अपना शहर चुनें

States

MP: प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने लव जिहाद को ISIS का षडयंत्र बताया, कांग्रेस बोली- RSS का एजेंडा

कांग्रेस और मुस्लिम संगठन लव जिहाद पर प्रस्तावित विधेयक का विरोध कर रहे हैं
कांग्रेस और मुस्लिम संगठन लव जिहाद पर प्रस्तावित विधेयक का विरोध कर रहे हैं

कांग्रेस (Congress) ने कहा कि प्रस्‍तावित विधेयक बदले की भावना से काम करने वाला है. वहीं, मुस्लिम संगठनों ने भी इसका विरोध किया है.

  • Share this:
भोपाल.मध्य प्रदेश में लव जिहाद (Love jihad) के खिलाफ प्रस्तावित विधेयक का कांग्रेस और मुस्लिम संगठन विरोध कर रहे हैं. वहीं, बीजेपी (BJP) के अंदर से ही इसे और सख्त करने की मांग उठ रही है. बीजेपी नेता और मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने तो इसे आतंकी संगठन ISIS का षडयंत्र तक बता दिया.

प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कहा कि लव जिहाद पाकिस्तान की आईएसआई और आतंकी संगठनों का भारत के खिलाफ बड़ा षड्यंत्र है. उन्‍होंने 5 साल नहीं, बल्कि 10 साल की सजा का प्रावधान करने की बात कही है. रामेश्‍वर शर्मा ने दलित और आदिवासी की बेटियों के धर्मांतरण के बाद मुस्लिम या ईसाई बनने पर उन्हें आरक्षण का लाभ न देने की मांग भी की है. उन्‍होंने यह भी कहा कि मुस्लिम संगठनों और कांग्रेस का विरोध करने से कुछ नहीं होगा. यह षड्यंत्र चल रहा है. हमारा विधेयक वोट के खातिर नहीं, बल्कि संस्कृति के लिए है.

धर्म विशेष टारगेट नहीं
मध्‍य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि लव जिहाद पर प्रस्‍तावित कानून धर्म विशेष से जुड़ा नहीं है. जो लालच देकर धर्मांतरण के लिए शादी करता है, ऐसे लोगों के लिए 5 साल का कठोर कारावास के लिए विधेयक लाया जाएगा. कांग्रेस ये बताए की वो विधेयक के साथ है या खिलाफ.
कांग्रेस ने बताया RSS का एजेंडा


कांग्रेस के सीनियर लीडर माणक अग्रवाल ने कहा कि प्रस्‍तावित विधेयक बदले की भावना से काम करने वाला है. एसटी-एससी के लोगों को इससे वंचित करने की जो बात की है, यह शुद्ध रूप से RSS का एजेंडा है. RSS चाहता है कि किसी भी सूरत में एससी-एसटी को लाभ न मिले और कांग्रेसियों को परेशान किया जाए. पहले से प्रदेश में कई कानून हैं.

प्रस्तावित विधेयक का विरोध
लव जिहाद के प्रस्तावित विधेयक का मध्य प्रदेश जमीयत उलेमा ए हिंद ने विरोध शुरू कर दिया है. इस मुस्लिम संगठन के अध्यक्ष हाजी हारून ने कहा कि लव जिहाद के नाम पर प्रोपेगेंडा किया जा रहा है. उसे रोका जाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज