लाइव टीवी

मध्य प्रदेश के कूनो पालपुर और नौरादेही अभ्यारण्य में रफ्तार भरेंगे नामिबिया के चीते
Bhopal News in Hindi

Anurag Shrivastav | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 30, 2020, 8:13 AM IST
मध्य प्रदेश के कूनो पालपुर और नौरादेही अभ्यारण्य में रफ्तार भरेंगे नामिबिया के चीते
देश में अफ्रीकी चीता लाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) ने प्लान पर काम शुरू कर दिया है.

  • Share this:
भोपाल. सात दशक पहले देश से विलुप्त हुए चीते (Leopard) अब फिर से रफ्तार भरते नजर आएंगे. प्रदेश के श्योपुर (Sheopur), कूनो पालपुर और सागर के नौरादेही अभ्यारण्य में चीतों की रफ्तार देखने को मिल सकेगी. टाइगर स्टेर का दर्जा पाने के बाद कमलनाथ सरकार ने अब नामिबिया (Namibia) से चीतों को लाकर प्रदेश में बसाने की तैयारी को तेज कर दिया है. राज्य सरकार ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद अफ्रीका से चीता लाकर देश में बसाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

प्रदेश के वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा है कि कूनो पालपुर और नौरादेही अभ्यारण्य चीता को बसाने के लिए सही जगह है और प्रदेश सरकार इसके लिए जल्द खाका तैयार कर अफ्रीकी चीता लाने की कोशिश करेगी. वन मंत्री ने कहा है कि केंद्र ने इससे पहले कूनो पालपुर और नौरादेंही अभ्यारण्य को चीता बसाने के लिए उपयुक्ता माना था और सरकार ने इसी के तहत पहले नामीबिया से चीता लाने का प्लान बनाया था. लेकिन आपत्तियों के कारण ये योजना अधर में लटक गई थी. अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राज्य सरकार एक महीने में रिपोर्ट तैयार कर केंद्र को चीता बसाने का प्रस्ताव सौपेगी.

कोर्ट के निर्देश पर गठित समिति लेगी फैसला
देश में अफ्रीकी चीता लाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है जो कि हर चार महीने में इससे जुड़ी प्रोग्रेस रिपोर्ट कोर्ट को सौपेगी और उसी की तहत चीता लाने की कवायद होगी. लेकिन एमपी सरकार का मत है कि प्रदेश के अभ्यारण्य में चीता लाने को लेकर उसकी पूर्व से ही तैयार है और उसी के तहत समिति को प्रस्ताव भेजा जाएगा. प्रदेश के वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा है कि कूनो पालपुर में गिर के लायन बसाने को लेकर पीएम मोदी को पत्र लिखा था, जिसका जवाब गोल मोल आया है. अब केंद्र गुजरात के शेर प्रदेश में लाने को लेकर नानुकर कर रही है लेकिन प्रदेश सरकार के प्रयास जारी है.

ये भी पढ़ें- 

SYL के मुद्दे पर अनिल विज ने अभय चौटाला को लिया आड़े हाथ, कही ये बात

बांदा में भीषण सड़क हादसा: ब्रेक फेल होने से बस पलटी, 40 यात्री घायल, 14 गंभीर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 6:04 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर