होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

MP: भारी बारिश से मचा हाहाकार, जलप्रलय से चारों ओर पानी ही पानी, सड़कों से संपर्क टूटा

MP: भारी बारिश से मचा हाहाकार, जलप्रलय से चारों ओर पानी ही पानी, सड़कों से संपर्क टूटा

MP News: भारी बारिश की वजह से मध्य प्रदेश में जलप्रलय आई है. चारों ओर पानी ही पानी दिखाई दे रहा है.

MP News: भारी बारिश की वजह से मध्य प्रदेश में जलप्रलय आई है. चारों ओर पानी ही पानी दिखाई दे रहा है.

MP Weather News: मध्य प्रदेश में भारी बारिश कहर बरपा रही है. चारों ओर पानी ही पानी है और जलप्रलय का नजारा दिखाई दे रहा है. प्रदेश की करीब-करीब सभी नदियां उफान पर हैं. नर्मदापुरम में नर्मदा खतरे के निशान से महज दो फीट नीचे बह रही है. भोपाल के सभी डैम के गेट खोल दिए गए हैं. भोपाल-नागपुर हाईवे बंद हो गया है. सड़कें जलमग्न हैं और यातायात ठप हो गया है. प्रशासन ने कई जगह स्कूलों की छुट्टी कर दी है. जिलों की निचली बस्तियों में अलर्ट जारी किया गया है. प्रशासन ने लोगों से सावधानी बरतने की अपील की है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. भारी बारिश ने मध्य प्रदेश में हाहाकार मचाया हुआ है. लगातार बारिश होने से नदियां उफान पर हैं और चारों ओर जलप्रलय दिखाई दे रही है. लोगों ने घरों में पानी घुस गया है और हाईवे बंद हो गए हैं. जिलों की सड़कें जलमग्न हैं. इस वजह से यातायात ठप हो गया है. भोपाल में पिछले 48 घंटों से लगातार बारिश हो रही है तो, नर्मदापुरम में नर्मदा उफान पर है. यह खतरे के अलार्म से महज 2 फीट नीचे बह रही है. भारी बारिश से करीब-करीब हर जिले में तबाही मची हुई है. भोपाल सहित कई जिलों में स्कूलों की छुट्टी कर दी दई है. प्रशासन अलर्ट पर है और कई जगह निचली बस्तियों में लोगों से सावधानी बरतने की अपील कर रहा है.

मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट के बाद नर्मदापुरम  जिले और आसपास के क्षेत्रों में जोरदार बारिश का सिलसिला जारी है. भारी बारिश और डैम से लगातार छोड़े जा रहे पानी के कारण नर्मदा के जलस्तर में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. सोमवार शाम नर्मदा का लेवल 962 फीट पर पहुंच गया, जो डेंजर अलार्म लेवल से महज 2 फीट कम है. वर्तमान में नर्मदा का जलस्तर 962 फिट पहुंच गया है, जो डेंजर अलार्म लेवल से 2 फीट कम है. नर्मदापुरम में डेंजर अलार्म लेवल 964 फीट है और 967 फीट डेंजर लेवल है. नर्मदा का जलस्तर 967 फीट होने पर निचले क्षेत्रों में जलभराव की स्थिति बनने लगती है.

नर्मदापुरम हाई अलर्ट पर
प्रशासन ने बाढ़ की स्थिति को देखते हुए जिले में हाई अलर्ट जारी किया है और 15 डिस्ट्रिक रिस्पांस टीम तैनात की हैं, जिससे आपदा की स्थिति निर्मित होने पर लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके. लगातार बारिश के कारण नदी नाले भी उफान पर हैं. तवा डैम के बैक वॉटर के कारण नागपुर-भोपाल नेशनल हाईवे पर यातायात बंद हो गया है. प्रशासन के मुताबिक डैम का लेवल मेंटेन होने तक भोपाल-नागपुर नेशनल हाईवे इटारसी रूट से बंद रहेगा. इस दौरान वाहनों को बैतूल से डायवर्ट किया गया है.नर्मदापुरम में भारी बारिश के कारण जिला प्रशासन ने स्कूलों में अवकाश घोषित किया है. प्रशासन ने निचले क्षेत्रों में जलभराव की स्थिति बनने पर राहत शिविर के स्थान भी चिन्हित कर लिए हैं, जहां लोगों को शिफ्ट किया जा सकेगा. बाढ़ की संभावना के मद्देनजर कलेक्टर नीरज सिंह और एसपी गुरकरण सिंह ने पुलिस और प्रशासनिक अमले के साथ नर्मदा घाटों सहित शहर के निचले इलाकों का जायजा लिया.

खरगोन-राजगढ़ में आफत
खरगोन जिले में लोगों के घरों और दुकानों में पानी घुस गया है. यहां आम जन जीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है. भारी बारिश की वजह से सड़क तालाब में तब्दील हो गई है. वहीं राजगढ़ जिले के नरसिंहगढ़ में मूसलाधार बारिश के चलते नगर की निचली बस्तियों सहित मुख्य बाजार व कई दुकानों पानी भरा गया. इसके चलते लोगो को भारी परेशानी हुई. बारिश की वजह से आस पास के नदी-नाले उफान पर होने से कई गांवों के मार्ग बंद हो गए हैं. जिले के ब्यावरा में बीती रात से रही लगातार बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. नदी के पास के इलाकों के घरों, दुकानों और बस्तियों में पानी भर गया है. यहां की अजनार नदी उफान पर होने से कई मार्ग बंद हो गए हैं.

मंडला में नदी-नाले उफन पर
मंडला जिले में कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश से सभी नदी-नाले ऊफान पर हैं. यहां थावर नदी पर बने बांध का गेट खोल दिया गया है. इसकी वजह से मंडला-सिवनी-नागपुर मार्ग पर बना थावर पुल जल मग्न हो गया है. यह पुल पिछले करीब 22 घंटे से जल मग्न है. इसके चलते आवागमन बाधित है. मंडला-सिवनी- नागपुर मार्ग 22 घंटे से बंद है. आलम यह है कि दोनों ओर वाहनो की लंबी कतार लग गई है. वहीं, मंडला डिंडोरी मार्ग पर बने खाल्हे डिठौरी में जोखे नाला में उफान उफान आ गया है. यहां नाला से करीब तीन फिट ऊपर बह रहा है. इसकी वजह से मंडला-डिंडौरी मार्ग में आवागमन बाधित हो गया है. दोनों तरफ वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई हैं.

Koo App

प्रदेश में लगातार हो रही वर्षा से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा की और निरंतर स्टेट सिचुएशन रूम के संपर्क में हूं। आज प्रात: मुख्य सचिव, एसीएस राजेश राजौरा सहित संबंधित जिलों के कलेक्टर्स से फोन पर चर्चा की है। आज प्रात: कमिश्नर नर्मदापुरम, कलेक्टर नर्मदापुरम रायसेन, विदिशा, भोपाल, सीहोर से फोन पर आवश्यक निर्देश दिए हैं। लगातार बारिश के कारण बरगी, बारना, तवा डैम के गेट खोलने के कारण नर्मदा नदी का जल स्तर बढ़ा है। हम डैम से रेगुलेट कर पानी छोड़ रहे हैं, जिससे कोई अप्रिय स्थिति ना बने।

Shivraj Singh Chouhan (@chouhanshivraj) 16 Aug 2022

Koo App

नर्मदापुरम और जबलपुर संभाग में लगातार तेज बारिश के कारण नर्मदा और बेतवा में जलस्तर बढ़ रहा है। हम निरंतर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बांधों में जलभराव की स्थिति की समीक्षा कर नियंत्रित तरीक़े से गेट खोलकर नर्मदा और बेतवा के जलस्तर को सामान्य रखने का प्रयास कर रहे हैं। मेरी सभी नागरिकों से अपील है कि ज़िला प्रशासन के द्वारा जिन निचली बसाहट के गांवों और बस्तियों को ख़ाली कर सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी जाये, उसका पालन अवश्य करें।

Shivraj Singh Chouhan (@chouhanshivraj) 16 Aug 2022

डिंडौरी में हालात खराब
डिंडौरी जिले में पिछले 5 दिनों से हो रही तेज बारिश के चलते सभी नदी-नाले उफान पर हैं. डिंडौरी से नेवसा मार्ग में रोरा नदी में बाढ़ का पानी पुल के ऊपर से बह रहा है. इसके कारण कई गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट गया है. पुल बाढ़ में डूब जाने के कारण करीब 4 घंटे से मार्ग में आवागमन पूरी तरह से बाधित है, लिहाजा मुसाफिर काफी परेशान नजर आ रहे हैं. लगातार हो रही तेज बारिश से जनजीवन प्रभावित हो गया है.

मंदसौर में मंदिर जलमग्न
मंदसौर में भगवान पशुपतिनाथ जलमग्न हो गए. शिवना नदी का पानी पशुपतिनाथ मंदिर के गर्भ गृह में घुस गया. पशुपतिनाथ भगवान के चार मुंह पानी में डूब गए. बता दें, यहां देर रात से तेज बारिश हो रही है. कई निचली बस्तियों में भी पानी घुस गया. कचनारा और धमनार में निचली बस्तियों को खाली करवाया गया.

Tags: Bhopal news, Mp news, MP Weather Alert

अगली ख़बर