Home /News /madhya-pradesh /

CM कमलनाथ के मंत्री का छलका दर्द, इस बात से हैं परेशान

CM कमलनाथ के मंत्री का छलका दर्द, इस बात से हैं परेशान

कार्यकर्ताओं के काम ना होने से परेशान हैं मंत्री गोविंद सिंह.

कार्यकर्ताओं के काम ना होने से परेशान हैं मंत्री गोविंद सिंह.

मध्‍य प्रदेश के सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह (Minister Govind Singh) ने सूबे में हावी अफसरशाही पर चिंता जताई है. हालात ऐसे हैं कि मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) के निर्देशों पर भी अमल नहीं हो रहा है. यही वजह है कि कार्यकर्ताओं के काम नहीं होने से मंत्री परेशान हैं.

अधिक पढ़ें ...
भोपाल. मध्‍य प्रदेश के सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह (Minister Govind Singh) का सूबे में अफसरशाही के हावी होने पर दर्द छलका है. इस वक्‍त प्रदेश में ऐसे हालात हैं कि प्रभारी मंत्रियों के साथ-साथ तमाम मंत्री भी अपने काम नहीं करवा पा रहे हैं. हैरानी की बात ये है कि कांग्रेस सरकार के गठन के बाद मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) के निर्देशों पर भी अमल नहीं हो रहा है. जी हां, सीएम कमलनाथ के निर्देशों पर प्रदेश में अफसरशाही हावी है और जो आदेश दिया जाता है, उसे अफसर दबा कर बैठ जाते हैं. जबकि प्रदेश के सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह ने स्वीकार किया है कि अफसरशाही हावी होने की वजह से कार्यकर्ताओं के काम नहीं हो पा रहे हैं और इससे उन्‍हें परेशानी हो रही है.

मंत्री गोविंद सिंह ने कही ये बात
कमलनाथ के मंत्री गोविंद सिंह ने कहा है कि सरकार के फैसलों पर अफसरशाही हावी है. उन्‍होंने कहा है कि प्रभारी मंत्रियों के आदेश पर भी अफसर अमल नहीं करते हैं. आलम ये है कि स्कूल शिक्षा विभाग में खुद मंत्री प्रभुराम चौधरी की अफसर नहीं सुन रहे हैं. प्रभारी मंत्रियों के शिक्षकों के तबादलों को लेकर भेजी गई नोटशीट पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. सिर्फ मंत्री ही नहीं बल्कि सीएम कमलनाथ के निर्देशों पर भी नौकरशाही बुरी तरह से हावी है. सभी विभागों के कामकाज पर नजर रखने वाले सामान्य प्रशासन विभाग के मंत्री ने कहा है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जिला सरकारों को पावरफुल बनाने के लिए निर्देश जारी किए हैं, लेकिन उस पर भी अमल नहीं हो पा रहा है.

गोविंद सिंह की बात से सहमत नजर आए दूसरे मंत्री
खास बात ये है कि मंत्री गोविंद सिंह के साथ बैठक में शामिल मंत्री पीसी शर्मा भी सरकार के कामकाज पर अफसरशाही के हावी होने पर सुर से सुर मिलाते नजर आ रहे हैं. क्या है मंत्री का हावी अफसरशाही को लेकर दर्द आप भी सुन लीजिए. ये सच्चाई है कि स्कूल शिक्षा मंत्री हैं प्रभु राम चौधरी, वो अपनों के ट्रांसफार नहीं करवा पा रहे हैं. आनलाइन ट्रांसफार हो रहे हैं. अफसरशाही इतनी हावी है कि प्रभुराम चौधरी के कहने और प्रभारी मंत्रियों के लिखने के बाद भी कोई नहीं सुन रहा. ट्रांसफर के अधिकार प्रभारी मंत्रियों को नहीं दिए गए हैं.

कमलनाथ के आदेश की अवहेलना
सीएम कमलनाथ भी कई बार आदेश निकालने के लिए बोल चुके हैं, लेकिन उनका पालन अधिकार नहीं कर रहे हैं. वैसे ये पहला मौका नहीं है जब प्रदेश में हावी अफसरशाही को लेकर मंत्री गोविंद सिंह का दर्द छलका हो. इससे पहले शनिवार को हुई कमलनाथ कैबिनेट की बैठक में मुबंई में बने सरकार के मध्यालोक भवन को पर्यटन विभाग को सौंपे जाने का प्रस्ताव बिना उनके अनुमोदन के कैबिनेट में लाने पर भी मंत्री गोविंद सिंह ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी.

बहरहाल, प्रदेश में कांग्रेस को सत्ता में आए 9 महीने बीत चुके हैं, लेकिन अब तक प्रशासनिक पकड़ में कमजोर साबित हो रही सरकार के मंत्रियों का दर्द अब सार्वजनिक तौर पर छलकने लगा है. ऐसे में अब मुश्किल उन कार्यकर्ताओं की है जो मंत्रियों से उनके विभाग के काम को लेकर चक्कर लगा रहे हैं. जबकि मंत्रियों की उनके विभाग के अफसर ही नहीं सुन रहे हैं. ऐसे में कार्यकर्ताओं की पूछपरख कैसे हो, ये पार्टी के लिए ही बड़ा सवाल बना गया है.

ये भी पढ़ें-

निकाय चुनाव: BJP-कांग्रेस के बीच सियासत तेज, राज्‍यपाल पर लगे ये आरोप

Navratri 2019: मध्य प्रदेश के इस मंदिर में महाष्टमी पर मां दुर्गा को चढ़ाई गई शराब, श्रद्धालुओं ने पाया प्रसाद

Tags: Dr. Govind Singh, Dr. Prabhuram Chaudhary, Kamal nath, Madhya pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर