• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Good News: महिलाओं के साथ साये की तरह रहेगी एमपी पुलिस, हर पल रखेगी पैनी नजर, जानिए कैसे

Good News: महिलाओं के साथ साये की तरह रहेगी एमपी पुलिस, हर पल रखेगी पैनी नजर, जानिए कैसे

मध्य प्रदेश की पुलिस महिलाओं का साया बनने की तैयारी कर रही है. वह अपना एप अपडेट करने जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

मध्य प्रदेश की पुलिस महिलाओं का साया बनने की तैयारी कर रही है. वह अपना एप अपडेट करने जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

Madhya Pradesh: एमपी पुलिस ने महिला सुरक्षा को लेकर बड़ा कदम उठाया है. इस कदम से वह महिलाओं का साया बनकर साथ रहेगी. पुलिस ने अपने MP Police एप में नया फीचर एड किया है. इसे 100 Dial से जोड़ा गया है. नए फीचर को क्लिक कर महिलाएं अपनी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकेंगी.

  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) पुलिस लड़कियों और महिलाओं के साथ साये की तरह रहेगी. पुलिस ने अपने MP Police एप को अपडेट किया है. इसे 100 Dial से जोड़ा गया है. एप में इस नए फीचर को क्लिक कर महिलाएं बिना पुलिस को मौके पर बुलाए अपनी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकेंगी. इस फीचर को क्लिक करते ही डायल-100 के कंट्रोल रूम से तब तक महिला की निगरानी की जाएगी, जब तक वह अपनी जगह तक सुरक्षित नहीं पहुंच जाती. एप के इस नए फीचर को शुरू होने में करीब 1 महीने का समय लगेगा.

मध्य प्रदेश पुलिस के दूरसंचार विभाग ने महिलाओं की सुरक्षा को अब 100 Dial  हेल्पलाइन से सीधे तौर पर कनेक्ट कर दिया है. उसने MP Police एप में नए फीचर जोड़े हैं. इनमें ‘वॉच मी टिल सेफ डिस्टेंस’ फीचर खास है. महिलाएं इस फीचर का उस वक्त इस्तेमाल कर सकेंगी, जब वे खुद की निगरानी तो चाहती हैं, लेकिन पुलिस को मौके पर बुलाना नहीं चाहतीं. इस फीचर को चुनते ही डायल-100 के कंट्रोल रूम से महिला की निगरानी शुरू कर दी जाएगी.

इस तरह होती रहेगी निगरानी

एडीजी दूरसंचार, एसके झा ने बताया कि ‘वॉच मी टिल सेफ डिस्टेंस’ से उन महिलाओं को मदद मिलेगी, जिन्हें लगता है कि वे जिस रास्ते से जा रही हैं, वहां खतरा है. इस फीचर को चुनते ही महिला का मोबाइल नंबर डायल-100 के कंट्रोल रूम तक पहुंच जाएगा. एप और मोबाइल के जरिये उसकी लोकेशन कंट्रोल रूम को दिखती रहेगी. कंट्रोल रूम से महिला के रूट पर नजर रखी जाएगी. महिला का रूट अलग होने, किसी स्थान पर अधिक देर रुकने या निर्धारित अवधि में दूरी तय नहीं होने पर महिला से संपर्क किया जाएगा. संपर्क होने के बाद भी निगरानी जारी रहेगी. लेकिन, फोन नहीं उठाने जैसी स्थिति बनने पर पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच जाएगी. निगरानी में शहर में लगे सीसीटीवी कैमरों की भी मदद ली जाएगी. साथ ही, एक पाइंट से अगले पाइंट पर खड़ी डायल-100 को भी सूचना दी जाएगी. गंतव्य पर पहुंचने के बाद निगरानी बंद हो जाएगी.

अभी इंतजार करना होगा

एडीजी एसके झा ने बताया कि एप को तैयार करने से पहले देश में महिला अपराध की स्टडी की गई. इस फीचर को चुनते ही कुछ सेकंड का ऑडियो-वीडियो फोन में रिकॉर्ड हो जाएगा. कई बार महिलाएं वास्तविक स्थिति के बारे में बता ही नहीं बता पातीं, इस स्थिति में रिकार्डिंग से घटना को समझने में मदद मिलेगी. झा ने बताया कि डायल-100 के लिए नए टेंडर भी होने हैं. इसलिए अभी जनता के लिए इसे लांच नहीं किया गया है. पुलिस की आंतरिक व्यवस्था में इस एप का परीक्षण शुरू कर दिया गया है. जल्द ही इस सुविधा को नागरिकों के लिए शुरू कर दिया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज