कमलनाथ को अभी भी सरकार वापसी की उम्मीद, कहा- सौदेबाजी की सरकार है BJP की सरकार

कांग्रेस ने लोकतंत्र सम्मान दिवस पर कई कार्यक्रम किए.

कांग्रेस ने लोकतंत्र सम्मान दिवस पर कई कार्यक्रम किए.

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पिछले साल 20 मार्च को ही इस्तीफा दिया था. इसके साथ ही मप्र में उनकी 15 महीने की सरकार गिर गई थी. अब कमलनाथ फिर उम्मीद लगाए बैठे हैं कि सरकार की वापसी हो सकती है.

  • Last Updated: March 20, 2021, 4:09 PM IST
  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस सत्ता में आई तो अधूरे वचनों को पूरा किया जाएगा. ये सरकार सौदेबाजी की सरकार है, ज्यादा नहीं चलेगी. कमलनाथ ने ये बात वीडियो संदेश जारी कर कही. कमलनाथ ने साफ संकेत दे दिए कि 2023 के चुनाव को लेकर कांग्रेस पार्टी की तैयारियां जोरों पर हैं.

दरअसल, पिछले साल 20 मार्च को ही कमलनाथ सरकार ने इस्तीफा दिया था. 15 महीने की सरकार बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ विधायकों के दल बदलने के कारण गिर गई थी. आज कमलनाथ के सरकार गवाने के 1 साल पूरा होने पर कांग्रेस पार्टी ने पूरे प्रदेश में लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाया. इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस दफ्तर में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और सुरेश पचौरी सहित सैकड़ों नेता-कार्यकर्ता मौजूद थे. कांग्रेस के नेताओं ने इस मौके पर संविधान की प्रस्तावना को पढ़कर सुनाया.

दिग्विजय सिंह ने दिया नया नारा

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी प्रदेश कांग्रेस दफ्तर में आयोजित लोकतंत्र सम्मान दिवस के मौके पर कहा कि जब देश का संविधान बना था तब RSS ने उस संविधान को जलाने का काम किया था. ऐसे लोग कभी देश के हिमायती नहीं रहे हैं. लोकतंत्र बचाने के लिए लड़ाई लड़ना जरूरी है. संघ और बीजेपी के कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर प्रचार करते हैं. वोट किसी को भी मिले, पर सरकार बीजेपी की ही बनेगी. चुने हुए जनमत को खरीदती है बीजेपी. बीजेपी ने उद्योगपतियों के माफिक नीतियां बनाई हैं. कमलनाथ सरकार ने 15 महीने में कई जनहित के फैसले किए थे. दिग्विजय ने लोकतंत्र सम्मान कार्यक्रम के मौके पर नारा दिया ‘भाजपा हटाओ लोकतंत्र बचाओ’
पुलिस से भिड़े कार्यकर्ता

प्रदेश कांग्रेस दफ्तर में लोकतंत्र सम्मान दिवस के आयोजन के बाद महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करने के लिए निकले कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बैरिकेड लगाकर रोक लिया. कार्यकर्ता आगे बढ़ने की जिद कर रहे थे और इसी दौरान कार्यकर्ता और पुलिस के बीच जमकर झड़प हुई. कई कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस की अनुमति के बाद दिग्विजय सिंह समेत कुछ नेताओं को गाड़ी से महात्मा गांधी की प्रतिमा तक जाने की अनुमति दी गई. यहां दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस नेताओं ने महात्मा गांधी को पुष्प अर्पित किए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज