लाइव टीवी

MCU में देर से पहुंचने वाले 24 प्रोफेसरों को नोटिस, 3 HOD पर हुई ये कार्रवाई

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 20, 2020, 9:35 PM IST
MCU में देर से पहुंचने वाले 24 प्रोफेसरों को नोटिस, 3 HOD पर हुई ये कार्रवाई
पढ़ाई को पटरी पर लाने की कवायद में जुटे हैं कुलपति.

माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (Makhanlal Chaturvedi National University of Journalism and Communication) में पढ़ाई को पटरी पर लाने के लिए कुलपति दीपक तिवारी (Deepak Tiwari) पूरी कवायद कर रहे हैं. जबकि उन्‍होंने देर से पहुंचने वाले 24 से ज्‍यादा प्रोफेसरों को नोटिस भी जारी किया है.

  • Share this:
भोपाल. माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (Makhanlal Chaturvedi National University of Journalism and Communication) कुछ दिनों पहले तक छात्रों के धरने को लेकर सुर्खियों बटोर रहा था. जबकि अब लापरवाही बरतने पर वाले प्रोफेसरों पर कुलपति ने सख्ती दिखाई है. यूनिवर्सिटी में समय पर नहीं पहुंचने वाले 24 से ज्‍यादा प्रोफेसरों को कुलपति दीपक तिवारी (Deepak Tiwari) ने शोकॉज नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. इसके अलावा पढ़ाई में लापरवाही करने वाले तीन विभागों के अध्यक्ष को ही बदल दिया गया है.

कुलपति के निरीक्षण के दौरान यूनिवर्सिटी ही नहीं पहुंचे थे प्रोफेसर
यूनिवर्सिटी में कुलपति दीपक तिवारी ने सुबह ही विभागों का निरीक्षण किया. इस दौरान उन्‍हें 24 से ज्यादा प्रोफेसर क्लास से नदारद मिले. हैरानी की बात है कि सिर्फ 10 प्रोफेसर ही पढ़ा रहे थे. यही वजह है कि समय पर कॉलेज नहीं पहुंचने वाले प्रोफेसरों को नोटिस जारी कर कुलपति ने जवाब तलब किया है. इसके बाद आगे की कार्रवाई की बात भी कही गई है.

एचओडी भी बदले

प्रोफेसरों के साथ ही लापरवाही करने वाले तीन एचओडी को भी बदल दिया गया है. अब श्रीकांत सिंह को पत्रकारिता विभाग, पवित्र श्रीवास्तव को जनसंचार का अतिरिक्त प्रभार और राखी तिवारी को पत्रकारिता विभाग से इलेक्ट्रोनिक विभाग भेज दिया है. जबकि संजीव गुप्ता को जनसंचार विभाग से कार्यमुक्त कर दिया गया है, तो रीवा में पदस्थ डॉ. रंजन सिंह को पत्रकारिता विभाग में पदस्थ किया गया है. यही नहीं, भोपाल से लोकेंद्र सिंह राजपूत को रीवा के पत्रकारिता विभाग भेज दिया गया है.

प्रोफेसर की जातिगत टिप्पणी को लेकर यूनिवर्सिटी में हुआ था हंगामा
एमसीयू में एक प्रोफेसर ने जातिगत टिप्पणी की थी. इसके बाद दो छात्रों ने यूनिवर्सिटी के बाहर धरना दिया था, जिसमें छात्रों का विवाद इतना बढ़ गया था कि यूनिवर्सिटी के बाहर सियासी सरगमी भी देखने को मिली थी. हंगामा करने वाले छात्रों को परीक्षा में बैठने की अनुमित नहीं दी गई थी. बाद में छात्रों के मांफीनामा देने के बाद परीक्षा में बैठने की अनुमति दी गई थी. इसके बाद जातिगत टिप्पणी करने वाले प्रोफेसर दीपक मंडल को यूनिवर्सिटी से बाहर कर दिया गया है. यही वजह है कि अब पढ़ाई को पटरी पर लाने के लिए कुलपति औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं को फिर से दुरूस्त करने में जुटे हैं.ये भी पढ़ें-

MP को सौर ऊर्जा से रोशन करने का मेगा प्लान तैयार, 6000 करोड़ रुपए होंगे खर्च

 

नेहरू युवा केंद्रों का बदला जाए नाम- राज्‍यपाल अनसुइया उइके

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 9:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर