Corona In MP: सीएम शिवराज ने कमलनाथ से पूछा 'क्या किया जाए?', जवाब मिला-गांवों पर फोकस करें

शिवराज सिंह चौहान-कमलनाथ के बीच हुई चर्चा.

MP News : कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण के तमाम पहलुओं पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ से फोन पर बातचीत करने के साथ ही केंद्रीय प्रतिनियुक्ति वाले सिविल अफसरों से भी सुझाव मांगे.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना के हालात के बारे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने शनिवार को नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ के साथ बातचीत की. चौहान ने कमलनाथ को जनता कर्फ्यू और प्रतिबंधों को फ़िलहाल जारी रखने के संबंध में जानकारी दी. कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कर्फ्यू को ज़रूरी बताते हुए उन्होंने सरकार की कोशिशों पर कांग्रेस से समर्थन भी चाहा. इस मामले पर कमलनाथ ने विपक्ष का पूरा साथ सरकार को मिलने का भरोसा दिया.

क्या कहा कमलनाथ ने?
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने चौहान के साथ चर्चा में कहा कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार जो ज़रूरी कदम उठाएगी, कांग्रेस वहां समर्थन देगी. ग्रामीण इलाकों में कोरोना के हालात चिंताजनक हैं इसलिए वहां स्वास्थ्य सेवाओं को समय रहते बढ़ाना ज़रूरी है.

ये भी पढ़ें : मंत्री पर भड़के निजी डॉक्टर ने कहा 'अफसरों को दौड़ाकर पीट सकता हूं'

दूसरी तरफ, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने कहा कि ब्लैक फंगस की रोकथाम के लिए ज़रूरी दवाओं को जुटाने की तरफ भी सरकार को ध्यान देकर सरकार को सख्त कदम उठाने चाहिए. प्रदेश के हर व्यक्ति को समय पर वैक्सीन दिए जाने की मांग भी कमलनाथ ने सीएम से की.

bhopal news, madhya pradesh, news, shivraj singh chouhan speech, kamal nath speech, भोपाल न्यूज़, मध्य प्रदेश न्यूज़, शिवराज सिंह चौहान बयान, कमलनाथ बयान
मध्य प्रदेश के कई इलाकों में लॉकडाउन का समय बढ़ाया जा रहा है.


अफसरों से भी सीएम ने बातचीत
सीएम शिवराज ने केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर तैनात एमपी कैडर के अफसरों से भी चर्चा की. चौहान ने कोरोना संकटकाल में केंद्र से मदद के लिए केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर गए आईएएस, आईपीएस और आईएफएस अफसरों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए चर्चा की. मुख्यमंत्री ने सरकार की रणनीति की जानकारी भी अफसरों को दी.

ये भी पढ़ें : बुखार पीड़िता का कोविड टेस्ट किए बगैर बोतलें चढ़ाता रहा डॉक्टर, युवती की मौत

साथ ही, अफसरों से कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सुझाव भी मांगे. मुख्यमंत्री ने सीनियर आईएएस अफसरों के अनुभव और योग्यता को प्रदेश के लिए ज़रूरी बताते हुए कहा कि केंद्र से मिलने वाली मदद में मध्यप्रदेश के लिए तत्परता से फैसले लिये जाएं.