होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /लोकायुक्त संगठन में बड़ा फेरबदल : डीजी कैलाश मकवाना का 6 महीने में तबादला, योगेश चौधरी को सौंपी कमान

लोकायुक्त संगठन में बड़ा फेरबदल : डीजी कैलाश मकवाना का 6 महीने में तबादला, योगेश चौधरी को सौंपी कमान

कैलाश मकवाना की जगह लोकल संगठन की कमान सरकार ने मुख्यमंत्री के ओएसडी योगेश चौधरी को सौंपी है

कैलाश मकवाना की जगह लोकल संगठन की कमान सरकार ने मुख्यमंत्री के ओएसडी योगेश चौधरी को सौंपी है

Reshuffle in Lokayukta Organization : कैलाश मकवाना को अभी लोकायुक्त की कमान संभाले 6 महीने हुआ था इस दौरान उन्होंने भ्र ...अधिक पढ़ें

भोपाल. मध्य प्रदेश के भ्रष्ट अधिकारी कर्मचारियों पर शिकंजा कसने वाले लोकायुक्त संगठन में बड़ा फेरबदल किया गया है. डीजी कैलाश मकवाना को हटा दिया गया है. उनकी जगह सीएम ओएसडी योगेश चौधरी को इसकी कमान सौंपी गयी है. महज 6 महीने के कार्यकाल में ही लोकायुक्त डीजी कैलाश मकवाना को हटाया गया है. वो भी चुनाव से पहले.

लोकायुक्त में हुए फेरबदल को लेकर अब कई बड़े सवाल भी खड़े हो रहे हैं. क्योंकि लोकायुक्त में महाकाल कॉरिडोर में हुए भ्रष्टाचार की जांच भी चल रही है. इसके अलावा मकवाना के आने से भ्रष्टाचारी अधिकारियों पर शिकंजा कसा जा रहा था.

कई अफसर इधऱ से उधर
सरकार ने लोकायुक्त संगठन में बड़ा फेरबदल किया है. लोकायुक्त संगठन के प्रमुख डीजी कैलाश मकवाना के साथ एडीजी केटी वाइफे को भी हटा दिया गया है. उनके ट्रांसफर के आदेश जारी हो गए हैं. कैलाश मकवाना की जगह लोकल संगठन की कमान सरकार ने मुख्यमंत्री के ओएसडी योगेश चौधरी को सौंपी है. डीजी कैलाश मकवाना को फिर पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन का चेयरमैन बनाकर भेज दिया गया. एडीजी केटी वाइफे को एडीजी कॉपरेटिव फ्रॉड पीएचक्यू बनाया गया है. आईजी नक्सल विरोधी अभियान साजिद फरीद शापू को हटाकर आईजी एसएएफ पीएचक्यू बनाया गया है. गृह विभाग ने आदेश जारी किए हैं.

ये भी पढ़ें-

ट्रांसफर पर मकवाना ने किया ट्वीट…
ट्रांसफर होने पर डीजी कैलाश मकवाना ने ट्वीट कर अपने 6 महीने का कार्यकाल पूरा होने का जिक्र किया. उन्होंने ट्वीट में हाथ जोड़ने का साइन भी दिखाया. कैलाश मकवाना ने ट्वीट में लिखा ‘एसपीई लोकायुक्त में डीजी के पद पर आज छह माह पूरे हुए, स्थानांतरित…’

कई भ्रष्ट अफसरों की चल रही थी जांच
मकवाना को अभी लोकायुक्त की कमान संभाले 6 महीने हुआ था इस दौरान उन्होंने भ्रष्ट सरकारी अधिकारी कर्मचारियों पर लगातार छापे की कार्रवाई की. उन्होंने भ्रष्ट अफसरों और कर्मचारियों पर कार्रवाई करने के लिए अपने स्टाफ को फ्री हैंड देकर रखा था. इसके अलावा इन्हीं के कार्यकाल में महाकाल कॉरिडोर में भ्रष्टाचार के मामले की जांच भी चल रही है. ऐसे में मकवाना के ट्रांसफर ने कई बड़े सवाल खड़े किए हैं.

Tags: Breaking News, IPS Transfer, Madhya pradesh latest news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें