मुसाफिरों को महंगाई का झटका, 20% बढ़ सकता है सिटी बसों का किराया, कमलनाथ ने CM शिवराज को चेताया

एमपी की राजधानी में सिटी बसों का किराया बीस फीसदी तक बढ़ाए जाने का प्रस्ताव है. (File)

Kamal Nath Warns CM Shivraj: राजधानी के बस यात्रियों को बड़ा झटका लग सकता है. सरकार सिटी बसों का किराया 20% बढ़ा सकती है. इसे लेकर कमलनाथ ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि जनता सड़क पर उतर जाएगी.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के बस यात्रियों को अब यात्रा के लिए जेब ज्यादा ढीली करनी पड़ सकती है. शहर में चलने वाली सिटी बसों का किराया (Bus Fare) बढ़ाने की तैयारी की जा रही है. इसे लेकर संबंधित कंपनी ने परिवहन विभाग (Transport Department) को प्रस्ताव भेजा है. इस प्रस्ताव के मुताबिक, कंपनी ने 20 फीसदी किराया बढ़ाने की मांग की है. कंपनी ने किराया बढ़ाने के पीछे की वजह डीजल की बढ़ती कीमतें बताया है.

शहर में पेट्रोल-डीजल के बढ़ रहे दामों का असर अब सिटी बस सेवा (City Bus Service) पर पड़ रहा है. भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (BCLL) ने लो-फ्लोर, मिडी बसों का किराया बढ़ाने का प्रस्ताव परिवहन विभाग को भेजा है. परिवहन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि प्रस्ताव प्राप्त हुआ है, जिस पर विचार किया जा रहा है. तत्काल में कोई फैसला नहीं लिया जाएगा. इस प्रस्ताव पर मंथन करने के बाद ही विभाग कोई निर्णय लेगा.

20 फीसदी किराया बढ़ाने की मांग
भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड ने लो फ्लोर और मिडी बसों का किराया 20 फीसदी तक बढ़ाए जाने की मांग परिवहन विभाग से की है. यदि किराया बढ़ता है तो एमपी नगर से चिरायु अस्पताल तिराहे तक यात्री से 20 रुपए की जगह 25 रुपए लिए जाएंगे. कंपनी का यह भी कहना है कि किराया नहीं बढ़ाए जाने से नुकसान होगा और परिवहन में दिक्कत भी हो सकती है.

कमलनाथ ने सरकार को घेरा
किराया बढ़ाए जाने की संभावना के मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी ट्वीट किया. उन्होंने कहा- “शिवराज जी, आपकी सरकार भोपाल में सिटी बसों का किराया 20 % बढ़ाने की तैयारी कर रही है. डीजल, पेट्रोल, गैस, खाद्य तेल, बिजली और दूध की कीमतें आप पहले ही बढ़ा चुके हैं. यह लूट बंद करिए, नहीं तो जनता के पास सड़कों पर उतरने के अलावा कोई रास्‍ता नहीं बचेगा.”

महाराष्ट्र से आने-जाने वाली बसों पर रोक बरकरार
मध्य प्रदेश में महाराष्ट्र से आने- जाने वाली बसों के संचालन पर रोक आगामी आदेश तक बरकरार रहेगी. कोरोना की मौजूदा स्थिति के चलते परिवहन विभाग ने यह फैसला लिया है. हालांकि, इससे पहले दूसरे राज्यों पर भी प्रतिबंध था, लेकिन वहां पर बस सुविधाओं को बहाल करने का काम बीते दिनों सरकार के द्वारा किया गया था. अब अभी सिर्फ महाराष्ट्र को लेकर पाबंदियां लगाई गई हैं. इसलिए अगले आदेश तक यात्री बसों पर प्रतिबंध रहेगा. इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

जानकारी के मुताबिक, मध्य प्रदेश में 14 जुलाई तक महाराष्ट्र से आने-जाने वाली बसों के संचालन पर रोक लगाई है. प्रदेश से कोई बस महाराष्ट्र जाएगी और न ही वहां से कोई बस प्रदेश में आएगी. कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए परिवहन विभाग ने यह निर्णय लिया है. इससे पहले छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और राजस्थान से बसों के आने-जाने पर भी रोक लगी थी, लेकिन उसे हटाया गया था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.