Home /News /madhya-pradesh /

mp municipal corporation elections evms kept in old jail under tight security congress fears tampering mpsg

कड़ी सुरक्षा में इस जेल में बंद हैं ईवीएम : कांग्रेस को डर कहीं कोई छेड़छाड़ न कर दे

भोपाल स्थित पुरानी जेल को स्ट्रांग रूम बनाया गया है. यहां कड़ी सुरक्षा में ईवीएम रखी गयी हैं.

भोपाल स्थित पुरानी जेल को स्ट्रांग रूम बनाया गया है. यहां कड़ी सुरक्षा में ईवीएम रखी गयी हैं.

पुरानी जेल में बनाए गए स्ट्रांग रूम में पुलिस का सख्त पहरा है. ईवीएम की सुरक्षा व्यवस्था फोर लेयर में रखी गयी है. पहली लेयर में थाने का बल तैनात है जो स्ट्रांग रूम परिसर के बाहर मौजूद है. दूसरी लेयर में गेट के अंदर आर्म्स गार्ड हैं. तीसरी लेयर में 7 वीं बटालियन के 20 गार्ड मौजूद हैं और चौथी और आखिरी लेयर में जेल के गार्ड तैनात किए गए हैं. इस तरह से करीब 50 जवान सुरक्षा में 24 घन्टे मौजूद रहेंगे. स्ट्रांग रूम के अंदर और बाहर सीसीटीवी कैमरा की मदद से भी सतत मॉनिटरिंग की जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट- वासुदेव चौरे

    भोपाल. मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण के मतदान के बाद अब ईवीएम की सुरक्षा को लेकर गहमागहमी है. कांग्रेस को डर है कि कहीं ईवीएम से छेड़छाड़ न कर दी जाए. हालांकि पुरानी जेल में बनाए गए स्ट्रांग रूम में चार लेयर की सुरक्षा व्यवस्था है. लोकल पुलिस से लेकर आर्म्ड फोर्स तक चौबीसों घंटे पहरा दे रही है.

    मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव के प्रथम चरण में करीब 61 फ़ीसदी मतदान हुआ जो पिछली बार के मुकाबले कम है. मतदान के बाद अब सभी जगहों पर ईवीएम को स्ट्रांग रूम में लॉक किया जा चुका है. इस बीच ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कांग्रेस ने एक बार पर सवाल खड़े किए हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने ईवीएम में के साथ छेड़छाड़ की आशंका जताते हुए निर्वाचन आयोग से स्ट्रांग रूम के सीसीटीवी का आउटपुट बाहर देने की मांग की है. भोपाल नगर निगम के लिए पुरानी जेल को स्ट्रांग रूम बनाया गया है।

    स्ट्रांग रूम में न हो किसी की भी आवाजाही
    कांग्रेस पार्टी पिछले कई चुनाव से ईवीएम पर लगातार सवाल खड़े करते हुए नजर आ रही है. लिहाजा प्रथम चरण के मतदान के बाद एक बार फिर ईवीएम को लेकर सियासत गरमा गई है. पीसी शर्मा ने कहा इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि किसी भी व्यक्ति की आवाजाही स्ट्रांग रूम में ना हो. उन्होंने 2018 के विधानसभा चुनाव का हवाला देते हुए प्रदेश कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील की है कि स्ट्रांग रूम के बाहर मौजूद रहें और हर गतिविधि पर नजर रखें.

    ये भी पढ़ें- ग्वालियर-चंबल की राजनीति के दो केंद्र : ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस्पात मंत्रालय मिलने के क्या हैं मायने

    हार का डर
    ईवीएम को लेकर लगातार भाजपा-कांग्रेस एक दूसरे पर हलमावर रहते हैं. कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए ग्रहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा जब कांग्रेस जब हारने लगती है तो ईवीएम पर सवाल खड़ी करती है. स्ट्रांग रूम में सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम हैं. छेड़छाड़ का कोई चांस नहीं है.

    स्ट्रांग रूम के बाहर कड़ा पहरा
    पुरानी जेल में बनाए गए स्ट्रांग रूम में पुलिस का सख्त पहरा है. ईवीएम की सुरक्षा व्यवस्था फोर लेयर में रखी गयी है. पहली लेयर में थाने का बल तैनात है जो स्ट्रांग रूम परिसर के बाहर मौजूद है. दूसरी लेयर में गेट के अंदर आर्म्स गार्ड हैं. तीसरी लेयर में 7 वीं बटालियन के 20 गार्ड मौजूद हैं और  चौथी और आखिरी लेयर में जेल के गार्ड तैनात किए गए हैं. इस तरह से करीब 50 जवान सुरक्षा में 24 घन्टे मौजूद रहेंगे. स्ट्रांग रूम के अंदर और बाहर सीसीटीवी कैमरा की मदद से भी सतत मॉनिटरिंग की जा रही है.

    Tags: EVM, Madhya pradesh latest news, Municipal Corporation Elections

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर