बच्चों से ज्यादती के मामले में UP और MP अव्वल, SC ने 10 दिन में मांगी रिपोर्ट

देश में बच्चों से ज्यादती के मामले में सबसे खराब स्थिति उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की है. उत्तरप्रदेश में इस दाैरान सबसे अधिक 3,457 केस दर्ज हुए, जबकि 2,389 मामलाें के साथ मध्यप्रदेश दूसरे नंबर पर रहा.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 16, 2019, 9:49 AM IST
बच्चों से ज्यादती के मामले में UP और MP अव्वल, SC ने 10 दिन में मांगी रिपोर्ट
प्रतीकात्मक तस्वीर: देश में बच्चों से ज्यादती के मामले में उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश अव्वल हैं
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 16, 2019, 9:49 AM IST
देश में बच्चों से ज्यादती के मामले में सबसे खराब स्थिति उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की है. पूरे देश में इस वर्ष 1 जनवरी से 30 जून तक बच्चों से दुष्कर्म व यौन शोषण के 24,212 केस आए हैं. उत्तरप्रदेश में इस दाैरान सबसे अधिक 3,457 केस दर्ज हुए, जबकि 2,389 मामलाें के साथ मध्यप्रदेश दूसरे नंबर पर रहा. इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने खुद ही संज्ञान लेते हुए देश भर के सभी राज्यों के हाईकोर्ट से जिलेभर की रिपोर्ट मांगी है.

सुप्रीम काेर्ट ने यह ब्योरा 10 दिन में पेश करने को कहा है

बच्चों का शोषण-sexual abuse of children
गौरतलब है कि इस साल 1 जनवरी से 30 जून तक देश में बच्चों से दुष्कर्म व यौन शोषण के 24,212 केस आए हैं.


कोर्ट ने बच्चाें से ज्यादती के कुल मामले और और उन मामलों के अदालताें में लंबित पड़ी रहने की अवधि का भी ब्योरा मांगा है. सुप्रीम काेर्ट ने सभी हाईकाेर्ट के रजिस्ट्रार से यह ब्योरा 10 दिन में पेश करने को कहा है. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 25 जुलाई को हाेनी है.

आंकड़ों के विश्लेषण के बाद सुप्रीम कोर्ट देगा राज्यों को निर्देश

सुप्रीम काेर्ट ने वर्तमान कैलेंडर वर्ष की पहली छमाही का आंकड़ा मांगा था. बीते साेमवार काे सुनवाई के दाैरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने वर्ष 2018 में बच्चों से ज्यादती के मामलाें का पूरा डेटा पेश करने के निर्देश दिए. रिपोर्ट मिलने के बाद उसका विश्लेषण किया जाएगा और फिर कोर्ट इन मामलों कोे निपटाने के लिए राज्याें काे दिशा-निर्देश जारी करेगा.

यह भी पढ़ें: ANALYSIS: कांग्रेस में बड़ी भूमिका की तलाश में हैं सिंधिया
Loading...

मध्य प्रदेश: 20 रुपये की चोरी का मामला चला 41 साल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 16, 2019, 9:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...