आया था परीक्षा देने, पुलिस की लापरवाही ने कोमा में पहुंचा दिया

Makarand Kale | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 16, 2017, 4:28 PM IST
आया था परीक्षा देने, पुलिस की लापरवाही ने कोमा में पहुंचा दिया
डॉक्टरों के मुताबिक प्रमोद की हालत बेहद चिंताजनक है
Makarand Kale | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 16, 2017, 4:28 PM IST
सम्पर्क क्रान्ति एक्सप्रेस में लूट के मामले में खुलासा होने पर पता चला है कि मध्य प्रदेश की भोपाल पुलिस ने गलत युवकों को गिरफ्तार कर लिया है.

दरअसल, सात दिन पूर्व सागर जिले के बीना में एक लूट के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया. भीड़ की पिटाई के बाद दोनों युवकों को पुलिस के हवाले कर दिया गया. पुलिस ने आनन फानन में FIR भी दर्ज कर ली थी.

परिजनों के सामने आने के बाद कहानी में ट्विस्ट आया और पता चला कि संपर्कक्रांति एक्सप्रेस में लूट के मामले में पुलिस ने जिन दो आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है उनमें से एक छात्र एमएससी का टॉपर रहा है और हैदराबाद में पढ़ाई कर रहा है. परिजनों के मुताबिक प्रमोद भोपाल में पुलिस की परीक्षा देने के लिए आया था.

प्रमोद के पिता का कहना है कि मामले में पुलिस ने बिना जांच किए बच्चों पर केस दर्ज कर लिया. जबकि प्रमोद का इस मामले से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं है.

पुलिस के मुताबिक रात साढ़े 12 बजे के आसपास लुटेरों ने ट्रेन की चेन खींच दी और जैसे ही ट्रेन धीमी हुई, दो लुटेरे चलती ट्रेन से उतर गये और फरार हो गये, जबकि दो लुटेरों प्रमोद धाकड और सुरेश वर्मा को रवि और उसके एक साथी ने दबोच लिया. इसी दौरान एक आरोपी ने देशी कट्टे से फायरिंग कर दी, जिससे छर्रा लगने से यात्री घायल हो गया.

जबकि प्रमोद के पिता का कहना है कि सुरेश और प्रमोद एक दूसरे को कभी मिले तक नहीं. इतना ही नहीं सुरेश हैदराबाद का रहने वाला है, उसे हिंदी तक नहीं आती.

परिजनों ने कहा कि पुलिस की लापरवाही ने उनके बेटे की जान पर आफत ला दी है. डॉक्टरों के मुताबिक प्रमोद की हालत बेहद चिंताजनक है और उसे अस्पताल लाने में काफी देर की गई. प्रमोद पिछले कई दिनों से कोमा में है.

पुलिस पर आरोप है कि बच्चों की हिस्ट्री और पहचान जाने बिना पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली. परिजनों का कहना है कि उन लोगों के खिलाफ एफआईआर होनी चाहिए जिन्होंने उनके बेटे को मौत के मुंह में ढकेला है.
First published: September 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर