लाइव टीवी

भोपाल नाव हादसा : नाविकों की गिरफ्तारी के विरोध में सड़कों पर उतरे मांझी समाज के लोग, सरकार के सामने रखी ये मांग
Bhopal News in Hindi

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: September 15, 2019, 4:06 PM IST
भोपाल नाव हादसा : नाविकों की गिरफ्तारी के विरोध में सड़कों पर उतरे मांझी समाज के लोग, सरकार के सामने रखी ये मांग
मांझी समाज ने सरकार के सामने रखी ये मांग.

13 सितंबर को गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान खटलापुरा नाव हादसे (Khatalpura boat accident) में 11 युवकों की जान चली गई थी. इस मामले में 4 नाविकों को गिरफ्तार किया गया है. इसी वजह से मांझी और बाथम समाज के सैंकड़ों लोग सरकार की इस कार्रवाई के विरोध में सड़कों पर उतरे.

  • Share this:
भोपाल. मध्‍य प्रदेश (Madhya Pradesh) के भोपाल में खटलापुरा नाव हादसा (Khatalpura Boat Accident) मामले में नाविकों के खिलाफ हुई पुलिस कार्रवाई के विरोध में मांझी और बाथम समाज के सैंकड़ों लोग आज (रविवार) को सड़कों पर उतर आए. ये सभी लोग मौन जुलूस निकालते हुए सीएम हाउस की ओर बढ़े, लेकिन पुलिस ने इन्हें पहले ही रोक लिया. सीएम हाउस (CM House) से पहले रोके जाने से नाराज समाज के लोग बीच रास्ते में ही सड़क पर धरना देकर बैठ गए. इन लोगों की मांग थी कि कलेक्टर मौके पर आकर उनका ज्ञापन लें और जिन नाविकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के बाद गिरफ्तारी की कार्रवाई हुई है उसे वापस लिया जाए.

आपको बता दें कि 13 सितंबर को गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान खटलापुरा नाव हादसे में 11 युवकों की जान चली गई थी. पुलिस प्रशासन ने हादसे में 4 नाविकों को जिम्मेदार मानते हुए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है. इसी का विरोध मांझी और बाथम समाज के लोग कर रहे हैं. इनका कहना है कि हादसे में दोषी बड़े अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है जबकि गरीब नाविकों को फंसाया जा रहा है.

...तो नितिन लौटा देगा अपना सम्मान
मांझी समाज के विरोध प्रदर्शन में शामिल होने नितिन बाथम भी पहुंचा. यह वही साहसी युवक है जिसने हादसे के बाद डूब रहे 6 युवकों को अकेले बचाया था. नितिन बाथम की मानें तो हादसे के बाद नाविकों के खिलाफ जो कार्रवाई हुई है वो गलत है. अगर पुलिस ने एफआईआर वापस नहीं की तो वो युवकों को बचाने के लिए मिला सम्मान वापस लौटा देगा.



भोपाल नाव हादसा: कब क्या हुआ?


>>रात 11 बजे- पिपलानी इलाके से गणेश विसर्जन के लिए झांकी बड़े धूमधाम से खटलापुरा घाट के लिए रवाना हुई.
>>सुबह 4 बजे- विसर्जन का नंबर आने पर गणेश जी की प्रतिमा को क्रेन पर लटकाया गया.
>>सुबह 4:30 बजे- दो नावों को जोड़कर बनाई गई एक नाव पर गणेश प्रतिमा को रखा गया. तालाब में प्रतिमा को जैसे ही विसर्जित किया गया, वैसे ही नाव में एक तरफ से पानी भरने लगा और नाव पलट गई. कुछ युवक पानी में गिर गए. उन्होंने अपनी जान बचाने के लिए नाव को पकड़ लिया और उसके बाद पूरी नाव ही पलट गई और उसमें सवार सभी लोग तालाब में गिर पड़े.
>>सुबह 5 बजे- नगर निगम, जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और एसडीआरएफ के अधिकारी कर्मचारी मौके पर आना शुरू हुए.
>>सुबह 8 बजे- तालाब से शवों को निकालकर मॉर्च्यूरी पहुंचाया गया.
>>सुबह 9 बजे- शवों का पोस्टमॉर्टम हुआ.
>>सुबह 10 बजे- मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने का ऐलान किया. साथ ही इस मामले में मजिस्ट्रियल जांच के आदेश भी दिए गए
>>दोपहर 12 बजे- शवों के अंतिम संस्कार का सिलसिला शुरू हुआ.

यह भी पढ़ें- भोपाल नाव हादसा : प्रशासन की 10 बड़ी चूक जिसने ले ली 11 युवकों की जान

यह भी पढ़ें- भोपाल नाव हादसा : मौत की बोट पर सवार कमल राणा से सुनिए हादसे की आपबीती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 15, 2019, 3:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading