• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • MP News: लोकार्पण पट्टिका में अपना लिखवाने पर अड़े बीजेपी के पूर्व मंत्री, जानिए किस स्तर तक गया विवाद

MP News: लोकार्पण पट्टिका में अपना लिखवाने पर अड़े बीजेपी के पूर्व मंत्री, जानिए किस स्तर तक गया विवाद

मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री उमा शंकर गुप्ता काटजू अस्पताल की लोकार्पण पट्टिका में अपना नाम लिखवाने पर अड़ गए.

मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री उमा शंकर गुप्ता काटजू अस्पताल की लोकार्पण पट्टिका में अपना नाम लिखवाने पर अड़ गए.

Bhopal News: बीजेपी के पूर्व मंत्री उमा शंकर गुप्ता काटजू अस्पताल पहुंचे तो भड़क गए. अस्पताल की लोकार्पण पट्टिका में उनका नाम नहीं था. उन्होंने इस पर नाराजगी जताई. उनका कहना है कि भले ही मैं अब पद पर नहीं हूं. लेकिन, मेरा नाम होना चाहिए.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने काटजू अस्पताल का लोकार्पण किया था, लेकिन इस लोकार्पण कार्यक्रम को लेकर शुरू हुआ विवाद 2 जुलाई से अभी तक जारी है. मुख्यमंत्री की मौजूदगी में लोकार्पण कार्यक्रम में लगाई गई नाम पट्टिका को 15 दिन के बाद बदल दिया गया. पूरा विवाद पूर्व मंत्री-दक्षिण विधानसभा सीट से पूर्व विधायक रहे उमाशंकर गुप्ता की नाराजगी से जुड़ा हुआ है. गुप्ता ने इस बात का इशारा किया कि उन्होंने अस्पताल को ढहने से बचाया, इसलिए उनका नाम आना चाहिए.

अस्पताल का लोकार्पण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंत्री, विश्वास सारंग, मंत्री प्रभु राम चौधरी, सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और स्थानीय विधायक पीसी शर्मा की मौजूदगी में हुआ था, लेकिन इस कार्यक्रम में पूर्व विधायक उमाशंकर गुप्ता को नहीं बुलाने पर विवाद खड़ा हो गया. गुप्ता ने इस बात पर नाराजगी जाहिर की. विवाद को शांत करने के लिए पट्टिका ही बदल दी गई.

पूर्व मंत्री ने लिया जाएजा, दिए निर्देश

गौरतलब है कि यह पूरा मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक भी पहुंचा. उमाशंकर गुप्ता ने इसके लिए अफसरों को जिम्मेदार बताया. उसके बाद नाम पट्टिका बदल दी गई और सभी के साथ-साथ पूर्व विधायक गुप्ता का नाम भी शामिल किया गया. इधर, उमाशंकर गुप्ता ने काटजू अस्पताल पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा भी लिया और अस्पताल प्रबंधन को कमियों को दूर करने के निर्देश भी दिए. पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता से जब इस बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी की स्थापना के कारण काटजू अस्पताल को हटाया जा रहा था, लेकिन उनके प्रयासों से काटजू अस्पताल नए स्वरूप में ढाला गया है. इसे कोविड-19 ताल के रूप में विकसित किया गया है. हालांकि उमाशंकर गुप्ता ने किसी तरह की नाराजगी से इनकार किया है. लेकिन साफ है कि उमाशंकर गुप्ता के दबाव के कारण अस्पताल के लोकार्पण की पट्टी का को बदल दिया गया है.

कांग्रेस ने कहा- उचित फोरम पर करेंगे शिकायत

वहीं, अस्पताल के लोकार्पण के शिलालेख में नाम बदले जाने को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी पर हमला बोला है. पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा है कि इस पूरे मामले की उचित फोरम पर शिकायत की जाएगी. यह ठीक नहीं है कि जिस फीवर क्लीनिक का उद्घाटन और लोकार्पण हो चुका है उसका पूर्व विधायक ने फिर से उद्घाटन कर दिया. राजधानी के काटजू अस्पताल के लोकार्पण के साथ शुरू हुआ विवाद दिन-ब-दिन तेज होता नजर आ रहा है. नए अस्पताल के लोकार्पण को लेकर बीजेपी और कांग्रेस में श्रेय लेने की होड़ तेज हो गई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज