लाइव टीवी

Exclusive: हनी ट्रैप में फंसे थे पूर्व CM से लेकर कई मंत्री-नेता और नौकरशाह, देखिए पूरी लिस्ट

Manoj Rathore
Updated: September 20, 2019, 10:18 AM IST
Exclusive: हनी ट्रैप में फंसे थे पूर्व CM से लेकर कई मंत्री-नेता और नौकरशाह, देखिए पूरी लिस्ट
हनी ट्रैप केस में एटीएस और एमपी इंटेलीजेंस ने शुरू कर दी है जांच.

हनी ट्रैप रैकेट (Honey Trap Racket) में पूर्व सीएम और मौजूदा मंत्रियों समेत 6 बड़े नेता, 4 IPS और 5 IAS का नाम भी है शामिल. बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के बड़े नेताओं से कनेक्शन. इंदौर पुलिस के साथ एमपी इंटेलिजेंस और एटीएस (ATS) ने शुरू की जांच.

  • Last Updated: September 20, 2019, 10:18 AM IST
  • Share this:
भोपाल. मध्यप्रदेश में सबसे बड़े हनी ट्रैप मामले (Honey Trap Racket) में बड़े खुलासे होते दिख रहे हैं. इसमें आम लोग ही नहीं पूर्व मुख्यमंत्री, कई मंत्री-नेता और नौकरशाहों के फंसने की भी बात सामने आई है. बड़े नामों के उजागर होने और जांच का दायरा बढ़ने के साथ ही इंदौर पुलिस के साथ अब इंटेलिजेंस और एटीएस (ATS) के अधिकारी भी मामले पर नजर बनाए हुए हैं. आने वाले समय में कई बड़े खुलासे होने की संभावना है. गौरतलब है कि इस हाईप्रोफाइल हनी ट्रैप मामले में सबसे पहले इंदौर पुलिस ने दो महिलाओं को गिरफ्तार किया था. इन महिलाओं की गिरफ्तारी के बाद भोपाल से तीन महिलाओं और एक पुरुष को भी पकड़ा गया है. अब बड़े लोगों के नाम सामने आने के साथ ही सूबे के राजनीतिक गलियारों में भूचाल भी आ गया है.

6 नेता और कई नौकरशाह
सूत्रों के अनुसार जिन बड़े लोगों के नाम सामने आ रहे हैं, उनमें 6 बड़े राजनेता, 4 आईपीएस (IPS), 5 आईएएस (IAS) अधिकारियों के साथ कई दूसरे वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के नाम शामिल हैं. बड़े लोगों के नाम सामने आने के बाद गृहमंत्री बाला बच्चन ने कहा कि यह बड़ी कार्रवाई है. इस मामले की गहराई से जांच की जा रही है. कोई भी अपराधी बच नहीं पाएगा. जो लोग प्लान बनाकर लोगों को शिकार बनाते थे, वे सभी बेनकाब होंगे.

Honey Trap Racket: नेताओं और IAS-IPS अफसरों को ब्लैकमेल कर रही थी 'हनी', देखें Video

लिस्ट में इनके नाम हैं प्रमुख

  • पूर्व राज्यपाल - महिला का एनजीओ के काम से राज्यपाल के पास आना-जाना था.

  • Loading...

  • पूर्व मुख्यमंत्री - हनी ट्रैप में फंसने के बाद मामले में सेटलमेंट के लिए एक महिला को मकान दिया था.

  • मौजूदा मंत्री - रंगीन मिजाज की वजह से जाने जाते हैं...महिला का इनके पास आना जाना था.

  • 2 पूर्व मंत्री - एनजीओ के काम से आने-जाने की वहज से पहचान हुई. कई सरकारी प्रोजेक्ट भी दिलाए.

  • पूर्व सांसद - हनी ट्रैप का शिकार होने के बाद महिला को बड़ी रकम दी थी.

  • बड़े नेता - एक राजनैतिक पार्टी संगठन के बड़े नेता हैं. पार्टी के कई नेताओं के साथ नौकरशाहों से मुलाकात में मदद की.

  • डीजी रैंक के अधिकारी - बड़े पद पर हैं. लूप लाइन में लंबे समय तक रहने के दौरान हनी ट्रैप में फंसे थे.

  • एडीजी रैंक के अधिकारी - एक शाखा में लंबे समय से पदस्थ हैं. सांस्कृतिक कार्यक्रम के चलते महिला से पहचान हुई.

  • 5 आईएएस अधिकारी- मंत्रालय में एनजीओ के काम से बार-बार जाने की वजह से पहचान हुई. इनमें से कई अफसर फील्ड में पदस्थ हैं.


आईएएस अधिकारी का वीडियो किया था वायरल
पकड़े गए रैकेट ने ही एक सीनियर आईएएस अधिकारी का आपत्तिजनक वीडियो बनाकर वायरल किया था. पुलिस की जांच जारी है और शिकायतकर्ता के सामने आने के बाद कई और बड़े खुलासे होने की संभावना है.

ऐसे शुरू हुआ हनी ट्रैप
हनी ट्रैप करने वाले आरोपियों के बारे में बताया जा रहा है कि सबसे पहले आरोपियों ने छोटे अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ कारोबारियों को अपना निशाना बनाया था. इसके बाद आरोपियों ने राजनेताओं के बीच अपनी पकड़ को मजबूत करना शुरू कर दिया. राजनीतिक दलों के बीच मजबूत पकड़ होने के बाद आरोपियों ने कई नेताओं को हनी ट्रैप में फंसाया. इन्हीं नेताओं के सहारे कई सरकारी प्रोजेक्ट भी लिए और इसके बाद ब्यूरोक्रेट्स के बीच इनका उठना-बैठना शुरू हुआ. अब इस गिरोह के निशाने पर छोटे अधिकारी-कर्मचारी नहीं, बल्कि बड़े नौकरशाह और राजनेता होते थे.

यह भी पढ़ें - Honey Trap Racket : IAS-IPS अफसरों और नेताओं को ब्लैकमेल कर रही थीं 'हनी'!

हनी ट्रैप: कमलनाथ के मंत्री का आरोप- BJP नेता के इशारे पर चल रहा था रैकेट

मध्य प्रदेश में हनी ट्रैप रैकेट: इंदौर में FIR के बाद 5 महिलाएं एक पुरुष हिरासत में!

Honey Trap Racket: बीजेपी के राकेश सिंह बोले- गलती करने वाला सजा भुगतने को तैयार रहे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 7:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...