• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • बलात्कारियों को चौराहों पर फांसी दो, MP की टूरिज्म मिनिस्टर ने क्यों कहा ऐसा, क्या उठाने जा रहीं कदम

बलात्कारियों को चौराहों पर फांसी दो, MP की टूरिज्म मिनिस्टर ने क्यों कहा ऐसा, क्या उठाने जा रहीं कदम

मध्य प्रदेश की टूरिज्म मिनिस्टर ऊषा ठाकुर ने रेप करने वालों को सख्त सजा देने की मांग की है.

MP News: मध्य प्रदेश की पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर ने बलात्कारियों को चौराहों पर फांसी की वकालत की है. उनका कहना है कि भारत में कानूनों को बदलने की जरूरत है. ठाकुर बाकायदा इसके लिए सिग्नेचर कैंपेन चलाने की भी बात कह रही हैं.

  • Share this:
भोपाल. अक्सर चर्चा में रहने वाली मध्य प्रदेश की पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर ने कहा है कि बलात्कारियों को सारेआम चौराहों पर फांसी के फंदे से लटका देना चाहिए. उनके कोई मानव अधिकार नहीं होते. इतना ही नहीं, उन्होंने कहा कि इसके लिए वे हस्ताक्षर अभियान तक चलाएंगी.

पर्यटन मंत्री ठाकुर ने कहा कि अंग्रेजों के बनाए कानूनों को भी बदलने की जरूरत है. इन कानूनों का सहारा लेकर आरोपियों को बचने के रास्ते मिलते हैं. रेपिस्ट को कड़ी से कड़ी सजा मिले उसके लिए  वह अभियान चलाएंगी.

कई बार खड़े कर चुकीं विवाद

गौरतलब है कि ठाकुर कई बार बयान देकर विवाद खड़े चुकी हैं. अप्रैल महीने में उन्होंने इंदौर के देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट पर पूजा कर विवाद खड़ा कर दिया था. उन्होंने कोरोना को खत्म करने के लिए अहिल्या की मूर्ति के सामने विशेष पूजा की. खास बात ये है कि इस दौरान उन्होंने मास्क नहीं लगाया था.पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर ने ये पूजा 9 अप्रैल को की थी. इस दौरान एयरपोर्ट डायरेक्टर आर्यमा सन्यास सहित पूरा स्टाफ मौजूद था. पूजा के दौरान मंत्री पूरे भक्तिभाव में डूबी दिखाई दीं और तालियां बजाईं. उन्होंने मां अहिल्या के चरणों में नारियल अर्पित किया और फिर आरती की.

लग चुका डकैती का आरोप

पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर पर जनवरी में डकैती का आरोप लगा था.  वन मंत्री विजय शाह ने इस मामले की जांच के आदेश दिए थे. वन विभाग के एक कर्मचारी की शिकायत पर इस मामले की जांच की जा रही है. यह जांच पीसीसीएफ स्तर के अधिकारी से कराई जाएगी. जांच के लिए टीम का गठन भी कर दिया गया था. बड़गोंदा पुलिस थाने में वन विभाग की तरफ से एक आवेदन दिया गया था. उसमें मंत्री उषा ठाकुर और उनके समर्थकों पर जब्त की गई जेसीबी और ट्रैक्टर-ट्रॉली ले जाने का आरोप था. यह आवेदन राम सुरेश दुबे नाम के वनपाल ने दिया था. उनका आवेदन और एक वीडियो भी सामने आया था. इस आवेदन के बाद पुलिस विभाग और वन विभाग के हाथ-पांव फूले गए थे. मामला क्षेत्र के आड़ा पहाड़ का है, जहां पिछले दिनों बड़े पैमाने पर अवैध उत्खनन हो रहा था.

पिछली बार इस तारीख पर हुई थी फांसी

बता दें, भारत में पिछली बार फांसी 1993 के मुंबई धमाकों के दोषी याकूब मेमन को जुलाई 2015 में दी गई थी. लेकिन, बलात्कार के मामले में आखिरी बार 2004 में पश्चिम बंगाल के आरोपी को दी गई थी. कोलकाता में एक 15 वर्षीय स्कूली छात्रा के साथ बलात्कार और उसकी हत्या के मुजरिम धनंजय चटर्जी को 14 अगस्त 2004 को तड़के साढ़े चार बजे फांसी पर लटका दिया गया था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज