4 महीने में फिर बदल दिये गए मुरैना एसपी : सुनील कुमार पांडे हटाए गए, ललित शाक्यवार को कमान

मुरैना में माफिया हावी हो गया है

मुरैना में माफिया हावी हो गया है

Bhopal. ज़हरीली शराब कांड के बाद सरकार ने चार महीने पहले मुरैना कलेक्टर और एसपी बदले गए थे. मुरैना कलेक्टर अनुराग वर्मा को मंत्रालय और पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया को पुलिस मुख्यालय भोपाल में एआईजी बनाकर भेज दिया गया था.

  • Share this:

भोपाल. मुरैना (Morena) एसपी (SP) सुनील कुमार पांडे का तबादला कर दिया गया है. मुरैना जहरीली शराब कांड के बाद उन्हें यहां भेजा गया था. लेकिन जिले में माफिया हावी होने और कानून व्यवस्था बिगड़ने के कारण हटा दिया गया. ललित शाक्यवार मुरैना के नये एसपी होंगे.

बताया जा रहा है कि 4 महीने में सुनील कुमार पांडे ना माफिया पर नकेल कस पाए और ना ही वहां की कानून व्यवस्था को ठीक कर पाए. यही कारण है कि सरकार ने उनका ट्रांसफर पुलिस मुख्यालय कर दिया है. उनकी जगह ललित शाक्यवार को मुरैना एसपी बनाकर भेजा गया है.

माफिया हावी-कानून व्यवस्था फेल

मुरैना शराब कांड के बाद सुनील कुमार पांडे को जिले की कमान सौंपी गई थी. लेकिन कहा जा रहा है कि शराब माफिया हो या फिर रेत माफिया, सुनील कुमार पांडे नकेल नहीं कस सके. साथ ही एक अश्लील पोस्ट सोशल मीडिया पर डालने के बाद गुर्जर और क्षत्रिय समाज के बीच भी जमकर हिंसा हुई. खुलेआम लोगों ने फायरिंग की और बसों को नुकसान पहुंचाया. यह मामला कोतवाली थाना क्षेत्र का था. समय रहते कार्रवाई नहीं होने के कारण मुरैना जिले में तनाव फैल गया. आए दिन मारपीट और झगड़े की खबर आने लगीं. जिले की कानून और सुरक्षा व्यवस्था के साथ माफिया पर नकेल नहीं करने की वजह से सुनील कुमार पांडे पर गाज गिरी.


इसलिए दी थी जिले की कमान

ज़हरीली शराब कांड के बाद सरकार ने चार महीने पहले मुरैना कलेक्टर और एसपी बदले गए थे. मुरैना कलेक्टर अनुराग वर्मा को मंत्रालय और पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया को पुलिस मुख्यालय भोपाल में एआईजी बनाकर भेज दिया गया था. दोनों अफसरों को मुरैना में जहरीली शराब कांड में 28 लोगों की मौत के मामले में हटाया गया था. उनकी जगह डिंडौरी कलेक्टर वक्की कार्तिकेयन को मुरैना का कलेक्टर बनाया गया था. जबकि 25वीं बटालियन भोपाल के कमांडेंट सुनील कुमार पांडे को पुलिस अधीक्षक बनाकर भेजा गया था. सुनील कुमार पांडे को इसलिए मुरैना जिले की जिम्मेदारी दी गयी थी ताकि वहां के हालात कंट्रोल में हो सकें. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज