होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /जरूरी खबर : अब पुलिस थानों के चक्कर काटने की जरूरत नहीं, घर बैठे कराएं FIR

जरूरी खबर : अब पुलिस थानों के चक्कर काटने की जरूरत नहीं, घर बैठे कराएं FIR

किसी भी जिले की वेबसाइट को mppolice.gov.in पर ऐक्‍सेस किया जा सकता है.

किसी भी जिले की वेबसाइट को mppolice.gov.in पर ऐक्‍सेस किया जा सकता है.

MP News: ADG चंचल शेखर ने बताया कि ई-एफआईआर सिस्टम विभिन्न संस्थाओं, एससीआरबी और मेप आईटी की मदद से शुरू की गयी है. आज ...अधिक पढ़ें

भोपाल. मध्य प्रदेश की जनता के लिए जरूरी खबर है. अब एफआईआर (FIR) के लिए पुलिस थानों के चक्कर काटने की जरूरत नहीं है. एमपी पुलिस ने ई-एफआईआर E-FIR सर्विस शुरू कर दी है. भोपाल के थाने में पहली ई-एफआईआर दर्ज हुई. अब https://mppolice.gov.in, https://citizen.mppolice.gov.in, मोबाइल एप MPeCOP पर प्रदेश के लोग e-FIR दर्ज करा सकते हैं. ट्रायल रन के तहत प्रदेश की सबसे पहली  एफआईआर सुमित मंगल ने पिपलानी पुलिस में घर से सोने की चेन चोरी की दर्ज कराई. पुलिस वेबसाइट पर ई-एफआईआर सुमित मंगल के दर्ज कराने के बाद पिपलानी पुलिस ने उनसे संपर्क किया और घटनास्थल का मुआयना करते हुए मामले की जांच की.

इन मामलों में दर्ज होगी ई FIR…
स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के एडीजी चंचल शेखर ने कहा मध्यप्रदेश पुलिस की ई-एफआईआर सेवा का वृहद ट्रायल रन एससीआरबी पुलिस मुख्यालय से शुरू किया गया. इस ट्रायल रन के दौरान कोई भी पीड़ित नागरिक 15 लाख से कम कीमत के वाहन चोरी, एक लाख से कम कीमत की सामान्य चोरी, आरोपी अज्ञात हो, घटना में चोट और बल का प्रयोग ना होने के मामले की रिपोर्ट मध्यप्रदेश पुलिस की वेबसाइट https://mppolice.gov.in, सिटीजन पोर्टल https://citizen.mppolice.gov.in और मोबाइल ऐप MPECOP से अपनी आईडी से लॉगिन कर सकते हैं. इस संबंध में सभी थानों को आवश्यक निर्देश दे दिए गये हैं. चंचल शेखर ने बताया कि प्रदेश में इस तरह के 50,000 से ज्यादा केस हर साल आते हैं. ऐसे में पुलिस थानों पर काम का लोड कम पड़ेगा और कोरोना के इस दौर में जनता को घर बैठे सुविधा मिलेगी.

कार्रवाई के लिए समय सीमा तय
यह सुविधा 24X7 उपलब्‍ध होगी. शिकायतकर्ता की शिकायत पर तत्काल कार्रवाई कर समय सीमा में प्रकरण का निपटारा किया जा सकेगा. इससे वाहन चोरी केस में बीमा राशि हासिल करने में अब वक्त नहीं लगेगा. ई-एफआईआर कराने से लोगों को इस बात की लगातार जानकारी मिलती रहेगी कि पुलिस क्या कार्रवाई कर रही है. शिकायतकर्ता जैसे ही आवेदन अपलोड करेगा उसे एसएमएस  से acknowledgement  औऱ पीडीएफ में FIR की कॉपी मिल जाएगी. शिकायतकर्ता की शिकायत पढ़कर संबंधित थाना प्रभारी एफआईआर ओके करेगा और तत्काल जांच अधिकारी नियुक्त कर जांच शुरू की जाएगी.

2 महीने में फुल फ्रेश होगी लागूADG चंचल शेखर ने बताया कि ई-एफआईआर सिस्टम विभिन्न संस्थाओं, एससीआरबी और मेप आईटी की मदद से शुरू की गयी है. आज ई-एफआईआर का ट्रायल रन शुरू किया गया है. इसके अतिरिक्त समस्त जिलों के सोशल मीडिया वेब पेज तैयार किये गए हैं. इसके जरिए प्रेस नोट और सोशल मीडिया की जानकारी सहज रूप से उपलब्ध होगी. किसी भी जिले की वेबसाइट को mppolice.gov.in पर ऐक्‍सेस किया जा सकता है. म.प्र. पुलिस की जनसेवा की दिशा में की जा रही इस पहल से न सिर्फ नागरिकों को FIR दर्ज करवाने में सुविधा होगी बल्कि इन अपराधों में तत्काल निपटारे में मदद मिलेगी.

Tags: FIR, Madhya pradesh Police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें