लाइव टीवी

बीजेपी पर बरसे मंत्री गोविंद सिंह, कहा विधान परिषद पर 3 महीने में बदला स्टैंड

Anurag Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 30, 2019, 4:25 PM IST
बीजेपी पर बरसे मंत्री गोविंद सिंह, कहा विधान परिषद पर 3 महीने में बदला स्टैंड
मंत्री गोविंद सिंह ने बीजेपी पर 3 महीने में स्टैंड बदलने का आरोप लगाया

मंत्री गोविंद सिंह (Govind Singh) ने बीजेपी (BJP) पर अपने स्टैंड से पलटने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि 3 महीने पहले उन्होंने विधान परिषद (Legislative Council) के गठन के लिए शिवराज सिंह चौहान (Shivraj singh Chouhan) और गोपाल भार्गव (Gopal Bhargav) की सहमति ली थी लेकिन अब राकेश सिंह इसका विरोध कर रहे हैं.

  • Share this:
भोपाल. विधान परिषद (Legislative Council) के गठन पर सरकार की कवायद को लेकर छिड़ी सियासत (Politics) पर कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) के मंत्री गोविंद सिंह (Govind singh) का बड़ा बयान आया है. संसदीय कार्यमंत्री गोविंद सिंह ने कहा है कि विधान परिषद के गठन को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने अपनी सहमति जाहिर की थी. 3 महीने पहले विधान परिषद के गठन को लेकर खुद संसदीय कार्यमंत्री गोविंद सिंह ने शिवराज और गोपाल भार्गव से मुलाकात कर सरकार की पहल पर सहमति ली थी. लेकिन अब बीजेपी के नेता ही विधान परिषद के गठन पर आपत्ति उठा रहे हैं.

बीजेपी की कथनी करनी में अंतर
मंत्री गोविंद सिंह ने बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह की आपत्ति पर कहा है कि भाजपा की कथनी और करनी में अंतर उजागर हो रहा है. संसदीय कार्यमंत्री ने साफ कहा है कि राज्य सरकार कांग्रेस के वचन पत्र में शामिल विधान परिषद के गठन को पूरा करने का काम करेगी और इसके लिए प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट में मंजूर कर सीधे राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा.

News - मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने तमाम प्रक्रियाओं को अगले 10 दिनों में पूरा करने के निर्देश दिए हैं
मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने तमाम प्रक्रियाओं को अगले 10 दिनों में पूरा करने के निर्देश दिए हैं


सत्ता में हर वर्ग को भागीदारी
मंत्री गोविंद सिंह के मुताबिक सरकार की इस पहल से सत्ता में भागीदारी से बचे लोगों को विधान परिषद में जगह मिल पाएगी और सरकार की कोशिश है कि सत्ता में हर वर्ग को भागीदार बनाया जाए. संसदीय मंत्री ने कहा है कि विधान परिषद के गठन पर आने वाले खर्च का आकलन सरकार ने कर लिया है. विधान परिषद के संचालन पर सरकार पर कुल 30-35 करोड़ का खर्च आएगा. दरअसल विधान परिषद के गठन को लेकर सीएम कमलनाथ के निर्देश पर प्रशासनिक अफसरों ने नियम प्रक्रिया तय करना शुरु कर दिया है. कल इस मामले को लेकर मुख्य सचिव एसआर मोहंती की अध्यक्षता में अफसरों की बैठक भी हुई थी. तमाम प्रक्रियाओं को अगले 10 दिनों में पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं.

राकेश सिंह ने विरोध जताया
Loading...

इस पूरे मामले पर शिवराज और गोपाल भार्गव की तरफ से साफतौर पर कोई बयान नहीं आया है, लेकिन बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा है कि इससे बड़े दुर्भाग्य की बात क्या होगी कि किसान रो रहा है और आप विधान परिषद का सपना जनता को दिखा रहे हैं. इसीलिए बीजेपी ने तय किया है कि आगामी 4 नवंबर को हम किसान आक्रोश आंदोलन करेंगे.

ये भी पढ़ें -
दोस्त के घर की शराब पार्टी, फिर उसी की पत्नी का किया रेप, विरोध किया तो पति की कर दी हत्या
एमपी अजब है.. जिला प्रशासन के अधिकारियों ने की सर्पदंश पीड़ितों की झाड़-फूंक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 4:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...