MP Assembly by Election : कोरोना काल में कांग्रेस के 'रेड जोन' में कमलनाथ करेंगे सर्जरी
Bhopal News in Hindi

MP Assembly by Election : कोरोना काल में कांग्रेस के 'रेड जोन' में कमलनाथ करेंगे सर्जरी
MP Assembly by Election : कमलनाथ ग्वालियर-चंबल में संगठन में करेंगे बड़ा फेरबदल

सर्वे के बाद पीसीसी चीफ कमलनाथ ने अब उन पर फोकस करना तेज कर दिया है, जहां कांग्रेस को उपचुनाव में हार का अंदेशा है. इसके लिए पार्टी के बड़े नेताओं को इस बात की जिम्मेदारी दी गयी है कि वह खुद अपने स्तर पर बूथ में पार्टी को मजबूत करें

  • Share this:
भोपाल. कोरोना संक्रमण (corona virus) के इस दौर में कांग्रेस अपने रेड जो़न (red zone) की पहचान कर रही है.ये वो इलाके हैं जहां कांग्रेस (congress) कमज़ोर है. लक्ष्य है रेड को ग्रीन में बदलने का और फोकस है ग्वालियर-चंबल पर (gwalior-chambal).यही वो इलाका है जहां 16 सीटें 'महाराज' और 'राजा' के बीच नाक का सवाल बनेंगीं. कांग्रेस यहां बूथ स्तर तक जाकर ग्रास रूट लेवल पर पार्टी को मज़बूत करना चाहती है.

प्रदेश में राज्यसभा चुनाव के बाद विधानसभा उपचुनाव की सरगर्मी तेज हैं. कांग्रेस पार्टी ने अब उन बूथ पर फोकस तेज कर दिया है जहां पार्टी कमजोर है. पार्टी इन इलाकों को रेड जोन मानकर चल रही है.उसने कमजोर बूथ को रेड पॉइंट बनाकर उसे ग्रीन में तब्दील करने की जिम्मेदारी पूर्व मंत्री और विधायकों को दी है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ विधायकों के साथ मंथन भी कर चुके हैं.

ग्वालियर-चंबल के रेड ज़ोन
कांग्रेस सबसे पहले ग्वालियर चंबल की 16 विधानसभा सीटों में कमजोर बूथ की पहचान कर रही है. विधानसभा वार नियुक्त पूर्व मंत्री और विधायकों को इस बात की जिम्मेदारी दी गई है कि वह विधानसभा स्तर पर कमजोर बूथ की पहचान कर उन्हें मजबूत करें. साथ ही मंडल और सेक्टर स्तर पर संगठन की इकाइयां गठित करने की भी तैयारी है. ग्वालियर चंबल इलाके में कांग्रेस का चेहरा रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया के दल बदलने के बाद पार्टी की मुश्किल वहां नये सिरे से संगठन को खड़ा करने की है.
ये भी पढ़ें-UNLOCK : अब शादी के लिए नहीं लेना होगी प्रशासन से इजाज़त, मैरिज गार्डन खुले



MP Weather Forecast : सियासी पारे में तप रहे ग्वालियर में आयी बरखा बहार, प्रदेश में 111 फीसदी ज़्यादा बारिश

सर्वे से सहमी कांग्रेस
पीसीसी चीफ कमलनाथ के सर्वे में इस बात की जानकारी सामने आई है कि ग्वालियर चंबल इलाके के कई इलाकों में कांग्रेस बूथ स्तर पर बेहद कमजोर हो गई है. कई जगह तो कॉंग्रेस के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बचे ही नहीं हैं.सर्वे के बाद पीसीसी चीफ कमलनाथ ने अब उन पर फोकस करना तेज कर दिया है, जहां कांग्रेस को उपचुनाव में हार का अंदेशा है. इसके लिए पार्टी के बड़े नेताओं को इस बात की जिम्मेदारी दी गयी है कि वह खुद अपने स्तर पर बूथ में पार्टी को मजबूत करें.

कमलनाथ ने संभाली कमान
पार्टी के सर्वे में कमजोर बूथ की जानकारी सामने आने के बाद कांग्रेस पार्टी चौकन्ना हो गई है. खुद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कमजोर बूथ को लेकर तैयार होने वाली रणनीति की जिम्मेदारी संभाल ली है. इसके लिए वह हर एक बूथ पर विधानसभा के प्रभारी विधायक और पार्टी नेताओं से फीडबैक ले रहे हैं. कमजोर बूथ को मजबूत बनाने के लिए पार्टी नेताओं को 1 हफ्ते का समय दिया है. विधानसभा प्रभारी मौके पर पहुंचकर बूथ वार बैठक कर संगठन को मजबूत करेंगे.उसके बाद अपनी रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को सौंपेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading