MP Weather Update: एमपी के कई जिलों में बारिश का अनुमान, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश में मौसम के मिजाज में बदलाव बने रहने की संभावना जताई है.

मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश में मौसम के मिजाज में बदलाव बने रहने की संभावना जताई है.

MP Weather Update: मध्य प्रदेश में तीन दिन से लगातार शाम को तेज हवा के साथ बारिश हो रही है, साथ ही प्रदेश के कई इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि हुई है. मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटे मौसम ऐसा ही बने रहने की आशंका जताई है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में तीन दिन से लगातार शाम को तेज हवा के साथ बारिश हो रही है, शुक्रवार को भी शाम को तेज हवा के साथ जोरदार बारिश हुई. इसके साथ ही प्रदेश के कई इलाकों में बारिश और ओलावृष्टि हुई है. मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटे मौसम ऐसा ही बने रहने की आशंका जताई है. इसके साथ ही मौसम विभाग ने रीवा, शहडोल, जबलपुर, सागर, भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर एवं चम्बल संभाग के जिलों में ओलावृष्टि एवं गरज चमक के साथ बारिश की चेतावनी दी है.

मौसम वैज्ञानिक, जीडी मिश्रा ने बताया कि मध्यप्रदेश में लगातार बदलते मौसम को लेकर मौसम वैज्ञानिक जी.डी. मिश्रा ने बताया कि पिछले 24 घंटे में प्रदेश के भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर, जबलपुर संभाग व सागर संभाग में मध्यम वर्षा हुई है। साथ ही कुछ जगह ओले गिरने व बिजली गिरने की भी सूचना प्राप्त हुई है.

उन्होंने बताया कि अगले 24 घंटे में यही स्थिति प्रदेश में निर्मित रहेगी. जिसमे भोपाल, होशंगाबाद, जबलपुर व रीवा में गरज चमक के साथ बारिश की तथा ओले गिरने की भी संभावना है. शाम के बाद ही यह सिस्टम कमजोर पड़ेगा तथा कल थोड़ी राहत मिल सकती है परंतु एक दो दिन बाद फिर से पश्चिमी मध्य प्रदेश में मौसम खराब हो सकता है.

आगामी 20 तारीख को पश्चिम विक्षोभ भी आ रहा है, जिसका असर तापमान पर रहेगा व तापमान में गिरावट आएगी. उन्होंने बताया कि हम लोगों को सलाह दे रहे कि जब गरज-चमक की स्थिति हो तब आप गाड़ी में हो या पैदल हो तो रुक जाएं. पेड़ो में व बिजली के खंभों में बिजली गिरने की अधिक संभावना रहती है. इसलिए बिजली के खंभों के नीचे व पेड़ के नीचे कहीं पर भी खड़े ना हो.
बुजुर्ग के ऊपर गिरी थी बिजली, मौत 

वहीं भोपाल में एक दिन पहले सड़क पर जा रहे बुजुर्ग के ऊपर  बिजली  गिर गई जिससे उसकी मौत गई, मौसम वैज्ञानिक ने भी बादल  गरजने  के वक़्त पेड़ या अन्य खुले  स्थान पर खडे रहने को मना किया हैं, हालांकि यह वक़्त किसानो के लिए भी चिंता का विषय बना हुआ हैं उनकी  फसलें खेत में ख़डी हैं कुछ खुले  में पड़ी हैं इससे उनपर  प्राकतिक आपदा का कहर टूट रहा, उनके मवेशी  भी खुले  में बंधे हैं उन्हें भी अपने जान माल  का ध्यान रखना हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज