MP By Election : कमलनाथ बोले मेरी क्या गलती थी ? बीजेपी ने गिना दी पूरी लिस्ट 

पूरी बीजेपी का फोकस अब कमलनाथ पर है. वो उन्हें चारों ओर से घेर रही है.
पूरी बीजेपी का फोकस अब कमलनाथ पर है. वो उन्हें चारों ओर से घेर रही है.

कांग्रेस (Congress) पार्टी इसी मुद्दे को लेकर जनता (Public) के बीच जा रही है और यह सवाल कर रही है कि आखिरकार जनता को सोचना चाहिए कि यह उपचुनाव मध्यप्रदेश में क्यों हो रहा है ?

  • Share this:
भोपाल.मध्यप्रदेश में विधानसभा उपचुनाव (By Election) की तारीख करीब आते ही बीजेपी और कांग्रेस के बीच राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. दोनों पार्टियां अपने चुनावी कैंपेन को धार देने में जुट गई हैं. एक तरफ जहां कमलनाथ (Kamalnath) जनता के बीच इमोशनल कार्ड खेल रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी इसका काउंटर करने के लिए अपनी पूरी टीम तैयार कर रही है.

चुनाव प्रचार के दौरान कमलनाथ के इमोशनल कार्ड है-आखिर क्या गलती थी जो 15 महीने में उनकी सरकार चली गई. बीजेपी ने इस पर काउंटर अटैक किया है. बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने प्रदेश मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कमलनाथ सरकार की गलतियों की पूरी लिस्ट सामने रख दी. बीजेपी ने तय किया है कि वो कमल नाथ सरकार की गलतियां गिनना शुरू करेगी. बीजेपी का कहना है कमलनाथ सरकार ने 15 महीने तक किसानों के साथ पाप करने की गलती की. किसानों को राहत राशि नहीं देने की गलती की. भावन्तर की राशि नहीं देने की गलती की. फसलों पर बोनस का वचन पूरा न करने की गलती. किसानों के कृषि उपकरण पर अनुदान नहीं देने की गलती की. किसान सम्मान निधि नहीं देने की गलती की. संबल योजना को बंद करने की गलती की.

कमल नाथ का इमोशनल कार्ड
दरअसल पीसीसी चीफ कमलनाथ अपने पूरे चुनाव कैंपेन के दौरान जनता के बीच इमोशनल कार्ड खेल रहे हैं. चुनाव प्रचार के दौरान वह जनता से सवाल करते हैं कि आखिरकार उनकी क्या गलती थी जो 15 महीने में उनकी सरकार गिरा दी गयी. इतना ही नहीं पूरी कांग्रेस पार्टी इसी मुद्दे को लेकर जनता के बीच जा रही है और यह सवाल कर रही है कि आखिरकार जनता को सोचना चाहिए कि यह उपचुनाव मध्यप्रदेश में क्यों हो रहा है ?



साख का सवाल
मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए साख का सवाल बन गया है. उपचुनाव के नतीजे ही यह तय करेंगे कि आखिरकार मध्य प्रदेश में कौन सी पार्टी राज करेगी.बहुमत का जादुई आंकड़ा छूने के लिए बीजेपी को 9 सीटों की जरूरत है तो वहीं कांग्रेस को बहुमत का आंकड़ा छूने के लिए उपचुनाव की सभी 28 सीटों पर जीत दर्ज करनी पड़ेगी.ऐसे में देखना होगा कि आखिरकार जनता 3 नवंबर को अपना मत किसे देती है और 10 नवंबर को फैसला किसके पक्ष में आता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज