कोरोना मरीजों को नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी, NHM ने दिये 1 करोड़ रुपये

एमपी में आज कोरोना मरीज़ों का आंकड़ा 1 लाख को पार कर गया है.
एमपी में आज कोरोना मरीज़ों का आंकड़ा 1 लाख को पार कर गया है.

NHM का सख्त आदेश है कि जिला अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं (Pregnant women) और कम इम्युनिटी वाले बुजुर्ग और मासूमों पर डॉक्टर ज्यादा फोकस करें.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश  (MP) में कोरोना संक्रमित (Corona virus) मरीजों का आंकड़ा शुक्रवार को एक लाख की संख्या पार कर चुका है. बढ़ता आंकड़ा स्वास्थ्य विभाग की टेंशन बढ़ा रहा है. टेंशन इस बात की है कि प्रदेश के बड़े शहरों में तो तमाम सुविधाएं उपलब्ध हैं लेकिन छोटी जगहों पर क्या करें. कोरोना मरीज़ों की संख्या बढ़ने के साथ ही ऑक्सीजन की खपत भी बढ़ गई है.ऐसे में ऑक्सीजन मुहैया कराने के लिए एनएचएम (NHM) ने जिलों को 1 करोड़ का एक्स्ट्रा फंड मुहैया कराया है ताकि इलाज में दिक्कत न हो.

एक महीने का एक्स्ट्रा फंड
देश में कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन की किल्लत का मुद्दा उठने के बाद सरकार अलर्ट हो गयी और समय रहते समस्या का समाधान निकाल लिया.इसके बाद दूसरे राज्यों से भी ऑक्सीजन सप्लाई की जा रही है.सीएम के अनुरोध पर केन्द्र सरकार की तरफ से प्रदेश को रोजाना 50 टन ऑक्सीजन सप्लाई की जाएगी. प्रदेश के अस्पतालों में कोरोना मरीज बढ़ने के साथ ही उन्हें अच्छा इलाज मुहैया कराने के लिए NHM ने सभी जिलों को 1 महीने का एक्स्ट्रा फंड दिया है. इससे न केवल कोरोना मरीज़ों को राहत मिलेगी, बल्कि नॉन कोविड मरीज़ भी अपना ट्रीटमेंट सही समय पर ले सकेंगे.


सबका ख्याल


अब तक जिलों को ऑक्सिजन की आपूर्ति के लिए स्वास्थ्य विभाग रेगुलर फंड और एनएचएम से भी राशि जारी कर रहा था.लेकिन बीते महीने भर में कोरोना के मामलों में दोगुनी बढ़ोतरी देखते हुए NHM की ओर से 1 महीने के लिए एक्स्ट्रा फंड दिया गया है, ताकि ऑक्सीजन की कमी संक्रमित मरीजों के इलाज में बाधा न बने.  इसमें हर जिले को जरूरत के अनुसार राशि मुहैया कराई गई है.

NHM का आदेश
NHM का सख्त आदेश है कि जिला अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं और कम इम्युनिटी वाले बुजुर्ग और मासूमों पर डॉक्टर ज्यादा फोकस करें. इन वर्गों को किसी भी अड़चन का सामना न करना पड़े इसके लिए निर्देश भी जारी किए गए हैं. प्राथमिकता से सभी संदिग्धों का टेस्ट कराया जाएगा और उन्हें रिपोर्ट भी तत्काल दे दी जाएगी.

जिलों को फंड डिस्ट्रीब्यूशन
इनमें सबसे ज्यादा 22 लाख 93 हजार रूपए उज्जैन को दी गई है
भोपाल - 5 लाख 92 हजार,
इंदौर - 12 लाख 30 हजार,
शिवपुरी - 10 लाख 7 हजार,
विदिशा - 10 लाख 94 हजार
अशोक नगर - 9000 रुपए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज