• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Interesting News: अब थाने में नहीं, ऑनलाइन सुधरेंगे रिश्ते, जानें परिवार को टूटने से कैसे बचाएगी पुलिस

Interesting News: अब थाने में नहीं, ऑनलाइन सुधरेंगे रिश्ते, जानें परिवार को टूटने से कैसे बचाएगी पुलिस

मध्य प्रदेश में अब बिगड़े रिश्ते थाने में नहीं, बल्कि ऑनलाइन सुधरेंगे. पुलिस मेगा प्रोजेक्ट लॉन्च करने जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

मध्य प्रदेश में अब बिगड़े रिश्ते थाने में नहीं, बल्कि ऑनलाइन सुधरेंगे. पुलिस मेगा प्रोजेक्ट लॉन्च करने जा रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

MP Police Initiative: लॉकडाउन और पोस्ट लॉकडाउन के दौरान कई रिश्तों में खटास आई. इन बिगड़ते रिश्तों में मिठास घोलने के मकसद से मप्र पुलिस नई पहल करने जा रही है. प्रदेश की ऊर्जा डेस्क पायलट प्रोजेक्ट पर काम कर रही है. इसमें लोगों को थाने आए बिना कानूनी सलाह मिल जाएगी.

  • Share this:

भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) की राजधानी भोपाल में लॉकडाउन और पोस्ट लॉकडाउन कई रिश्तों पर भारी पड़ा है. इस दौरान 500 ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें रिश्ते टूटने की कगार पर पहुंच गए. अब इन उलझे रिश्तों को पुलिस सुलझाएगी.

खास बात ये है कि इन रिश्तों को ऑनलाइन सुलझाने की कोशिश की जाएगी. इसके लिए महिला या पुरुष को थाने आने की जरूरत नहीं होगी. इसके लिए कानून विशेषज्ञों की मदद ली जाएगी जो फोन और इंटरनेट के माध्यम से घरेलू विवाद सुलझाएंगे. भोपाल पुलिस की ऊर्जा डेस्क इस मामले के तमाम बिंदुओं पर काम करके कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दे रही है.

सोशल मीडिया की मदद से सवरेंगे रिश्ते
दरअसल, भोपाल पुलिस की ऊर्जा डेस्क ने ये पायलट प्रोजेक्ट (Pilot Project) शुरू किया है. इसमें पारिवारिक विवादों (Family Disputes) को सुलझाने का प्रयास किया जाएगा. पति-पत्नी या अन्य पारिवारिक सदस्यों के बीच चल रहे विवाद को खत्म किया जा सकेगा. ऊर्जा डेस्क डीएसपी निधि सक्सेना ने बताया कि पारिवारिक विवादों को लेकर अब न तो महिला को किसी थाने की जरूरत होगी और न ही पुरुषों को. अब पारिवारिक विवादों को सुलझाने के लिए राजधानी में नया पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है.

शिकायतकर्ता को मिलेगा कानून विशेषज्ञ
ऊर्जा डेस्क में इसके लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है. इस प्रोजेक्ट में ऑनलाइन शिकायतें की जा सकेंगी. शिकायत मिलने पर एक मीडियएटर शिकायतकर्ता को कानून विशेषज्ञ उपलब्ध कराएगा. फोन और ऑनलाइन बातचीत के माध्यम से विवादों को सुलझाने का कार्य किया जाएगा.

अब मप्र के हर थाने में करा सकेंगे साइबर क्राइम की एफआईआर
मध्य प्रदेश की आम जनता के लिए यह खबर महत्वपूर्ण है. क्योंकि प्रदेश में जिस तेज गति से साइबर क्राइम बढ़ रहा है और लोग इसके लगातार शिकार हो रहे हैं, ऐसे में उनकी शिकायतों को सुनने की जो व्यवस्था पहले थी, उसे बदलने का काम किया गया है. शिवराज सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए स्थानीय थाने में भी साइबर क्राइम की जांच और एफआईआर दर्ज करने की व्यवस्था तैयार की है. इस नई व्यवस्था से अब साइबर क्राइम के शिकार लोगों को स्टेट और जिले की साइबर सेल के चक्कर काटने नहीं पड़ेंगे.

सरकार ने बांटा पुलिस और साइबर सेल का काम
अब तक की व्यवस्था के मुताबिक साइबर क्राइम होने की स्थिति में जिला मुख्यालय या भोपाल में बनी राज्य साइबर सेल में लोगों को शिकायत करना पड़ती थी, लेकिन अब सरकार ने एक नई व्यवस्था लागू की है. इसके तहत छोटे-छोटे साइबर क्राइम की स्थिति में स्थानीय थाना पुलिस मामलों की जांच कर लोगों की मदद करेगी. जबकि किसी बड़े साइबर क्राइम होने की स्थिति में ही साइबर सेल जाने की जरूरत आम आदमी को रहेगी. सरकार ने पुलिस और साइबर सेल के काम को बांट दिया है. यह इसलिए किया गया है ताकि आम जनता साइबर क्राइम से जुडी शिकायतों को लेकर पुलिस के चक्कर न काटे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज