लाइव टीवी

प्रह्लाद लोधी केस में bjp प्रदेश अध्यक्ष बोले- ये लोकतंत्र की जीत और कांग्रेस के मुंह पर तमाचा

News18 Madhya Pradesh
Updated: December 6, 2019, 3:24 PM IST
प्रह्लाद लोधी केस में bjp प्रदेश अध्यक्ष बोले- ये लोकतंत्र की जीत और कांग्रेस के मुंह पर तमाचा
प्रह्लाद लोधी केस में bjp प्रदेश अध्यक्ष बोले- ये लोकतंत्र की जीत और कांग्रेस के मुंह पर तमाचा

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह ((rakesh singh) ने कहा सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने साफ कर दिया कि प्रह्लाद लोधी ((prahlad lodhi)) विधानसभा के सदस्य थे और आने वाले समय में भी रहेंगे. उन्होंने कहा मध्य प्रदेश सरकार और विधानसभा अध्यक्ष को प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिए

  • Share this:
दिल्ली. पवई से विधानसभा चुनाव जीते बीजेपी (bjp) के प्रह्लाद लोधी (prahlad lodhi) केस में सुप्रीम कोर्ट (supreme court) के फैसले का प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह (rakesh singh) ने स्वागत किया है. उन्होंने कहा लोकतंत्र की फिर जीत हुई है. कोर्ट का फैसला कांग्रेस (congress) के मुंह पर तमाचा है. सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश सरकार की याचिका खारिज कर प्रह्लाद लोधी के साथ इंसाफ किया है.

दिल्ली दौरे पर आए मध्य प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा लोकतंत्र की फिर जीत हुई है. विधायक प्रह्लाद लोधी को लेकर राजनीति कर रही कांग्रेस के मुंह पर तमाचा पड़ा है. सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश सरकार की याचिका खारिज कर भाजपा की बात को सच साबित किया है. भाजपा लगातार कह रही थी कि प्रह्लाद लोधी के साथ ज्यादती हुई है.

स्पीकर का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण
राकेश सिंह ने विधानसभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति पर हमला करते हुए कहा कि उनका फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है.वैसे विधानसभा अध्यक्ष के प्रति सभी का सम्मान होता है. मगर मध्य प्रदेश में उनका रवैया निंदनीय रहा है. उनको पार्टी की राजनीति नहीं करनी चाहिए थी.राकेश सिंह ने कहा अदालत ने प्रह्लाद लोधी को सज़ा सुनाने के साथ ही अपील करने का समय दिया था. लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने प्रह्लाद लोधी की सदस्यता आनन-फानन में समाप्त करने का फैसला कर दिया. बाद में हाईकोर्ट ने भी कहा था कि विधानसभा अध्यक्ष ने जल्दबाजी में फैसला किया है.

कानूनी कार्रवाई पर विचार
प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने साफ कर दिया कि प्रह्लाद लोधी विधानसभा के सदस्य थे और आने वाले समय में भी रहेंगे. उन्होंने कहा मध्य प्रदेश सरकार और विधानसभा अध्यक्ष को प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिए. विधानसभा अध्यक्ष के फैसले की वजह से गलत संदेश लोगों में गया.उन्होंने बताया कि अब आगे क्या कानूनी कर्रवाई हो सकती इस पर भी विचार करेंगे.

(दिल्ली से रिपोर्टर अशरफ काज़मी की रिपोर्ट)ये भी पढ़ें-विदेश भाग सकते हैं ई-टेंडर के घोटालेबाज़! एक का वीजा रद्द

वांटेड जीतू सोनी की गिरफ़्तारी पर 30 हज़ार का इनाम, महाराष्ट्र में होने की ख़ब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2019, 3:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर