कमलनाथ को प्रदेश में दिग्विजय ने छोड़ा, दिल्ली में राहुल ने, जानिए गृह मंत्री ने पूर्व CM के लिए और क्या-क्या कहा

पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ के सवाल पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा आरोप लगाया. (File)

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसा है. मिश्रा ने कहा राहुल गांधी और दिग्विजय सिंह ने कमलनाथ को अकेला छोड़ दिया. कांग्रेसियों ने आपदा में भी लोगों की मदद नहीं की.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के सेवादल पर सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का सेवादल भी नाम का ही सेवादल है. सत्ता में आने के बाद ही सिर्फ स्वयं की सेवा के लिए कार्य करता दिखाई देता है. कोरोना काल मे पार्टी के द्वारा सेवा का एक भी कैंप नहीं लगाया गया. उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेसियों ने कितनी मदद की है इसकी पोल  संकट के समय में पूरी तरह से खुल चुकी है. प्रदेश अध्यक्ष से लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष तक ने एक भी जगह कोई सेवा का कार्य नहीं किया.

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि कमलनाथ जी औपचारिकता पूरी करने के लिए ही सही माई के सामने मत्था टेक कर घर से बाहर निकल आइए. अब संक्रमण की दर भी कम हो गई है. आपको खतरा भी नहीं है और हो सकता है कि आपसे प्रेरणा लेकर बाकी कांग्रेसी भी बाहर निकल आएं. उन्होंने कहा कि शीशे के घरों में रहने वाले दूसरों के घरों पर पत्थर नहीं फेंकते. अब तो कमलनाथ जी के सामने मध्य प्रदेश और दिल्ली दोनों ही जगह दिक्कत है. मध्य प्रदेश में उनका साथ दिग्विजय सिंह ने छोड़ दिया है और दिल्ली में राहुल बाबा उनका साथ नहीं दे रहे हैं.

पेट्रोल-डीजल के ट्वीट पर दिया जवाब

नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ के पेट्रोल डीजल के महंगे दामों पर किए गए ट्वीट पर जवाब देते हुए कहा कि कमलनाथ जी वही व्यक्ति हैं जिन्होंने पेट्रोल डीजल के भाव कम करने की घोषणा कर, लोगों से झूठ बोल  सत्ता हासिल की. सत्ता में आते से ही पेट्रोल-डीजल के भाव बढ़ा दिए. उस वक्त न तो कोई आपदा थी, ना समस्या थी. आज किस मुंह से पेट्रोल डीजल के दाम कम करने की बात कर रहे हैं. जब कि आज तो कोरोना का संकट सामने है.

पुलिस कर्मियों के लिए कही बात

पुलिसकर्मियों पर बढ़ते हमलों पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जबलपुर, खड़वा में पीड़ाजनक घटना हुई. सेना की तहत पुलिस काम कर रही है. लॉकडाउन में पुलिस के प्रति लोगों की धारणा बदली है. पुलिस का सम्मान करें न करें कम से कम हमला न करें.