मध्य प्रदेश में बाढ़ से भारी तबाही : अब तक 105 लोगों की मौत, सैकड़ों हैक्टेयर फसल बर्बाद

News18 Madhya Pradesh
Updated: August 27, 2019, 12:38 PM IST
मध्य प्रदेश में बाढ़ से भारी तबाही : अब तक 105 लोगों की मौत, सैकड़ों हैक्टेयर फसल बर्बाद
मध्य प्रदेश के 34 ज़िले बाढ़ की चपेट में

मालवा, बुंदेलखंड, मध्य क्षेत्र में मूसलाधार बारिश जारी है. प्रदेश के 34 ज़िले बाढ़ की चपेट में है. 270 कस्बों में बाढ़ के कारण तबाही मच गयी है

  • Share this:
बाढ़ के कारण मध्य प्रदेश के बड़े इलाके में हालात ख़राब हैं. लगातार हो रही बारिश से भारी तबाही मची हुई है और अब तक 105 लोगों की जान जा चुकी है. बाढ़ के कारण 34 जिले बुरी तरह प्रभावित हैं और हज़ारों लोग हताहत हुए हैं.

मध्य प्रदेश में भारी बारिश का सिलसिला जारी है. मालवा, बुंदेलखंड, मध्य क्षेत्र में मूसलाधार बारिश जारी है. प्रदेश के 34 ज़िले बाढ़ की चपेट में है. 270 कस्बों में बाढ़ के कारण तबाही मच गयी है. 10 हज़ार से ज़्यादा लोग प्रभावित हुए हैं. बारिश ने इस बार ऐसा क़हर ढाया कि 105 लोगों की मौत हो गयी और मंडला, सीहोर, रतलाम, छिंदवाड़ा में 5 लोग अभी भी लापता हैं.
ढाई हज़ार मकानों को नुक़सान
बारिश की मार में 208 मकान ढह गए और 20 लोग बुरी तरह ज़ख़्मी हो गए.ढाई हजार से ज्यादा मकानों को भारी नुकसान पहुंचा है. इंसान तो इंसान पशु भी बारिश की मार नहीं झेल पाए. मंडला में 5, रायसेन में 10,मंदसौर में 22, शाजापुर में 53, झाबुआ में 5, सीहोर में 14, अलीराजपुर में 1, टीकमगढ़ में 21 और बड़वानी में 8 पशुओं की मौत की ख़बर है.

पशुपतिनाथ मंदिर में पानी घुसा


चौपट हुईं फसल
बाढ़ और बारिश के कारण फसलों को भी भारी नुक़सान पहुंचा है. कहीं-कहीं तो पूरी फसल चौपट हो गयी है. शाजापुर में 500 हेक्टेयर,सीहोर में 96, बड़वानी में 40, मंदसौर में 470, मुरैना में 155, झाबुआ में 163, विदिशा में 140 हेक्टेयर में लगी फसल बाढ़ और बारिश की भेंट चढ़ गयी. जमीन शुरुआती आंकलन में बाढ़ और बारिश के कारण करोड़ों रुपए का नुकसान होने की रिपोर्ट है.
Loading...

सड़कों पर पानी भरा


गांधीसागर बांध के गेट खुले
मंदसौर में भारी बारिश के बाद गांधी सागर बांध के 19 में से 3 गेट खोल दिए गए. बांध में पानी की आवक जारी है इसलिए 58095 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है. शिवना नदी पर बने अटल सागर बांध के चार गेट खोल दिए गए हैं. प्रशासन ने निचली बस्तियों में अलर्ट जारी कर दिया है. पड़ोसी राज्य राजस्थान के कोटा जिले में भी बारिश के कारण अलर्ट जारी किया गया है.शिवना नदी में बाढ़ का पानी पशुपतिनाथ महादेव मंदिर के गर्भ गृह में घुस गया है.पशुपतिनाथ महादेव के चारमुख जलमग्न हो गए हैं. मंदिर परिसर खाली कराया जा रहा है.

गांधी सागर डैम के गेट खोले


रतलाम-रेलवे ट्रैक पर पानी
रतलाम में बारिश का पानी रेलवे ट्रैक पर भर गया. यहां स्टेशन पर प्लेटफॉर्म नंबर 4 की पूरी पटरी डूब गयी है. इसका असर ट्रेनों की आवाजाही पर पड़ा है. चार ट्रेन लेट हो गयी हैं. इससे यात्री परेशान हो रहे हैं.रेलवे कर्मचारी पानी निकालने में जुटे हुए हैं. जावरा फाटक अंडरब्रिज में भी पानी भर गया है.


अलीराजपुर में नहीं थमी बारिश
अलीराजपुर में सोमवार शाम से लगातार तेज़ बारिश हो रही है. ज़िले के कई नदी नाले उफान पर हैं. हतनी नदी,ओनखर नदी सहित छोटे-छोटे नाले भी उफन पड़े हैं. जोबट,उदयगढ़, कट्ठीवाड़ा ओर सोंडवा सहित जिले भर में बारिश जारी है. (भोपाल से अनुराग श्रीवास्तव के साथ मंदसौर से नरेन्द्र दंडौतिया, रतलाम से सुधीर जैन और अलीराजपुर से वसीम मकरानी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें-भोपाल में भी मिलाया जा रहा है दूध में डिटर्जेंट!

कमलनाथ सरकार का पेंशनर्स को तोहफा- 12% किया महंगाई भत्ता

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 12:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...