लाइव टीवी

Honey Trap : कमलनाथ के मंत्री ने अफसरों को दी क्लीनचिट, बोले-महिला गैंग ने फंसाया

Anurag Shrivastav | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 4, 2019, 6:07 PM IST
Honey Trap : कमलनाथ के मंत्री ने अफसरों को दी क्लीनचिट, बोले-महिला गैंग ने फंसाया
मंत्री गोविंद सिंह

मंत्री गोविंद सिंह ने कहा- जिस तरह से कथित वीडियो सामने आ रहे हैं उन्हें देखकर साफ लगता है कि ये साज़िश है. वीडियो से ज़ाहिर है कि किस तरह से महिला गैंग अफसरों को फंसाने का काम करती थीं.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश (madhya pradesh)में कमलनाथ सरकार (kamalnath government)में मंत्री गोविंद सिंह (govind singh) को नहीं लगता कि हनी ट्रैप (Honey Trap)के इस केस में अफसर दोषी हैं. उन्होंने कहा गैंग की महिलाओं ने ज़बरदस्ती अफसरों को फंसाया है.

महिला गैंग की साज़िश
हनी ट्रैप गैंग की वजह से मध्य प्रदेश में नेताओं से लेकर अफसरों तक भले ही हड़कंप मचा हो, लेकिन मंत्री गोविंद सिंह इसे सिर्फ साज़िश मानते हैं. उनका मानना है कि महिला गैंग ने ज़बरदस्ती नेताओं-अफसरों को फंसाया. गोविंद सिंह ने कहा- जिस तरह से कथित वीडियो सामने आ रहे हैं उन्हें देखकर साफ लगता है कि ये साज़िश है. वीडियो से ज़ाहिर है कि किस तरह से महिला गैंग अफसरों को फंसाने का काम करती थीं.



अफसरों को क्लीन चिट
मंत्री गोविंद सिंह ने अफसरों को क्लीन चिट देते हुए कहा कि हनी ट्रैप मामले के लिए सीधे महिला गैंग ज़िम्मेदार है. न कि अफसर. महिला गैंग ने अफसरों को फंसाया.
अधिकारी बदलने पर सफाई
Loading...

हनी ट्रैप कंटेट की गोपनीयता को लेकर अब सियासी बवाल उठ खड़ा हुआ है. बीजेपी ने चार बार जांच अधिकारी बदले जाने पर सरकार से सवाल पूछा है.बीजेपी के मुताबिक क्या सरकार को पुलिस अफसरों पर भरोसा नहीं है, या फिर जांच को प्रभावित करने के लिए अफसर बदले जा रहे हैं. पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा था कि बार-बार जांच अधिकारी बदले जाने पर अब जांच की विश्वसनीयता खत्म हो गई है. इस पर मंत्री गोविंद सिंह ने कहा सीएम कमलनाथ को मिली शिकायतों के आधार पर जांच कमेटी बदलने का फैसला हुआ है. जांच में न तो किसी को फंसाया जाएगा और न ही किसी को बख्शा जाएगा. जनता के विश्वास को पूरा करना सरकार की जिम्मेदारी है.यही कारण है कि योग्य अफसरों को जांच का जिम्मा सौपकर सरकार सालों से चले आ रहे हनी ट्रैप कांड का सच सामने लाने के प्रयास में है.
चार बदले अफसर
हनी ट्रैप केस के शीर्ष जांच अधिकारी चार बार बदले जा चुके हैं. फिलहाल जांच का जिम्मा राजेंद्र कुमार के नेतृत्व वाली एसआईटी के पास है.इससे पहले सरकार ने इंदौर के पलासिया थाने में रिपोर्ट दर्ज होने पर थाना टीआई को हटाया. उसके बाद आईडी श्रीनिवास वर्मा की अध्यक्षता वाली एसआईटी बनायी गयी. फिर श्रीनिवास वर्मा से जांच लेकर संजीव शमी को सौंपी.फिर संजीव शमी से जांच लेकर राजेंद्र कुमार को एसआईटी प्रमुख बनाया गया.

ये भी पढ़ें-Honey Trap: आरोपी के पति का खुलासा, कहा- मेरी पत्नी के बड़े मंत्रियों से संबंध

हनी ट्रैप: नेता-अफसरों के पास भेजीं कम उम्र की लड़कियां, घेरे में 13 रसूख़दार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 4:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...