होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

लड़कियों की शादी की उम्र 21 होने का डर; भोपाल में निकाह की जल्दी, जानिए कितना हुआ इजाफा

लड़कियों की शादी की उम्र 21 होने का डर; भोपाल में निकाह की जल्दी, जानिए कितना हुआ इजाफा

Bhopal Big News: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में निकाहों की संख्या अचानक बढ़ गई है. लोग लड़कियों की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 साल किए जाने की खबर से डर गए हैं.

Bhopal Big News: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में निकाहों की संख्या अचानक बढ़ गई है. लोग लड़कियों की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 साल किए जाने की खबर से डर गए हैं.

Nikah in Bhopal: भारत सरकार लड़कियों की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 करने का सोच रही है. इस खबर ने कई परिवारों में खलबली मचा दी है. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में इस खबर से लोग डर गए हैं. यहां एक महीने के अंदर अचानक निकाहों की संख्या तेजी से बढ़ी है. वे परिवार अपनी लड़कियों का जल्द से जल्द निकाह कर देना चाहते हैं, जो शादी पहले ही तय कर चुके हैं. वे चाहते हैं कि नया कानून बने उससे पहले ही शादी कर दें. राजधानी में पिछले साल नवंबर में एक महीने में 508 शादियां हुईं, जबकि पिछले साल ही दिसंबर में ये आंकड़ा लगभग दो गुना होकर 937 पर पहुंच गया.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लड़की की शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 साल किए जाने की खबर से लोग डर गए हैं. भोपाल में एक महीने के अंदर निकाहों की संख्या तेजी से बढ़ गई है. यहां उन परिवारों को निकाह की जल्दी है, जिन्होंने अपनी बेटियों की शादी तय कर दी थी. वे चाहते हैं कि नया कानून बने उससे पहले ही शादी कर दें.

गौरतलब है कि राजधानी में पिछले साल नवंबर में एक महीने में 508 शादियां हुईं, जबकि पिछले साल ही दिसंबर में ये आंकड़ा लगभग दो गुना होकर 937 पर पहुंच गया. इस साल जनवरी का आंकड़ा भी पहले से ज्यादा 683 है. निकाह में इजाफे की एक वजह कोरोना की तीसरी लहर से होने वाले संभावित  लॉकडाऊन को भी बताया जा रहा है.

लोगों पर कानून का असर होता है- अराफात

मसाजिद कमेटी के प्रभारी सचिव यासिर अराफात ने बताया कि लोगों पर कानून का असर पड़ता है. वे चाहते हैं कि 21 साल की उम्र में लड़कियों की शादी का कानून बनने से पहले ही निकाह हो जाए. अभी तक के सारे निकाह कानून के हिसाब से ही हुए हैं. इसमें लड़के की 21 और लड़की की 18 ही है. अभी लड़कियों की उम्र 21 साल होने का कानून नहीं बना है. इस मामले पर सरकार की जो भी गाईडलाईन होगी उसके मुताबिक काम करेंगे.

शादी के 21 साल वाले प्रस्ताव का अब देवबंद व AIMPLB ने किया विरोध

गौरतलब है कि जब से केंद्र सरकार ने लड़कियों की शादी की उम्र 18 साल से बढ़ाकर 21 साल करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है, तब से ही मुस्लिम संगठन से लेकर कई नेता इसका विरोध कर रहे हैं. शादी की उम्र 21 साल करने वाले प्रस्ताव का पिछले साल देवबंद से लेकर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने विरोध किया था. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सरकार से लड़कियों की उम्र न बढ़ाने की अपील की थी. बोर्ड ने अपने पक्ष में दलील दी थी कि इससे जुर्म बढ़ जाएगा. सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि इससे अवारगी बढ़ जाएगी. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा था कि कि आम तौर पर लोग लड़की की शादी कम उम्र में नहीं करते. लेकिन कभी-कभी ऐसे हालात हो जाते हैं, जिसमें कम उम्र में लड़की की शादी करनी पड़ती है.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर