लाइव टीवी

अब घर के बाहर खड़ी की गाड़ी तो जेब होगी ढीली, निगम ने बनाया नया प्लान, जानें कितने देने होंगे रुपये
Bhopal News in Hindi

Puja Mathur | News18Hindi
Updated: February 23, 2020, 6:09 PM IST
अब घर के बाहर खड़ी की गाड़ी तो जेब होगी ढीली, निगम ने बनाया नया प्लान, जानें कितने देने होंगे रुपये
सूत्रों के अनुसार मोटरसाइकिल पार्क करने का प्रस्तावित चार्ज 100 रुपये होगा, वहीं कार का 500 रुपये और बड़े वाहन का 1 हजार रुपये प्रति महीने होगा.(प्रतीकात्मक फोटो)

नगर निगम का कहना है कि प्रदेश की जनता खाली सड़कों पर वाहन पार्क कर निगम की जमीन का मुफ्त में उपयोग कर रहे हैं. यदि इस पर टैक्स लगाया जाए तो निगम की आमदनी में बढ़ाेतरी होगी. इससे निगम को करोड़ाें रुपये का फायदा भी होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2020, 6:09 PM IST
  • Share this:
भोपाल. अब घर के बाहर यदि आपने गाड़ी खड़ी की तो परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. नगर निगम ने अब एक नया प्लान शुरू किया है, जिसके तहत घर के बाहर गाड़ी खड़ी करने पर अब यूजर चार्ज वसूला जाएगा. नगर निगम ने इसके लिए तैयारी कर रहा है और जल्द ही इस नियम को लागू किया जाएगा. तैयारियों के तहत नगर निगम ने आरटीओ से इस संबंध में डाटा कलेक्शन भी शुरू कर दिया है.

निगम की जमीन फ्री में यूज कर रहे लोग
नगर निगम का कहना है कि प्रदेश की जनता खाली सड़कों पर वाहन पार्क कर निगम की जमीन का मुफ्त में उपयोग कर रहे हैं. यदि इस पर टैक्स लगाया जाए तो निगम की आमदनी में बढ़ाेतरी होगी. इससे निगम को करोड़ाें रुपये का फायदा भी होगा. एक सर्वे के तहत नगर निगम ने डाटा जमा किया है, जिसके अनुसार, भोपाल की 65 प्रतिशत आबादी के पास वाहन है जिसमें से 40 फीसदी लोग ऐसे हैं जो गाड़ियां अपने घर के बाहर खड़ी करते हैं. आरटीओ के रिकॉर्ड के अनुसार, 16 लाख से ज्यादा भोपाल में दुपहिया, चौपहिया और भारी वाहन हैं.

100 रुपये बाइक तो 500 रुपये कार



सूत्रों के अनुसार मोटरसाइकिल पार्क करने का प्रस्तावित चार्ज 100 रुपये होगा, वहीं कार का 500 रुपये और बड़े वाहन का 1 हजार रुपये प्रति महीने होगा. निगम का मानना है कि ऐसा करने से अतिक्रमण से मुक्ति मिलेगी तो वहीं निगम की ओर से बनाई गई मल्टी लेवल पार्किंग का भी सही इस्तेमाल होगा. इस मामले पर बीजेपी का कहना है की नगर निगम परिषद का कार्यकाल समाप्त हो चुका है इसलिए कोई भी फरमान ऐसा नहीं होना चाहिए जिससे प्रदेश की जनता को परेशानी हो. जनप्रतिनिधियों और प्रदेश की जनता से राय लेने के बाद ही ऐसे प्रस्ताव पारित करने चाहिए. वहीं कॉग्रेस ने भी निगम के इस फरमान को जनता की जेब पर भार मात्र बताया है.

ये भी पढ़ेंः 'बाला-बाला, शैतान...' पर जमकर नाचे जबलपुर के एसपी, सोशल मीडिया पर Video वायरल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 23, 2020, 3:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर