के हरसंभव प्रयास करने होंगे. इसके लिए रणनीति बनाकर काम करें. ग्राम सभाओं, डोडी पिटवाने के माध्यम से हर ग्रामवासी को कोरोना से बचाव के संबंध में जागरुक किया जाए.

जबलपुर पर फोकस
जबलपुर जिले की समीक्षा में पाया गया कि वहां बीते 7 दिन में लगभग 600 कोरोना के नए केस आए हैं. जबलपुर में कोरोना के 1704 पॉजीटिव और 495 एक्टिव मरीज हैं. वहां का पॉजीटिविटी रेट 5.61 है, जो ज्यादा है. मुख्यमंत्री ने जबलपुर पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए. 'सहयोग से सुरक्षा' अभियान का मकसद यही है कि सभी के सहयोग से कोरोना का संक्रमण रोकने के सभी प्रयास किए जाएं. समीक्षा में बताया गया कि जबलपुर मेडिकल कॉलेज में प्लाज्मा थैरेपी से मरीजों को लाभ हो रहा है. प्लाज्मा थैरेपी में एक डोनर से 2 प्लाज्मा लिए जाते हैं. मरीज को 2 अलग-अलग डोनर्स का एक-एक प्लाज्मा दिया जाता है.

Tags: Corona Health and Fitness, Corona infected patient, Corona Suspect, Madhya Pradsh News

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें