vidhan sabha election 2017

अनाज के घोटाले  में जांच के पहले ही  मंत्री दे रहे अफसरों को क्लीन चिट

Makarand Kale | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 8, 2017, 11:06 AM IST
अनाज के घोटाले  में जांच के पहले ही  मंत्री दे रहे अफसरों को क्लीन चिट
हितेष वाजपेई, अध्यक्ष, नागरिक आपूर्ति निगम फोटो- ईटीवी
Makarand Kale | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 8, 2017, 11:06 AM IST
मध्यप्रदेश की राजधानी में हुए अनाज घोटाले के तार जिले से बाहर भी जुड़ रहे हैं, लेकिन विभागीय मंत्री ने जांच से पहले ही अपने अफसरों को क्लीन चिट दे  रहे हैं.

गेहूं घोटाले के मामले में भोपाल का जिला प्रशासन जांच कर रहा है. अब तो बाहरी जिलों के तार भी मामले से जुड़ गए लेकिन जांच की किसी तरह की रिपोर्ट तैयार होती इससे पहले ही विभाग मंत्री ओम प्रकाश धुर्वे ने विभाग को क्लीन चिट दे डाली.

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे का कहना है कि उनके भोले भाले विभाग का कोई हाथ नहीं है. नागरिक आपूर्ति निगम की जिम्मेदारी है कि वो सरकारी अनाज सही लोगों तक पहुंचाए, अनाज पहुंचने तक पूरी मॉनिटरिंग विभाग करता है, मामले में अफसरों की मिलीभगत या लापरवाही?

इसके लिए जिन्हें जिम्मेदार माना जा रहा-

1- हितेष वाजपेई, अध्यक्ष, नागरिक आपूर्ति निगम
2- विवेक पोरवाल, कमिश्नर, नागरिक आपूर्ति निगम
3- खानापूर्ति के लिए जिला स्तर के 2 कर्मचारियों को निलंबित किया गया

मंडी की जिम्मेदारी है कि वो अपने परिसर में आने जाने वाले वाहनों और सामान पर कड़ी निगरानी रखे, लेकिन इसमें लापरवाही बरती गई. इसकी भी जांच जारी है.

जिम्मेदारी-
1- फैज अहमद किदवई, सह आयुक्त मंडी बोर्ड
2- विनय पटेरिया, सचिव,  करोंद मंडी

अपनी गर्दन बचाने पर सबका ध्यान है लेकिन गरीब का करोड़ों का राशन कालाबाजारी करने वाले डकार गए, मंत्री को शायद इससे सरोकार नहीं है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर