अपना शहर चुनें

States

BHOPAL : दिवंगत लोगों को श्रद्धांजलि के बाद विधानसभा की कार्यवाही कल तक के लिए स्थगित

कोरोना के कारण लंबे अंतराल के बाद हो रहा विधानसभा का सत्र इस बार 33 दिन का होगा.
कोरोना के कारण लंबे अंतराल के बाद हो रहा विधानसभा का सत्र इस बार 33 दिन का होगा.

bhopal:मध्य प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र सोमवार 22 फरवरी से शुरू हुआ है.पहले दिन विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव हुआ और राज्यपाल का अभिभाषण हुआ.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश विधानसभा (Assembly) के बजट सत्र (Budget session) के आज दूसरे दिन सदन में दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी गयी.दिवंगत नेता मोतीलाल वोरा, कैलाश सारंग, रामविलास पासवान, तरुण गोगोई, बूटा सिंह, सतीश शर्मा, समेत कई और दिवंगत नेताओं को सदस्यों ने याद किया.विधायकों ने उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने और सीधी बस हादसे में मारे गए लोगों को भी श्रद्धांजलि दी.किसान आंदोलन के दौरान मृत किसानों को श्रद्धांजलि न देने के मुद्दे पर विपक्ष ने सदन में शोर-शराबा किया जिसे अध्यक्ष गिरीश गौतम ने शांत कराया.दिवगंतों को श्रद्धांजलि देने के बाद दूसरे दिन की कार्यवाही कल बुधवार तक के लिए स्थगित कर दी गयी.

उससे पहले सदन में दिवंगत नेताओं और लोगों को सदस्यों ने श्रद्धांजलि दी.सीएम शिवराज ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता रहे स्व. कैलाश सारंग को याद करते हुए कहा वो हम सबके मार्गदर्शन थे. सही राह दिखाते थे.नेता प्रतिपक्ष कमल नाथ ने कहा कैलाश सारंग ने सबका दिल जीता था.ऐसा कम ही होता है कि कोई नेता सबका दिल भी जीते.उन्होंने अपनों के साथ साथ विपक्ष के लोगों का भी दिल जीता.कभी कभी मैं सोचता था काश ऐसे नेता हमारे पास भी होते.सदन में सीधी बस हादसे में मारे गए लोगों को भी श्रद्धांजलि दी गयी.नेता प्रतिपक्ष कमल नाथ ने सीधी हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को रोजगार देने की मांग उठाई. उन्होंने कहा सदन में मुरैना शराब कांड में मारे गए लोगों को भी श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए.साथ ही किसान आंदोलन में मारे गए लोगों को भी मैं श्रद्धाजंलि देता हूं.

विधानसभा में किसानों के मुद्दे पर हंगामा
किसान आंदोलन में मारे गए किसानों का जिक्र कार्यसूची में नहीं होने पर सदन में हंगामा हुआ.कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने इस पर आपत्ति जताई.किसान आंदोलन में मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि का जिक्र क्यों नहीं किया.काफी शोर शराबा होने पर अध्यक्ष गिरीश गौतम ने सबको शांत कराया.



कांग्रेस का एतराज़
किसान कर्ज माफी के सवालों को लेकर कांग्रेस नेता और पूर्व गृहमंत्री बाला बच्चन ने कहा कि सरकार की मंशा साफ नहीं है.उन्होंने आरोप लगाया कर्जमाफी से जुड़े सभी विधायकों के सवाल का जवाब नहीं दिया गया और सरकार के तरफ से कहा गया कि जानकारी बताई जा रही है. कर्ज माफी के इस मुद्दे को बजट सत्र के दौरान भी उठाएंगे और प्रदर्शन भी करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज