LIVE NOW

MP News Live Updates: दमोह उपचुनाव- लोधी वोट बंटने का खतरा, कांग्रेस की राह आसान नहीं

MP News, 16 April 2021: Damoh by election: चुनाव में लोधी वोट बंटने की संभावना है. भाजपा के राहुलसिंह लोधी के लिए पूर्व मंत्री जयंत मलैया के आने से पार्टी मजबूत हुई है. जबकि कांग्रेस की राह इतनी आसान नहीं दिख रही.

Hindi.news18.com | April 16, 2021, 3:39 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated April 16, 2021
MP News Live Updates: दमोह उपचुनाव- लोधी वोट बंटने का खतरा, कांग्रेस की राह आसान नहीं

हाइलाइट्स

3:39 pm (IST)
जबलपुर. दहेज के लालची पति व ससुराल वालों से प्रताड़ित दो महिलाओं ने थाने पहुंच कर आपबीती सुनाई. पति व ससुराल वालों की ज्यादती को लेकर उनके खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया. एक महिला की शिकायत पर अधारताल पुलिस ने पति, ननद व सास के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया. वहीं दूसरी महिला ने मझगवां थाने में पति, सास व ससुर के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया. जानकारी के अनुसार अधारताल थाने में जयप्रकाश नगर निवासी आरती जैन (30) ने पति आशीष जैन, ननद डाली और सास सुषमा जैन के खिलाफ उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया. आरती जैन के मुताबिक वह झारखंड की रहने वाली है. उसकी शादी 12 जून 2020 को आशीष जैन के साथ हुई थी. आशीष जैन के रिश्तेदारों ने उसकी शादी कराई थी. शादी के बाद 45 दिन वह ससुराल जयप्रकाश नगर में अच्छे से रही। उसकी शादी में ढाई लाख रुपए ससुराल वालों को दिए थे. इसके बाद भी पति, सास व ननद उस पर झारखंड वाली जमीन बेच कर और पैसे की मांग करने लगे. इसको लेकर उसके साथ मारपीट करते हैं और घर से निकाल देते हैं. अधारताल पुलिस ने तीनों के खिलाफ धारा 498 ए, 34 भादवि एवं 3, 4 दहेज अधिनियम का अपराध दर्ज कर लिया.

2:49 pm (IST)
भोपाल. दमोह जिला चिकित्सालय में हेल्प डेस्क गठित की जाएगी. डेस्क के माध्यम से जिले में रेमेडिसिवर इंजेक्शन, ऑक्सीजन बेड और वेंटिलेटर की उपलब्धता की जानकारी मिलती रहेगी. दमोह में चुनाव प्रचार थमने के बाद सरकार व्यवस्था दुरुस्त करने में जुट गई है. दमोह कोरोना स्थिति को लेकर मंत्री भूपेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री से चर्चा की है. दरअसल, News 18 की खबर के बाद सरकार हरकत में आ गई. प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से चर्चा के बाद जिले के प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कई निर्देश जारी किए. सिंह हर घंटे कोरोना का अपडेट ले रहे हैं. बता दें, पिछले 12 घंटो में 185 ऑक्सीजन सिलेंडर दमोह पहुंच चुके हैं. दूसरी ओर, प्रभारी मंत्री ने दिल्ली से भी 50 ऑक्सीजन सिलेंडर दमोह मंगवाए हैं.

2:23 pm (IST)
भिंड. कोरोना वायरस के बढ़ते कदमों के साथ ही लोगों की घर वापसी होने लगी है. ऐसे में भिंड जिले की सीमा से यूपी के इटावा जिले पर लोग आसानी से आ जा रहे हैं. इन लोगों की स्क्रीनिंग को लेकर घोर लापरवाही बरती जा रही है. ऐसे में कोरोना वायरस से संक्रमित लोग भी बिना रोक-टोक के आ जा रहे हैं. ऐसे लोगों की स्क्रीनिंग करके चिह्नित नहीं किया जा रहा है. जिले की सीमा पर दूसरे प्रांतों से आने वालों के लिए चेकिंग प्वाइंट तक नहीं है. भिंड-इटावा सीमा अर्थात बरही का चंबल घाट, यहां बीते साल कोरोना की दस्तक के साथ ही स्क्रीनिंग को चालू कर दिया गया था. यहां लोग बड़ी आसानी से बस, ऑटो, निजी वाहन व बाइक से आ जा रहे हैं. बॉर्डर को पार करते समय कई लोगों के चेहरे पर मास्क तक नहीं थे.

1:57 pm (IST)
उज्जैन. कोरोना के इस भयावह काल में रोंगटे खड़े कर देने वाली तस्वीरें और वीडियो लगातार सामने आ रहे हैं. मानवता घायल है. हर जगह महामारी, चिंता, मौत और आंसू हैं. इन सबके बीच उज्जैन का एक ऐसा वीडियो वायरल हुआ जिसमें शव ढोने वाला निगम कर्मचारी नशे में घुत्त होकर फुटपाथ पर लुढ़क गया. ये चर्चा में इसलिए आ गया क्योंकि वो पीपीई ड्रेस पहने हुए था.उज्जैन में कोरोना महामारी अपने चरम पर है. रोजाना बढ़ते संक्रमित मरीज और अस्पतालों में फुल होते बेड, ये बताने के लिए काफी हैं कि अभी भी नहीं सम्भले तो आने वाले समय में  कोरोना महामारी को लेकर होने वाली मृत्यु का महा विस्फोट ही होगा. फिर स्थिति संभालने लायक भी नहीं रहेगी. इन सब के बीच कोरोना योद्धा के रूप में काम करे एक निगम कर्मी का वीडियो वायरल हुआ जो शर्मसार करने वाला है. इस वीडियो में संक्रमित मरीजों की लाश उठाने वाला नगर निगम का एक कर्मचारी नशे में धुत्त फुटपाथ पर पड़ा है. शर्मनाक ये है कि वो पीपीई ड्रेस पहने हुए था. यानि ड्यूटी पर था और भी लाश उठाने जैसी संवेदनशील जगह पर तैनात था. लेकिन नशे की लत यहां भी नहीं छूट पायी. उसने शराब इतनी ज्यादा पी ली थी कि पीपीई ड्रेस पहने पहने ही बेहोश हो गया.

1:33 pm (IST)
भोपाल. मध्‍य प्रदेश के दमोह विधानसभा सीट पर 17 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव का प्रचार भले ही थम गया हो, लेकिन उपचुनाव के साइड इफेक्ट अब सामने आने लगे हैं. दमोह उपचुनाव में पार्टी की जीत के लिए दमखम लगाने वाले नेता कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह दमोह उपचुनाव के कांग्रेस प्रभारी बृजेंद्र सिंह राठौर समेत कई बड़े नेता कोरोना की चपेट में आ गए हैं. सिर्फ ऐसा नहीं है कि कांग्रेस के नेता ही कोरोना संक्रमित हो, बीजेपी के नेता भी बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं.दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी है. दिग्विजय सिंह की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. दिग्विजय सिंह दमोह उपचुनाव में प्रचार करने के लिए गए थे लेकिन कोरोना के संक्रमण को देखते हुए दिग्विजय सिंह ने अपने प्रचार को बीच में रोककर दिल्ली के लिए रवाना हो गए थे. दिग्विजय सिंह की अब कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई आई है. दिग्विजय सिंह ने अब खुद को दिल्ली निवास पर होम आइसोलेशन कर लिया है.

1:04 pm (IST)
जबलपुर. जबलपुर में कोरोना संक्रमण से हाहाकार मचा है. प्रशासन मौतों पर पर्दा डाल रहा है, जबकि श्मशान में जलती लाशें कोरोना से मौतों की गवाही दे रही हैं. सरकारी आंकड़े में 8 मौतें बताई गईं, जबकि गुरुवार को दो श्मशान घाटों पर 60 कोविड शवों का अंतिम संस्कार हुआ. एक का शव को परिजन अस्पताल में ही छोड़कर चले गए. अस्पतालों में एक-एक बेड के लिए मारामारी मची हुई है. यहां 4,614 एक्टिव केस और 2,082 संदिग्ध केस हो गए हैं. शहर में कुल 764 वेंटिलेटर पर मरीज हैं. इसी तरह ऑक्सीजन सपोर्ट वाले 1602 बेड लगभग फुल हैं. शहर की कुछ निजी अस्पतालों के बाहर कारों में मरीज को लेकर परिजन इंतजार में हैं. उन्हें उम्मीद है कि किसी मरीज की छुट्‌टी हो जाए तो उन्हें बेड मिल जाए। बेड की दलाली भी शुरू हो गई है.

12:36 pm (IST)
शहडोल. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अपील का जनता तो छोड़िए, उनके खुद के नेताओं पर असर नहीं पड़ रहा. अब शहडोल के जिला बीजेपी अध्यक्ष कमल प्रताप सिंह को लीजिए. कोरोना के हाहाकार के बीच इन्होंने अपना जन्म-दिन बड़े धूमधाम से मनाया.इस मौक पर एक तरफ जमकर आतिशबाजी की तो, दूसरी ओर उन्हें लड्डुओं में तौला गया. उनकी इस हरकत का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया. इस मामले में जब डीएसपी हेड क्वर्टर वीडी पांडेय से बात की गई तो उन्होंने कहा- इस मामले में कोई शिकायत नहीं मिली है. अभी तक ऐसा कोई वीडियो उन तक नहीं पहुंचा है. जब इस मामले में कोई शिकायत आएगी तो शिकायत के आधार पर मामले की जांच कराएंगे.

12:06 pm (IST)
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में शर्मसार करने वाला एक मामला सामने आया है. एक परिवार की इच्छा थी कि बेटे की शव यात्रा चार कंधों पर निकले. लेकिन, लॉकडाउन लगने की वजह से यह संभव नहीं हो सका. इसके बाद परिवार की उम्मीद नगर निगम के शव वाहन पर टिकी, लेकिन कई फोन करने के बाद भी सिर्फ आश्वासन मिला. और, जब 3:30 घंटे बाद भी शव वाहन नहीं मिला तो परिजनों ने मजबूरी में लोडिंग ऑटो से शव यात्रा निकली.मामला छोला मंदिर थाना इलाके का है. लाचार सिस्टम की वजह से यहां एक परिवार बेटे के शव को लोडिंग ऑटो से अंतिम संस्कार के लिए ले गया. जानकारी के मुताबिक, शिव नगर में रहने वाले युवक दीपक विश्वकर्मा की घर पर ही अचानक मौत हो गई. आसपास के लोगों ने बताया कि दीपक की बीमारी के चलते मौत हुई. हालांकि मौत के स्पष्ट कारणों का पता नहीं चल पाया है. मृतक दीपक के परिजनों ने अंतिम संस्कार की घर पर तैयारी की और अर्थी बनाई.

11:43 am (IST)
भोपाल. पिछले साल 15 अप्रैल तक शहर में सिर्फ 160 कोरोना पॉजिटिव मरीज थे. एक साल बाद यानी इस साल एक्टिव मरीजों की संख्या 7500 को पार कर गई है. इस भयावह आंकड़े के बावजूद नगर निगम प्रशासन पिछले साल की तुलना में गंभीर नजर नहीं आ रहा है. शहर में कोरोना मरीज मिलने से पहले ही सैनिटाइजेशन शुरू हो गया था. पिछले साल 15 अप्रैल तक ही निगम ने सैनिटाइजेशन के लिए छोटी-बड़ी मिलाकर 130 मशीनों की व्यवस्था कर ली थी, लेकिन इस बार इन मशीनों की संख्या केवल 12 रह गई है. पिछले साल एक 10 व्हीलर वाटर टैंकर में स्थापित सैनिटाइजेशन सिस्टम, 01 आरएमसी मिलर, 11 मिस्ट ब्लोअर व रक्षक स्प्रे मशीनों, 15 स्प्रीलिंकर्स युक्त सीवेज क्लीनिंग मशीनें, जोन स्तर पर 19 वाहन, 14 पम्प ऑपरेटेड और 60 हैंड ऑपरेटेड स्प्रे मशीनों से हो रहा था सैनिटाइजेशन.

11:11 am (IST)
खंडवा. ऑक्सीजन की कमी के बाद अब खंडवा के कोविड अस्पताल में ऑक्सीजन बेड खत्म हो गए हैं. यहां कोरोना मरीज अस्पताल के बाहर बरामदे में तड़प रहे हैं. इंदौर की स्थिति भी बिगड़ गई, जिससे परिजन उन्हें नहीं ले जा पा रहे हैं. मामले में मेडिकल कॉलेज के डीन का कहना है कि हमारे पास वाकई में ऑक्सीजन बेड नहीं है. इधर, मंत्री-कलेक्टर कोविड की बेहतर स्थिति को लेकर दावे करते हैं. कोरोना मरीजों का कहना है कि अस्पताल प्रबंधन ऑक्सीजन बेड की कमी बताकर उन्हें भर्ती नहीं कर रहा है. छनेरा निवासी मरीज देवीसिंह नागोरे पिता किशनलाल (56) के परिजन ने बताया वे देवीसिंह को घबराहट होने पर निजी अस्पताल लेकर गए थे. वहां मेडिकल जांच में रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई. ऑक्सीजन सेचुरेशन 60 प्रतिशत से कम था. डॉक्टरों ने कोविड अस्पताल में भर्ती कराने को कहा, लेकिन यहां आए तो ऑक्सीजन बेड पूरी तरह फुल बताए जा रहें हैं.

LOAD MORE
दमोह. दमोह में कांग्रेस से भाजपा में आए राहुलसिंह लोधी के लिए पूर्व मंत्री जयंत मलैया को साधकर आखिरी मौके पर BJP मुकाबले में लौट आई है. इसके बावजूद राहुल सिंह की राह आसान नहीं है. अंदरखाने भाजपा का ही एक खेमा बिकाऊ vs टिकाऊ के मुद्दे को हवा दे रहा है. अब लोधी वोट बंटने का भी खतरा पैदा हो गया है. उसकी वजह भारतीय शक्ति चेतना पार्टी की उमासिंह लोधी की सभाओं में पहुंची भीड़ है. कांग्रेस के उम्मीदवार अजय टंडन इसे भुनाने में जुट गए हैं. कोरोनाकाल में उपचुनाव को लेकर हर तरफ चर्चा है लेकिन शिवराजसिंह चौहान के सामने तख्तियां दिखाने का मुद्दा सबसे बड़ी सुर्खियां बना. भाजपा ने इसे विरोधियों का षड्यंत्र बताया तो कांग्रेसी इसे जनता की आवाज बता रहे हैं. 2018 के चुनाव में कांग्रेस के टिकट से जीत चुके भाजपा प्रत्याशी राहुलसिंह की कमजोरी को टंडन अच्छे से जानते हैं. वे इसका फायदा उठाने की कोशिश में जुटे हैं लेकिन भाजपा ने जयंत मलैया, भूपेंद्र सिंह, सिद्धार्थ मलैया के साथ तमाम मंत्रियों को उतार रखा है. ऐसे में टंडन की राह इतनी आसान नहीं है.

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज