MP Board Exam कल से होगी शुरू, CCTV की निगरानी में रहेंगे छात्र

छत्तीसगढ़ सरकार ने ये निर्णय लिया है.
छत्तीसगढ़ सरकार ने ये निर्णय लिया है.

एमपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं सोमवार से होने जा रही है. इसमें पूरे प्रदेश से कुल 19,38,308 परीक्षार्थी शामिल होने जा रहे हैं.

  • Share this:
भोपाल. एमपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं सोमवार से होने जा रही है. इस दौरान 793 परीक्षा केंद्रों में धारा 144 लगाई जा सकती है. इसके साथ ही नकल रोकने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल (MP Board of Secondary Education) ने पूरी प्रशासनिक तैयारी कर ली है. इस दौरान प्रशासन इस तरह की शिकायत मिलने वाले केंद्रों पर पैनी नजर बनाए रखेगा. इसके अलावा नकल की शिकायत मिलने पर विशेष जांच कराई जाएगी. सूत्रों का कहना है कि ऐसे मामलों में मान्यता देने या केंद्र खत्म करने की कार्रवाई हो सकती है.

कलेक्टरों को लिखा गया है पत्र

जानकारी के अनुसार, प्रदेश के 793 परीक्षा केंद्रों में धारा 144 लगाने के लिए सभी कलेक्टरों को पत्र लिखा गया है. इसके अलावा संवेदनशील और अति संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर वीडियो रिकॉर्डिंग की व्यवस्था की गई.



2 और 3 मार्च से शुरू हो रही है परीक्षाएं
एमपी बोर्ड के 12वीं की परीक्षाएं दो मार्च से शुरू हो रही है और 10 वीं की 3 मार्च से. इसको लेकर एमपी माध्यमिक शिक्षा मंडल ने जिला प्रशासन के सहयोग से सारी तैयारियां पूरी कर ली है. परीक्षा केंद्रों पर निगरानी को लेकर भी पुख्ता इंतजाम किए गए है. वहीं, संवेदनशील और अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर निगरानी के लिए वीडियोग्राफी औऱ सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है. इस दौरान नकल को रोकने और सुरक्षा में कहीं कोई चूक ना रह जाए इस पर ख्याल कर माशिमं ने जिला प्रशासन को पत्र लिखकर धारा 144 लगाने की अपील की है.

नकल रोकने के लिए मांगा गया है प्रशासनिक सहयोग

बताया जा रहा है कि माध्यमिक शिक्षा मंडल ने नकल रोकने के लिए कलेक्टरों से सहयोग मांगा है. माध्यमिक शिक्षा मंडल ने सभी जिलों के कलेक्टर को पत्र लिखकर ये मांग की है कि परीक्षाओं के मद्देनजर संवेदनशील और अति संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर धारा 144 लगाई जाए.

19 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी होंगे शामिल

गौरतलब है कि एमपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में पूरे प्रदेश से कुल 19,38,308 परीक्षार्थी शामिल होंगे. इसमें 12वीं की परीक्षा में 8लाख 1हजार 864 कैंडिडेटस शामिल है. वहीं, 10वीं की परीक्षा में 11 लाख 28 हज़ार 316 स्टूडेंट्स शामिल होंगे. 10वीं की परीक्षा के लिए प्रदेश भर में 3936 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. जबकि 12वीं के परीक्षा के लिए 3659 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. इन परीक्षा केन्द्रों में से संवेदनशील परीक्षा केंद्रों की संख्या 257 है. वहीं 536 केन्द्र अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्रों की गिनती में है. इन सभी केन्द्रों पर माशिमं ने जिला प्रशासन को चिठ्ठी लिखकर धारा 144 लगाने की मांग की है.

शिकायत पर होगी सख्त कार्रवाही

सूत्रों का कहना है कि एमपी बोर्ड का पूरा फोकस इस बात को लेकर है की परीक्षा में कोई भी विद्यार्थी नकल ना कर पाए. नकल रोकने के लिए खासा प्रयासों में इस बात का भी चर्चा की गई है कि जिन केंद्रों पर नकल या अनियमितता की शिकायतें मिलेंगी तो मंडल उसकी विशेष जांच कराएगा. जांच के दौरान यदि नकल की बात सामने आती है तो वैसे स्कूल की मान्यता या केंद्र खत्म करने की कार्रवाई की जाएगी.

इन जिलों में होगी विशेष निगरानी

पूरे राज्य भर में लगभग एक दर्जन जिले ऐसे है जिन्हें अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्रों के वर्ग में रखा गया है. इनमें इंदौर, ग्वालियर, मुरैना, भिंड, रीवा, श्योपुर सहित कुछ अन्य जिले ऐसे है, जहां विशेष निगरानी के निर्देश दिए गए है.

एक ही सत्र में होंगी ये परीक्षाएं

हाई स्कूल के लिए प्राइवेट और रेगुलर एंड हायर सेकेंडरी के लिए व्यवसायिक, डीपीएसई, शारीरिक शिक्षा प्रशिक्षण के पेपर सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक एक ही शिफ्ट में लिए जाएंगे.

दिव्यांगों के लिए किए गए हैं विशेष इंतजाम

दिव्यांग विद्यार्थियों को पेपर देने में कोई असुविधा ना हो इस बात का भी खास ख्याल रखा गया है. दिव्यांग परीक्षार्थियों के लिए पेपर देने का समय दोपहर 1 बजे से शाम 4 बजे तक रहेगा.

केंद्रों पर होगी वीडियो रिकॉर्डिंग

माशिमं ने संवेदनशील और अतिसंवेदनशील कैटेगरी के परीक्षा केंद्रों में वीडियो रिकॉर्डिंग कराने की व्यवस्था भी की है. जिला प्रशासन ने अपने स्तर पर तैयारियां पूरी कर ली है जिससे नकल तो रोकी ही जाए साथ ही सुरक्षा का भी खास ख्याल रखा जाए.

ये भी पढ़ें:

सलवार-कुर्ता पहन गर्लफ्रेंड से मिलने जा रहा था, बच्चा चोर समझ भीड़ ने पीटा

सलवार-कुर्ता पहन गर्लफ्रेंड से मिलने जा रहा था, बच्चा चोर समझ भीड़ ने पीटा

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज