हनीट्रैप की पेनड्राइव सार्वजनिक करें कमलनाथ, चेहरे बेनकाब हो सकें: गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा

मप्र के गृह मंत्री ने कमलनाथ पर फिर निशाना साधा है. हनीट्रैप पर विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहा. (File)

मप्र के गृह मंत्री ने कमलनाथ पर फिर निशाना साधा है. हनीट्रैप पर विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहा. (File)

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर फिर निशाना साधा है. मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ हनीट्रैप की पेनड्राइव सार्वजनिक करें. कमलनाथ को सरकारी दस्तावेज अपने पास नहीं रखने चाहिए.

  • Last Updated: May 23, 2021, 5:14 PM IST
  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के ‘ हनीट्रैप सीडी-पेनड्राइव’ वाले बयान पर बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा. प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने रविवार को फिर उन पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी पहेलिया न बुझाएं, पेनड्राइव को सार्वजनिक कर दो, ताकि चेहरे बेनकाब हो सकें.

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ जी अगर आपने पेनड्राइव देख ली है तो उसको सार्वजनिक कर दो. सरकारी दस्तावेजों को अपने पास नहीं रखना चाहिए. शिवराज जी की सरकार में किसी पर कोई दबाव नहीं डाला जाता. शायद आपके समय मे सरकार में ऐसा होता होगा.

गृह मंत्री ने कहा था- प्रदेश जलाना चाहते हैं कमलनाथ

मिश्रा ने कल कहा था कि कमलनाथ की उत्पत्ति ही आग से हुई है. इमरजेंसी में वे भागीदार रहे हैं. 84 के दंगों में उन्होंने लोगों के घर जलाए, अब मध्य प्रदेश को जलाने की बात कर रहे है. आपदा में कभी तो सेवा की बात कर लीजिए कमलनाथ जी. उन्होंने कमलनाथ के एक वायरल वीडियो पर ये तीखी टिप्पणी की. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में कमलनाथ मध्य प्रदेश में आग लगाने जैसे शब्द बोल रहे हैं. बताया जा रहा है कि वे किसानों के अनाज खरीदी से जुड़े मसले पर बात कर रहे हैं.
कमलनाथ के पास सीडी का होना शोध का विषय- मिश्रा

गृह मंत्री ने कहा कि हनीट्रैप की पेनड्राइव का उनके पास होना सोच के साथ ही शोध का भी विषय है. उन्होंने मुख्यमंत्री रहते हुए पता नहीं कौन-कौन से दस्तावेज गायब किए होंगे. मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोरोना निरंतर नियंत्रण में आ रहा है. अब प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6% से नीचे 5.8% पर  आ चुका है. उपचार के लिए पर्याप्त मात्रा में संसाधन उपलब्ध हैं, कहीं कोई कमी नहीं है, न ऑक्सीजन की, न रेमडेसीविर इंजेक्शन की, न आईसीयू की, न बेड की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज