MP बोर्ड ने 10th व 12th बोर्ड की सप्लीमेंट्री परीक्षा की तारीख घोषित की, ऑनलाइन भरे जाएंगे फॉर्म

MP Board ने 10th-12th की सप्लीमेंट्री परीक्षाओं की तारीख घोषित की
MP Board ने 10th-12th की सप्लीमेंट्री परीक्षाओं की तारीख घोषित की

एमपी बोर्ड के मुताबिक कक्षा 12वीं के 97960 नियमित (Regular)परीक्षार्थी और 23577 प्राइवेट विद्यार्थी (Private students) पूरक परीक्षा देंगे. वहीं कक्षा दसवीं में 108448 नियमित (रेगुलर)परीक्षार्थी और 29083 प्राइवेट विद्यार्थी Supplementary exam देंगे.

  • Share this:
भोपाल. एमपी बोर्ड (MP Board) द्वारा कक्षा 10वीं और 12वीं की पूरक परीक्षाओं (Supplementary exam) की तारीखों की घोषणा कर दी गई है. कक्षा बारहवीं की पूरक परीक्षा 14 सितंबर से तो वहीं कक्षा दसवीं के छात्र-छात्राओं की पूरक परीक्षा 15 सितंबर से शुरू होने जा रही है. परीक्षाओं को लेकर एमपी बोर्ड ने 10th का टाइम टेबल जारी कर दिया है. वहीं कक्षा बारहवीं का विषयवार टाइम जल्दी ही जारी किया जाएगा.

रेगुलर व प्राइवेट छात्र ऑनलाइन भर सकेंगे फॉर्म
पूरक परीक्षाएं (Supplementary exam) सुबह 9 बजे से 12 बजे तक आयोजित कराई जायेंगी. इनके लिए मध्य प्रदेश बोर्ड सप्लीमेंट्री परीक्षा देने के इच्छुक छात्रों से ऑनलाइन फॉर्म भरवाएगा. एमपी बोर्ड के मुताबिक कक्षा 12वीं के 97960 नियमित (Regular)परीक्षार्थी और 23577 प्राइवेट विद्यार्थी (Private students) पूरक परीक्षा देंगे. वहीं कक्षा दसवीं में 108448 नियमित (रेगुलर)परीक्षार्थी और 29083 प्राइवेट विद्यार्थी पूरक परीक्षा देंगे.

10th के सप्लीमेंट्री एग्जाम का टाइम टेबल
15 सितंबर-द्वितीय और तृतीय- भाषा संस्कृत


16 सितंबर-गणित
17 सितंबर-तृतीय भाषा- उर्दू, मराठी गुजराती, पंजाबी, सिंधी
18 सितंबर-सामाजिक विज्ञान
19 सितंबर-द्वितीय व तृतीय- भाषा अंग्रेजी
21 सितंबर-विज्ञान
22 सितंबर-नेशनल स्किल्स क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क

ये भी पढ़ें- MP Board का फैसला, COVID-19 के चलते परीक्षा से वंचित हुए छात्र फिर से दे सकेंगे Exam

'रुक जाना नहीं' योजना के तहत भी मिलेगा छात्रों को मौका
कक्षा दसवीं और बारहवीं में फेल होने वाले परीक्षार्थियों को अगली कक्षा में जाने के लिए मध्य प्रदेश सरकार की 'रुक जाना नहीं' योजना भी है. जिसके तहत फेल हुए परीक्षार्थी को साल में दो बार 'रुक जाना नहीं' योजना के तहत फिर से परीक्षा देने का मौका मिलेगा. अगर परीक्षार्थी 6 महीने में पहली बार आयोजित होने वाली परीक्षा में भी फेल होते हैं तो दूसरे 6 महीने में आयोजित होने वाली 'रुक जाना नहीं योजना' के तहत परीक्षा देकर दूसरी बार पास होने का मौका मिलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज