Assembly Banner 2021

लव जिहाद पर कांग्रेस को BJP के मंत्री की खुली चुनौती, कहा- दम है तो ये करके दिखाएं

कांग्रेस को BJP के मंत्री ने लव जिहाद पर समर्थन के लिए ललकारा है.  (File)

कांग्रेस को BJP के मंत्री ने लव जिहाद पर समर्थन के लिए ललकारा है. (File)

BJP के मंत्री विश्वास सारंग ने कांग्रेस और पूर्व मुख्यमंत्री को खुली चुनौती दी है. लव जिहाद मामले पर कांग्रेस को चुनौती है कि अगर वह महिलाओं का सम्मान करती है तो धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक का समर्थन करके दिखाए.

  • Last Updated: March 7, 2021, 4:05 PM IST
  • Share this:
भोपाल. विधानसभा में सोमवार को लव जिहाद के खिलाफ धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक पर चर्चा होगी. इस चर्चा को लेकर BJP ने रविवार को कांग्रेस को को खुली चुनौती दी है. BJP का कहना है कि यदि कांग्रेस महिलाओं का सम्मान करती है तो सदन में उसे इस कानून का समर्थन करना चाहिए. वहीं कांग्रेस का कहना है कि यह पुराना कानून है. BJP सिर्फ ध्यान भटकाने की राजनीति करती है.

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा- मैं कांग्रेस के नेताओं को चुनौती देता हूं. आप यदि सही मायने में महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं और उनका सम्मान करते हैं तो विधानसभा में लव जिहाद के खिलाफ बने कानून का समर्थन करें. लव जिहाद के विरोध में हमारा साथ दें और विधेयक के पक्ष में हमारा समर्थन करें. कल इस विधेयक पर चर्चा होनी है, कल महिला दिवस है.  कमलनाथ जी सदन में बोलें कि वह इस कानून का समर्थन करते हैं और लव जिहाद का विरोध करते हैं. कांग्रेस पार्टी का स्टैंड इस पर स्पष्ट होना चाहिए.

कांग्रेस ने दिया ये जवाब



इस पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने विश्वास सारंग की चुनौती पर कहा कि धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक पुराना कानून है. नए कानून को लाकर सिर्फ जनता के ध्यान को भटकाने की राजनीति की जा रही है. बीजेपी सरकार में सबसे ज्यादा महिला अपराध हुए हैं. मैं सदन में पूरे तथ्यों के साथ इसका जवाब दूंगा. हम नहीं, बल्कि बीजेपी ने महिलाओं का अपमान किया है.
महिला कांग्रेस के प्रदर्शन पर साधा निशाना

कल होने वाले महिला कांग्रेस के प्रदर्शन पर मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि राजनीतिक रोटी सेंकने के लिए महिलाओं का आंदोलन किया जा रहा है. महिलाओं का अपमान करने का काम कांग्रेस ने किया है. प्रदर्शन करने से महिलाओं का सम्मान नहीं आएगा. कांग्रेस के नेताओं को अपने व्यक्तित्व में बदलाव लाकर महिला सम्मान करना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज